इस रहस्य से आज भी नहीं उठा है पर्दा, ये शख्स हो गया था आसमान से ही गायब

  • अमेरिका के प्लेन से हो गया था ये शख्स गायब
  • एफबीआई समेत पुलिस नहीं कर पाई थी कुछ

By: Prakash Chand Joshi

Published: 03 Dec 2019, 12:16 PM IST

नई दिल्ली: ये दुनिया काफी बड़ी है, जिसमें अगर कोई खो जाए तो मिलना काफी कठिन होता है। ऐसे ही आपने सुना होगा कि कोई बच्चा खेलते-खेलते अपने घर से दूर निकल गया और फिर खो गया। लेकिन क्या आपने कभी ये सुना है कि कोई इंसान आसमान में उड़ रहे हवाई जहाज में बैठा हो और आसमान से ही गायब हो गया हो। शायद नहीं, लेकिन हम आपको अमेरिका ( America ) की इस रहस्यमयी घटना को बताने जा रहे हैं।

air1.png

हैदराबाद गैंगरेप-हत्या केस: 'दिशा' के हत्यारों में से एक है ‘किडनी का मरीज, लेकिन अभी नहीं किया जाएगा इलाज...

बात 48 साल पहले यानि साल 1971 की है। एक शख्स सूट-बूट पहनकर अपने हाथ में एक काले रंग का बैग लेकर अमेरिका के एयरपोर्ट पर पहुंचा। इस शख्स का नाम डैन कूपर बताया गया था, उसे डीबी कूपर के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन ये उसका असली नाम था ही नहीं। उसने काउंटर पर जाकर सीएटल जाने वाली फ्लाइट बोइंग-727 विमान का टिकट लिया। इसके बाद वो प्लेन में गया और सबसे पीछे वाली सीट पर बैठ गया क्योंकि उसे यही सीट मिली थी। लेकिन हैरान करने वाली बात ये थी कि बाकी यात्रियों की तरह उसने बैग को ऊपर नहीं रखा और अपने पास ही रखकर बैठा।

air2.png

विमान ने जैसे ही एयरपोर्ट ( airport ) से उड़ान भरी, वैसे ही कूपर ने फ्लाइट अटेंडेंट को एक कागज का टुकड़ा दिया। कहा जाता है कि तब अटेंडेंट को लगा कि वह कोई बिजनेसमैन है और उसे अपना नंबर दे रहा है। हालांकि अटेंडेंट ने उस कागज को ले लिया, लेकिन उसे पढ़ते ही वो सन्न रह गई क्योंकि इस कागज पर लिखा था 'मेरे पास बम है'। कूपर ने फ्लाइट अटेंडेंट को अपना बैग खोलकर भी दिखाया, जिसमें सचमुच में एक बम था। इसके बाद कूपर ने उसे अपनी सारी शर्तें बताई और कहा कि विमान को नजदीकी एयरपोर्ट पर लैंड कराया जाए और उसमें फिर से ईंधन भरा जाए। इसके साथ ही उसने दो लाख डॉलर (आज के हिसाब से करीब एक करोड़ 36 लाख रुपये) और चार पैराशूट की भी मांग की।

air3.png

इसके बाद ये बात पायलट को बताई गई और उन्होंने विमान हाइजैक और कूपर की मांगों के बारे में सिएटल के एयर ट्रैफिक कंट्रोल को सूचना दी। ये सुनते ही अफरातफीर मच गई। पुलिस और एफबीआई हरकत में आई। वहीं सरकार ने विमान में मौजूद लोगों की सुरक्षा को प्रथम रखते हुए कूपर की सारी मांगे मान ली, लेकिन एफबीआई ने कूपर को दिए जाने वाले पैसों के नोटों के नंबर नोट कर लिए ताकि कूपर को पकड़ा जा सके। इसके बाद कूपर का असली मिशन शूरू हुआ। उसने पायलट को कहा कि विमान को मैक्सिको ले चलो। दूसरी तरफ अमेरिकी एयरफोर्स ने अपने दो विमान उस विमान के पीछे लगा दिए, ताकि कूपर को पकड़ा जा सके।

air4.png

वहीं इसके बाद कूपर ने सभी पायलट को रूम में जाने को कहा और सब को हिदायत दी कि दरवाजा अंदर से बंद रखे। वहीं जब थोड़ी देर बाद पायरल को विमान में हवा के दबवा में फर्क महसूस हुआ, तो उन्होंने बाहर जाकर देखा। सामने नजारा ये था कि विमान का दरवाजा खुला था। पायलट ने तुरंत दरवाजा बंद किया और कूपर को विमान में ढूंढा, लेकिन वो नहीं मिला। वहीं जब विमान एयरपोर्ट पर उतरा तो विमान को चारों तरफ से घेर लिया गया, ताकि कूपर को पकड़ा जा सके। लेकिन वो आज तक नहीं मिला क्योंकिं वो तो पहले ही आसमान से कूद चूका था।

Show More
Prakash Chand Joshi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned