ऐसे जैकेट बनाने के लिए हर साल लाखों-करोड़ों बिल्लियों को मार दिया जाता है, रोंगटे खड़े कर देगी पूरी सच्चाई

ऐसे जैकेट बनाने के लिए हर साल लाखों-करोड़ों बिल्लियों को मार दिया जाता है, रोंगटे खड़े कर देगी पूरी सच्चाई

Sunil Chaurasia | Publish: May, 18 2018 03:43:46 PM (IST) अजब गजब

वियतनाम में तो बिल्लियों को मारकर उनका मीट खाया जाता है। लेकिन उनकी खाल का क्या होता है, इसके बारे में अब हम आपको बताने जा रहे हैं।

नई दिल्ली। वियतनाम में बिल्ली के मीट के व्यापार के बारे में तो हमने आपको बताया ही था, कि कैसे वहां बिल्लियों को खौलते हुए पानी में उबालकर मार देते हैं। जिससे वे यहां के लोगों के लिए स्वादिष्ट भोजन तैयार कर सकें। लेकिन आज हम आपको ऐसी ही एक खबर बताने जा रहे हैं, जिसे पढ़ने के बाद आपकी रूह कांप जाएगी। आज हमारी ये खबर भी बिल्लियों से ही जुड़ी हुई है। वियतनाम में तो बिल्लियों को मारकर उनका मीट खाया जाता है। लेकिन उनकी खाल का क्या होता है, इसके बारे में अब हम आपको बताने जा रहे हैं।

दरअसल चीन के इनर मंगोलिया में बिल्लियों की खाल से बने जैकेट धड़ल्ले से बिक रहे हैं। इतना ही नहीं यहां बाघों के पंजे से बनी दवाइयां भी गैर-कानूनी तरीके से खुलेआम बेची जा रही हैं। इसके साथ ही यहां की गलियों में कैद में बंद पिल्लों को तड़पता हुआ देखा जा सकता है। PETA UK के मुताबिक अनगिनत बिल्लियों को बड़ी ही बेरहमी से मार दिया जाता है, ताकि उनकी खाल का इस्तेमाल किया जा सके। लेकिन सबसे ज़्यादा हैरानी की बात तो ये है कि यहां के लोग पालतू बिल्लियों का अपहरण भी कर लेते हैं, ताकि उन्हें मार कर कपड़े बनाए जा सकें।

रिपोर्ट के मुताबिक यहां बिकने वाले बिल्ली की खाल से बने जैकेट की कीमत करीब 25 पाउंड (ब्रिटिश पाउंड) होती है। यहां बनने वाले बिल्ली के खाल के जैकेट पूरे चीन समेत दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में भी एक्सपोर्ट किए जाते हैं। यहां के पारंपरिक बाज़ारों में हिरण के सींग भी खुलेआम बिक्री के लिए रखे रहते हैं। ये बाज़ार इनर मंगोलिया की राजधानी होहोट के सुदूर इलाके में स्थित है। चीन का यह बाज़ार राजधानी बीजिंग से 5 घंटे की ड्राइविंग डिस्टेंस पर स्थित है। आपको जानकर हैरानी होगी कि होहोट में आपको पालतू बिल्लियां चिराग लेकर ढूंढने पर भी नहीं मिलेंगी।

Ad Block is Banned