scriptmysterious life of women naga sadhu | नागा साधु बनने के लिए महिलाओं करना पड़ता है अपना पिंडदान, बिताती हैं ऐसा रहस्यमयी जीवन | Patrika News

नागा साधु बनने के लिए महिलाओं करना पड़ता है अपना पिंडदान, बिताती हैं ऐसा रहस्यमयी जीवन

नागा साधु बनने से पहले महिलाओं को पहले 6 से 12 साल तक कठिन बृह्मचर्य का पालन करना होता है।

नई दिल्ली

Published: December 23, 2018 02:46:22 pm

नई दिल्ली: 15 जनवरी से प्रयागराज में कुंभ के महापर्व शुरू हो रहा है। कुंभ हिन्दू धर्म के अनुयायियों की आस्था से जुड़ा पर्व है। कुंभ मेले में स्नान करने के लिए पूरे देश से श्रद्धालु आते हैं। कुंभ मेले में नागा साधु सबके आकर्षण का क्रेंद होते हैं। बता दें, नागा साधुओं की दुनिया बहुत रहस्यमयी होती है। खासतौर से महिला नागा साधुओं की। आज हम आपको महिला नागा साधुओं से जुड़ी हुई कुछ रोचक जानकारी आपको बताने जा रहे हैं।
kumbh
12 साल तक कठिन बृह्मचर्य

नागा साधु बनने से पहले महिलाओं को पहले 6 से 12 साल तक कठिन बृह्मचर्य का पालन करना होता है। इसके बाद अगर गुरू को लगे की यह दीक्षा के लायक है तो उसे ही दीक्षा दी जाती है। इस समुदाय के संत किसी भी महिला को अपने साथ रखने से पहले उसके परिवार की जानकारी करते है।
अपना पिंडदान करती हैं महिलाएं

नागा साधु बनने से पहले महिला को खुद का पिंडदान करना पड़ता है। जैसे हम लोग किसी की मृत्यु के बाद करते है। इसमें बस एक ही बार महिला की मर्जी चलती है वह ये कि वह कौन से मठ से शिक्षा लेना चाहती है। इसके बाद उसके आचार्य ही सबकुछ तय करते हैं।
मुंडन के बाद नदी में होता स्नान

नागा साधु बनने से पहले महिला का मुंडन करवाया जाता है और उसे नदी में स्नान कराया जाता है। इसके बाद उनको उनकी दिनचर्या के बारे मे सिखाया जाता है, जहां उनको ब्रह्म मुहर्त मे उठना पड़ता है और पूरे दिन भगवान शिव का जाप करना पड़ता है। दोपहर में भोजन कराया जाता है। कुछ देर आराम के बाद फिर से जाप शुरू कर दिए जाते है। शाम को दत्रातय भगवान की पूजा की जाती है और उसके बाद शयन। नदी मे स्नान करते समय नागा साध्वी अन्य संतों के साथ ही स्नान करती है, जबकि उन्हें मठ में पूर्ण सम्मान दिया जाता है।
साधु बनने के बाद 'माता' कहकर बुलाते हैं संत

जब कोई महिला नागा साधु बन जाती है तो सब संत उसे माता कहकर संबोधित करते है। वस्त्रों में नागा साध्वी सिर्फ भगवा रंग का चौला धारण करती है। साधु बनने से पहेल साध्वी को यह साबित करना होता है कि उसका समाज व परिवार से कोई संबंध नहीं है।
 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Delhi News Live Updates: दिल्ली में आज भी मेहरबान रहेगा मानसून, आईएमडी ने जारी किया बारिश का अलर्टLPG Price 1 July: एलपीजी सिलेंडर हुआ सस्ता, आज से 198 रुपए कम हो गए दामJagannath Rath Yatra 2022: देशभर में भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की धूम, अमित शाह ने अहमदाबाद में की 'मंगल आरती'Kerala: सीपीआई एम के मुख्यालय पर बम से हमला, सीसीटीवी में कैद हुआ आरोपीRBI गवर्नर शक्तिकान्त दास बोले- खतरनाक है Cryptocurrencyमहाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.