एक ऐसा स्कूल जो बच्चों को पढ़ाने के लिए कर रहा है इस चीज़ की डिमांड, मामला जान आप भी रह जाएंगे दंग

एक ऐसा स्कूल जो बच्चों को पढ़ाने के लिए कर रहा है इस चीज़ की डिमांड, मामला जान आप भी रह जाएंगे दंग

Nitin Sharma | Updated: 23 Jun 2019, 04:31:09 PM (IST) अजब गजब

  • Nigeria में बच्चों से स्कूल फीस के बदले प्लास्टिक की बोतलें ली जा रही हैं।
  • School का मानना है कि इसकी वजह से अब बच्चों को पैसों की कमी के कारण पढ़ाई नहीं छोड़नी पड़ेगी

नई दिल्ली। स्कूल ( School ) में शिक्षा ग्रहण करना हर बच्चे का अधिकार है। लेकिन कुछ बच्चे पैसों की कमी की वजह से स्कूल में अच्छी शिक्षा नहीं ले पाते। कोई भी मां-बाप यह नहीं चाहेंगे कि उनके बच्चे शिक्षा के वंचित रहें लेकिन आर्थिक समस्या ऐसी होती है जिससे पार पाना कई स्थितियों में बहुत मुश्किल है।

लेकिन आज हम आपको एक ऐसे स्कूल के बारे में बताने जा रहे हैं जहां बच्चों को पढ़ाने के बदले फीस ( Fees )नहीं ली जाती। आपको यह जानकर यकीन नहीं होगा कि जहां आज के समय में स्कूल अभिभावकों से फीस के नाम पर मोटी रकम की डिमांड करते हैं ऐसे में एक स्कूल ऐसा भी है जो बच्चों को पढ़ाने के बदले बेकार प्लास्टिक की बोलते लेता है।

यहां फूलों से नहीं कीचड़ से होता है बरातियों का स्वागत, किस्सा जान रोक नहीं पाएंगे हंसी

nigeria school

असल में यह स्कूल नाइजीरिया ( Nigeria a )के लागोस का है जिसका नाम मॉरिट इंटरनेशनल स्कूल बताया गया है। यह स्कूल बच्चों को पढ़ाने के लिए पैसे नहीं बल्कि बेकार प्लास्टिक की बोतलें लेता है। जानकारी के मुताबिक मॉरिट इंटरनेशनल स्कूल द्वारा इस काम को करने के पीछे दो कारण बताए गए हैं। मॉरिट इंटरनेशनल स्कूल का मानना है कि ऐसा करने की पहली वजह तो यह है कि इससे पर्यावरण साफ होता है और दूसरा जिन लोगों के पास फीस देने के लिए पैसे नहीं हैं वे स्कूल फीस के बदले में प्लास्टिक की बोतलें ( plastic bottles ) देकर अपने बच्चों को शिक्षा दिला सकते हैं।

बेटे को अच्छी शिक्षा दिलाना चाहता है ये दिव्यांग पिता, पैसों के लिए अपनी किडनी बेचने को भी है तैयार

स्कूल का मानना है कि इन प्लास्टिक की बोलतों को बेचने से जो पैसा मिलेगा उसे बच्चों की पढ़ाई में इस्तेमाल किया जाएगा। साथ ही स्कूल का मानना है कि इस योजना के शुरू होने से बच्चों को पढ़ाई के दौरान पैसों की कमी की वजह से स्कूल नहीं छोड़ना पड़ेगा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned