पुरुषों की इस लत से परेशान हैं पत्नियां, दे रही हैं तलाक

पति और पत्नी का रिश्ता विश्वास पर टिका होता है। अक्सर देखा जाता है कि कई बार दोनों के बीच में कुछ खट्टी मीठी नोकझोंक देखने को मिलती है। लेकिन बाद में दोनों के बीच सब कुछ सामान्य हो जाता है। वहीं कुछ गलफमी के कारण रिश्ते में दरार भी आ जाती है।

By: Shaitan Prajapat

Published: 26 Oct 2020, 05:32 PM IST

पति और पत्नी का रिश्ता विश्वास पर टिका होता है। अक्सर देखा जाता है कि कई बार दोनों के बीच में कुछ खट्टी मीठी नोकझोंक देखने को मिलती है। लेकिन बाद में दोनों के बीच सब कुछ सामान्य हो जाता है। वहीं कुछ गलफमी के कारण रिश्ते में दरार भी आ जाती है। कई बार दोनों के बीच तलाक की नौबत आ जाती है। हालांकि इंडोनेशिया में इन दिनों तलाक देने का अनोखा मामला सामने आया है। बताया जा रहा है इंडोनेशिया के पुलबलिंगा में महिलाएं अपने आदमी की अनोखी लत से काफी परेशान हैं और वह अपने आदमी को तलाक दे रही है। बताया जा रहा है। कबूतरबाजी से परेशान होकर महिलाओं यह कदम उठाया है।


कबूतर के कारण तलाक
आमतौर पर सफेद कबूतर शांति और प्यार का प्रतीक होता है। लेकिन इंडोनेशिया के पुलबलिंगा में यही इसके विपरीत हो रहा है। यहां कबूतर तलाक के कारण तलाक के मामले बढ़ रहे है। एक रिपोर्ट के अनुसार सेंट्रल जावा प्रांत में पिछले कुछ महीनों तलाक के 90 से अधिक मामले आए हैं, जबकि इससे पहले 77 मामले आए थे। कोर्ट के क्लर्क नूर अफलाह अनुसार इनमें ज्यादातर अर्जी महिलाओं द्वारा लगाई गई हैं।

 

यह भी पढ़े :— इस मंदिर में होती है सिर्फ मेंढक की पूजा, तंत्रवाद के लिए है मशहूर

divorces

यह भी पढ़े :— महिला ने बताया 2019 और 2020 में अंतर, देखिए रोचक तस्वीरें

घर को भी दाव पर लगा देते है आदमी
क्लर्क नूर का कहना है कि महिलाए माली हालत के कारण अपने आदमी से तलाक लेना चाहती हैं। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि उनके पतियों को कबूतर रेसिंग की लत लग गई है। वे काम पर जाने के बजाय कबूतर उड़ाते रहते हैं। जकार्ता पोस्ट के अनुसार पूरे इंडोनेशिया में कबूतर रेस काफी लोकप्रिय है। यहां लोग आपस में पैसों की बाजी लगाते हैं। पैसे नहीं होने पर घर का समान तक जुए में लगा देते हैं। कभी-कभी तो लोग अपना घर तक दांव में लगा देते हैं। सबसे तेज पक्षी हजारों रुपए में बिकता है।

पूरे दिन कबूतर रेस
क्लर्क नूर के अनुसार, पुलबलिंगा में ज्यादातर पुरुष बेरोजगार हैं और महिला वर्कर्स ज्यादा हैं। यहां आदमियों को पायलट कहा जाता है। ये पायलट प्लेन नहीं उड़ाते बल्कि कबूतर उड़ाते हैं। महिलाएं इस बात को लेकर काफी परेशान रहती है कि उनके पति सारा दिन कबूतर रेस में बिता देते हैं। काम पर नहीं जाते हैं और परिवार को भी समय नहीं दे रहे है। बाकी समय कबूतर की देखरेख में लगे रहते हैं। ऐसे में बच्चों के लिए दो वक्त की रोटी भी जुटाने में दिक्कत हो रही है। तलाक मांगने वाली एक महिला ने बताया कि उसका पति कभी-कभी कबूतर रेस में जीती रकम देता है। पर ज्यादातर पैसा वो रेस और सिगरेट पर खर्च कर देता है। गुजारा मुश्किल से होता है।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned