मरने के बाद फिर जिंदा हो गया कैदी, रिहाई के लिए दाखिल की दर्जनों याचिकाएं, पढ़ें पूरा मामला

बेंजामिन श्रेइबर कुछ समय के लिए मर गया था। बाद में डॉक्टरों के प्रयास से उसकी सांसे दोबारा चलने लगीं।
श्रेइबर ने तीन सदस्यीय बेंच से मांग की कि उसे अब अपनी नई जिन्दगी जेल से बाहर जीने का मौका दिया जाए।

By: Shaitan Prajapat

Published: 10 Jan 2021, 11:03 AM IST

नई दिल्ली। जीवन और मरण इस संसार का शाश्वत सत्य है। जो जन्म लेता है, उसकी एक ना एक दिन मृत्यु होनी ही है। इंसान एक बार मौत की नींद सो जाता है कि वह फिर कभी भी नहीं उठता है। लेकिन कई बार मौत के कुछ समय बाद इंसान फिर से जिंदा हो उठता है। इस प्रकार के कई मामले सामने आ चुके है। हाल ही एक ऐसा ही मामला अमेरिका के आयोवा से सामने आया है। खबरों के अनुसार, आजीवन कारावास की सजा काट रहे एक कैदी की अचानक मौत हो गई है। फिर एक चमत्कार हुआ और वह मरने के बाद दोबारा जीवत हो गया। अब इस कैदी को जेल से बरी करने की बाते सामने आ रही है।

चार साल पहले हो गई थी मौत
यह अनोखा मामला अमेरिका के आयोवा से सामने आया है। मौत को मात देने वाले इस कैदी के लिए कहा जाता है कि अब उसे रिहा कर देना चाहिए। अपील की जा रही है कि उसे नई जिंदगी मिली है इसलिए उसे रिहा कर देना चाहिए। आजीवन कारावास की सजा काट रहे एक कैदी बेंजामिन श्रेइबर ने अदालत में अपील दायर की है कि उसकी मौत चार साल पहले हो गई है और उसे अब बाहर जीने दिया जाए।

यह भी पढ़े :— इस परिवार ने मां, बहन रिश्तेदारों संग 23 बार रचाई शादी, फिर दे दिया तलाक, यहां पढ़े पूरा मामला

रिहाई के लिए दर्जनों याचिकाएं
दरअसल, साल 2015 में बेंजामिन श्रेइबर कुछ समय के लिए मर गया था। लेकिन डॉक्टरों ने काफी मेहतन की और उनकी यह मेहनत सफल भी हुई। जिसकी बदोलत वो आज जिंदा है। श्रेइबर ने तीन सदस्यीय बेंच से मांग की कि उसे अब अपनी नई जिन्दगी जेल से बाहर जीने का मौका दिया जाए। बताया जा रहा है कि अपनी रिहाई के लिए श्रेइबर दर्जनों याचिकाएं दाखिल कर रखी है। 2018 मे वपैलो की एक अदालत में उसने फिर याचिका दायर कर कहा कि जब वह 2012 में बीमारी से मर चुका था तब उसे उसकी इच्छा के विरूद्ध डॉक्टरों ने जीवित किया।

Show More
Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned