इस गांव में होती है रावण की पूजा, दशहरा के दिन छा जाता है मातम

इस गांव में होती है रावण की पूजा, दशहरा के दिन छा जाता है मातम

Sunita Adhikari | Publish: Oct, 08 2019 03:00:53 PM (IST) अजब गजब

  • आज पूरे देश में मनाया जाएगा दशहरा
  • गांव के लोग रोज करते हैं रावण की पूजा

नई दिल्ली: पूरे देश में आज दशहरा मनाया जाएगा। दशहरा के दिन रावण को असत्य का प्रतीक मानकर जगह-जगह उसके पुतले जलाए जाएंगे। लेकिन अपने ही देश में एक गांव ऐसा है, जहां रावण को जलाया नहीं जाता बल्कि उसकी पूजा की जाती है । इस गांव के लोग प्राचीन समय से ही रावण को पूजते हैं। इतना ही नहीं भले ही देशभर में दशहरा काफी धूमधाम से मनाया जाता हो लेकिन इस गांव के लोग दशहरे के दिन बेहद गमगीन रहते हैं और रावन के लिए तरह-तरह की पूजा करते हैं।

ravan_2.jpeg

मंडला जिले के वन ग्राम डुंगरिया में रावण को गोंडवाना भू-भाग गोंडवाना साम्राज्य का महासम्राट, महाज्ञानी, महाविद्वान और अपना पूर्वज मानकर दशहरा के दिन उसकी पूजा करते हैं। यहां रावण का एक मंदिर भी बनाया गया है जो अभी कच्चा व घास-फूंस का बनाया हुआ है। उसे रावण के अनुयायी भव्य मंदिर में तब्दील करना चाहते हैं।

ravan_3.jpeg

दशहरा में जब पूरे देश में रावण का पुतला जलाया जाएगा तब गांव के इस छोटे मंदिर में रावण का पूजन किया जाएगा। रावण के इस मंदिर में रावण की पूजा होती है और उसके नाम के जयकारे भी लगाए जाते हैं। यहां के लोगों का कहना है कि रावण एक महान विद्वान, महान संत, वेद शास्त्रों का आचार्य, महापराक्रमी, दयालु राजा था। ये राम-रावण युद्ध को आर्यन और द्रविण का युद्ध मानते हैं. रावण को वे अपने पुरखा व पूर्वज मानकर उसकी पूजा कर रहे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned