5 बुज़ुर्गों को दो साल तक रोजाना दी गई वायग्रा की 2 गोलियां, सामने आए ऐसे नतीजे..नहीं होगा विश्वास

5 बुज़ुर्गों को दो साल तक रोजाना दी गई वायग्रा की 2 गोलियां, सामने आए ऐसे नतीजे..नहीं होगा विश्वास

Sunil Chaurasia | Publish: Aug, 12 2018 03:26:12 PM (IST) अजब गजब

अपने टेस्ट के बाद वैज्ञानिकों ने दावा किया कि इससे एक अंधे व्यक्ति को दृष्टि मिल सकती है।

नई दिल्ली। अमेरिका के न्यूयॉर्क स्थित कोलंबिया यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने वायग्रा को लेकर एक बेहद ही चौंकाने वाला खुलासा किया है। जैसा कि ये सभी लोग जानते हैं कि आमतौर पर वायग्रा का प्रयोग शारीरिक संबंध बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन वैज्ञानिकों ने इस बार इसके एक बेहद ही अजीबो-गरीब फायदे बताए हैं। वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि वायग्रा से अंधेपन का चमत्कारी इलाज किया जा सकता है। वैज्ञानिकों द्वारा किए गए टेस्ट में पाया गया कि वायग्रा, उम्र संबंधी पतन (age-related macular degeneration, or AMD) को रोक सकता है। वैज्ञानिक वायग्रा को लेकर पिछले दो साल से टेस्ट कर रहे थे, जिसके बाद ये परिणाम सामने आए हैं। हालांकि वैज्ञानिकों द्वारा किए जा रहे इस दावे पर यकीन करना काफी मुश्किल है।

अपने टेस्ट के बाद वैज्ञानिकों ने दावा किया कि इससे एक अंधे व्यक्ति को दृष्टि मिल सकती है। टेस्ट के परिणामों की मानें तो वायग्रा उन रोगियों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है, जिनकी दृष्टि दिन-प्रतिदिन कमज़ोर पड़ती जा रही है। इतना ही नहीं इसकी मदद से पूरी तरह से जा चुकी दृष्टि भी वापस मिल सकती है। एक अंग्रेजी़ वेबसाइट के मुताबिक AMD, ब्रिटेन में अंधेपन की मुख्य वजहों में से एक है। AMD से जुड़े इन मामलों में 90 फीसदी मामले dry AMD के हैं, जो धीरे-धीरे कई सालों से आता है। तो वहीं दूसरी ओर 10 फीसदी मामले wet AMD के होते हैं जो तीन महीने के भीतर ही इंसान की आंखों की शक्ति छीन लेता है।

Dry AMD आमतौर पर 50 साल से ज़्यादा उम्र के लोगों को शिकार बनाता है। कोलंबिया यूनिवर्सिटी में किए गए अध्ययन में पांच उम्रदराज AMD मरीजों को दो साल तक दिन में दो वायग्रा की गोलियां दी गईं। इस अध्ययन के नतीजे journal Ophthalmologica में प्रकाशित हुए। जिनमें वायग्रा के चमत्कारी नतीजे सामने आए, रिपोर्ट के मुताबिक पांच में से एक मरीज की दृष्टि में काफी सुधार हुआ और बाकि के चार मरीजों की खत्म हो रही दृष्टि को पूरी तरह से रोक लिया गया। रॉयल कॉलेज ऑफ़ ओप्थाल्मोलॉजिस्ट के प्रोफेसर शोभा शिवप्रसाद ने कहा कि वायग्रा से मिले नतीजे काफी उत्साहित रहे।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned