500 फीट की ऊंचाई से गिरकर भी बचा भारतीय किशोर

भारतीय मूल का अमरीकी किशोर पर्वतारोही माउंट हुड पर चढ़ रहा था जब दुर्घटनावश गहरी खाई में गिर गया

Mohmad Imran

January, 1306:02 PM

भारतीय मूल के 16 वर्षीय किशोर गुरबाज सिंह अमरीका के माउंट हूड (mount hood) पहाड़ों की बर्फीली चोटियों पर पर्ली गेट्स पॉइंट्स (pearly gates point) तक चढ़ चुके थे। लेकिन अचानक उन्होंने अपनी पकड़ खो दी और बर्फ से ढकी चट्टानों से 500 फीट नीचे गिर गए। लेकिन हैरानी की बात यह है कि इतनी ऊंचाई से गिरने के बाद भी उन्हें केवल पांव में चोट आई और वे जिंदा बच गए। पेशेवर पर्वतारोही भी इस क्षेत्र में क्लाइंबिंग से बचते हैं क्योंकि यहां सुरक्षा के बहुत कम उपाय हैं। गुरबाज की मदद के लिए सूचना के करीब 4घंटे बाद मेडिकल टीम आई थी।

500 फीट की ऊंचाई से गिरकर भी बचा भारतीय किशोर

अमरीकी वन विभाग के अनुसार 11,240 फीट की ऊंचाई के साथ माउंट हूड ओरेगन (oregon) क्षेत्र का सर्वोच्च पर्वत शिखर है और अमरीका में सबसे ज्यादा visit की जाने वाली बर्फीली चोटियों में से एक है। सालाना करीब 10 हजार लोग इस पर चढऩे का प्रयास करते हैं।

500 फीट की ऊंचाई से गिरकर भी बचा भारतीय किशोर

यहां चढ़ाई कितनी खतरनाक है इसका अंदाजा ओरेगोनियन अखबार के 1883 से बनाए गए डेटाबेस से लगाया जा सकता है। अब तक इसे चढऩे के दौरान कम से कम 126 लोगों की मौत हो चुकी है। आखिरी हादसा फरवरी 2016 में हुआ था जब पोर्टलैंड (portland) के 35 वर्षीय पर्वतारोही मिहा सुमी की 1000 फीट से गिरने से मौत हो गई थी। गुरबाज की यह 90वें चढ़ाई थी। वे ब्रिटिश कोलंबिया के वैंकुवर (vanccuvour) से यहां अपने दोस्त के साथ आए थे।

500 फीट की ऊंचाई से गिरकर भी बचा भारतीय किशोर
Mohmad Imran
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned