अपने मरे हुए बेटे की बगल में बैठ मां बहा रही थी आंसू, तभी हुआ ऐसा चमत्कार

अपने मरे हुए बेटे की बगल में बैठ मां बहा रही थी आंसू, तभी हुआ ऐसा चमत्कार

Priya Singh | Publish: Jul, 11 2019 10:04:04 AM (IST) अजब गजब

  • ( Telangana ) तेलंगाना में ब्रेन डेड पड़ा लड़का हुआ ठीक
  • डॉक्टरों के खड़े कर दिए थे हाथ
  • मां की पुकार सुन बेटे की आंखों से बहने लगे आंसू

नई दिल्ली। मां की ममता में कितना असर होता है इस बात का सबूत ये खबर है। तेलंगाना ( Telangana ) में सूर्यापेट ज‍िले के प‍िल्लालमैरी गांव के रहने वाले 18 वर्षीय गंधम क‍िरन को डॉक्टरों ने ब्रेन डेड ( brain dead ) घोषित कर दिया था। कोमा ( coma ) के बाद ब्रेन पड़े इस लड़के के परिवार ने सारी आस खो दी थी। किशोर के अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही थी तभी कुछ ऐसा हुआ जिसे देख गांववाले हैरान रह गए। दरअसल, अपने नौजवान को इस हालत में देख उसकी मां उसे अंतिम विदाई देने को तैयार न थी। मां अपने लाडले के पास में बैठ रो रही थी। मां की करुणा भरी पुकार सुन गंधम की आंखों से आंसू बहने लगे।

गंधम को दोबारा ज़िंदा देख परिवार वाले उसे तुरंत अस्पताल ले गए कुछ दिनों में उसकी हालत में काफी हद तक सुधार आया है। बता दें कि 26 जून को गंधम को बुखार के साथ उल्टी होने की शिकायत हुई। उसके घर वालों ने उसे ज़िला अस्पताल में भर्ती कराया दो दिन बाद उसकी तबियत और बिगड़ने लगी तो उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। 5 दिन तक गंधम कोमा में रहा जिसके बाद डॉक्टर ने हाथ खड़े कर दिए और उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया। डॉक्टर ने साफ तौर पर कह दिया कि उसका बचना मुश्किल है। गंधम को लाइफ सपोर्ट सिस्टम से हटा दिया गया और उसकी बॉडी को घर ले जाने की सलाह दी गई।

brain dead boy came alive

गंधम की मां सैदम्मा ने डॉक्टरों से कहा कि वो उसे लाइफ सपोर्ट सिस्टम के साथ ही घर ले जाना चाहती है। सैदम्मा अपने बेटे को घर ले आई। सगे संबंधी लड़के के अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहे थे। लेकिन मां की पुकार सुन गंधम में फिर जान आ गई। तुरंत स्थानीय डॉक्टर को बुलाया गया उन्होंने नब्ज़ जांची तो वह चल रही थी। बिना देर किए लड़के को सूर्यापेट अस्पताल ले जाया गया। वहां तत्काल प्रभाव से उसे चार इंजेक्शनों के डोज लगाए गए। धीरे-धीरे उसकी हालत में सुधार आने लगा। घटना के तीन दिन बाद गंधम ठीक होने लगा है और धीमी-धीमी आवाज़ में बात भी करने लगा है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned