एक ऐसी घड़ी भी जिसमें कभी नहीं बज सकते 12, इसके पीछे जुड़ा है अनोखा रहस्य

  • 12 अंक को अशुभ माना जाता है
  • घड़ी मेें 12 अंक का अपना अलग महत्व है
  • लेकिन एक घड़ी में कभी 12 नहीं बजते

Piyush Jayjan

December, 0312:27 PM

नई दिल्ली। अक्सर आपने लोगों को ये कहते सुना हुआ होगा कि भई अपने तो 12 बजे हुए हैं। अमूमन हमारे देश में 12 अंक को शुभ नहीं माना जाता है। लेकिन फिर भी घड़ी में नंबर 12 के अलग ही मायने है। हालांकि आपको ये जानकार भी हैरानी होगी कि दुनिया में एक ऐसी भी घड़ी है, जिसमें कभी 12 बजे बजते ही नहीं है।

इसके पीछे की सच्चाई जानकर आप हैरान हो जाएंगे। यह घड़ी स्विटजरलैंड के सोलोथर्न शहर में है। जो कि टाउन स्क्वेयर पर लगी है। दरअसल उस घड़ी में घंटे के सिर्फ 11 अंक ही हैं। उसमें से नंबर 12 गायब है। वैसे यहां पर और भी कई घड़ियां हैं, जिसमें 12 नहीं बजते।

solothurn-clockface-with-11-digits.jpg

लेकिन इसके पीछे की वजह भी काफी दिलचस्प है। इस शहर लोगों को 11 नंबर से काफी लगाव है। यहां की जो भी चीजे हैं, इसलिए यहां के ज्यादातर डिजाइन 11 नंबर के इर्द-गिर्द घूमते रहते हैं। इस शहर में चर्च और चैपलों की संख्या 11-11 ही है।

इसके अलावा यहां मौजूद संग्रहालय, और टावर भी 11 नंबर के हैं। यहां के सेंट उर्सूस के मुख्य चर्च में भी 11 नंबर का महत्व साफ दिखता है। यह चर्च 11 साल में ही बनकर तैयार हुआ था। इस चर्च में तीन सीढ़ियों का सेट है और हर सेट में 11 पंक्तियां हैं।

इसके अलावा इसमें11 दरवाजे और 11 घंटियां भी हैं। जो कि इसे खास बनाते है। यहां के लोगों को 11 नंबर से इतना लगाव है कि वो अपने 11वें जन्मदिन को बिलकुल स्पेशल तरीके से सेलिब्रेट करते हैं। इस अवसर पर दिए जाने वाले तोहफे भी 11 नंबर से ही जुड़े होते हैं।

p070l3gb.jpg

इसके पीछे एक पुरानी मान्यता जुड़ी हुई है। एक समय में सोलोथर्न के लोग काफी मेहनती थे, लेकिन इसके बावजूद उनके जीवन में खुशियां नहीं थी। कुछ समय के बाद यहां की पहाड़ियों से एल्फ आने लगे और उन लोगों आने से वहां के लोगों के जीवन में बहार आ गई।

जर्मन भाषा में एल्फ का मतलब 11 होता है। एल्फ के बारे में जर्मनी की पौराणिक कहानियों में सुनने को मिलता है। इन कहानियों के मुताबिक एल्फ के पास अद्भुत शक्तियां होती हैं। इसलिए सोलोथर्न के लोगों ने एल्फ को 11 नंबर से जोड़ दिया और तब से यहां के लोगों को इस नंबर के प्रति अलग ही लगाव है।

 

Piyush Jayjan
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned