इस खास वजह के चलते ट्रक के पीछे लिखा जाता है 'Horn Ok Please', एक साबुन से जुड़ी हुई है बात

गाड़ियों के पीछे लिखे जाने वाले 'Horn Ok Please' का अर्थ क्या है? या इसे क्यों लिखा जाता है? आज हम आपको इस बारे में पूरी बात बताएंगे

By:

Published: 20 Jul 2018, 11:39 AM IST

नई दिल्ली। सड़क पर चलते हमें काफी कुछ दिखाई देता है। तरह-तरह के लोग,गाड़ियां इत्यादि। इनमें से कुछ चीजें दुर्लभ होती है जो हमें कभी-कभार ही देखने को मिलती हैं तो कई चीजें ऐसी भी होती है जिन्हें हम हमेशा से ही देखते आ रहे हैं।

इनमें से एक है गाड़ियों के पीछे लिखे जाने वाले कुछ शब्द, जैसे कि 'बुरी नजर वाले तेरा मुंह काला', 'फिर मिलेंगे','जगह मिलने पर पास दिया जाएगा', और इनमें से जो सबसे कॉमन है, वह है 'Horn Ok Please'। लगभग हर ट्रक या किसी सामान वाहक गाड़ियों के पीछे ऐसा लिखा रहता है, लेकिन क्या आपको पता है कि इसका अर्थ क्या है? या इसे क्यों लिखा जाता है?

आज हम आपको इस बारे में पूरी बात बताएंगे ताकि अगली बार जब भी आप ऐसा देखे तो आपको पूरी तरह से इसके बारे में पता हो और आप दूसरों को भी पूरी बात समझा पाए।

 

Horn Ok Please

सबसे पहले बता दें, ऐसा सुरक्षा की दृष्टि से लिखा जाता है। जैसा कि हम जानते हैं कि हाइवे पर बड़ी गाड़ियों के आने-जाने के लिए सिर्फ एक लेन ही होती है। इसके चलते कई बार चालकों को बड़ी परेशानी होती है। ऐसा कहा जाता है कि पहले गाड़ियों के पीछे जहां Ok लिखा होता है वहां पहले लाईट लगी होती थी।यदि कोई ड्राइवर पीछे से हॉर्न बजाता था तो ट्रक ड्राईवर आगे-पीछे देखकर उस लाइट को जला देता था और इस तरह से वह अन्य चालक को ओवरटेक करने की इजाजत देता था जो कि सुरक्षा की द्रष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है।

 

Horn Ok Please

इसके साथ ही 'Horn Ok Please' को लिखने का एक और उद्देश्य है और वह ये कि इससे सड़कों पर गाड़ियों के बीच दूरी बनी रहे ताकि दुर्घटना की आशंका को काफी हद तक कम किया जा सके।

ऐसा भी कहा जाता है कि पहले 'Ok' शब्द के स्थान पर 'Overtake' लिखा जाता था। इसका तात्पर्य यह था कि किसी अन्य गाड़ी का चालक ट्रक को ओवरटेक करने से पहले हॉर्न बजा कर सचेत कर दें। हालांकि बाद में ओवरटेक शब्द के बदले 'Ok' लिखा जाने लगा।

 

Ok soap

अब हम आपको बताने जा रहे हैं 'Ok' लिखे जाने के पीछे का सबसे दिलचस्प कारण। दरअसल, टाटा ऑइल मिल्स लि. के द्वारा 'Ok' नाम से एक साबुन लॉन्च किया गया था। इस साबुन का लोगो कमल का एक फूल था। टाटा ने अपने द्वारा लॉन्च किए गए इस साबुन के प्रचार के लिए ट्रकों के पीछे ऐसा लिखकर उसका प्रचार करता था। इससे आने जाने वाले हर किसी की नजर उस पर पड़ती थी और इससे लोगों को साबुन के बारे में अच्छे से पता लग जाता था।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned