प्यार में मिले धोखे ने महिला को बना दिया कातिल, कर डाले 100 से भी ज्यादा कत्ल

  • महिला का नाम निकोलायेवना साल्तिकोवा है, उसकी शादी रूस के एक शाही घराने में हुई थी
  • साल्तिकोवा के आतंक से परेशान होकर उसे कैद में डाल दिया था, साल 1801 में उसकी मौत हो गई

By: Soma Roy

Updated: 03 Apr 2020, 08:59 PM IST

नई दिल्ली। अक्सर लोग राजा—रानियों के किस्से पढ़ते हैं, कि वे कैसे ऐश—ओ—आराम से जिंदगी बिताते थे। रूस में भी एक महिला जिसका नाम निकोलायेवना साल्तिकोवा था, उसकी शादी एक शाही खानदान में हुई। वह वहां पूरे ठाठ से रह रही थी, लेकिन महज 25 साल की उम्र में ही उसके पति की मौत हो गई। जिससे वह सदमे में आ गई। हालांकि उसने अपने को दोबारा संभाला। इस बीच उसका एक पुरुष के साथ प्रेम प्रंसग भी चला, लेकिन उससे प्यार में मिले धोखे ने उसको पूरी तरह से बदल दिया और उसने क्रूरता की सारी हदें पार कर दी।

यह भी पढ़ें-चांदी से भी ज्यादा महंगी है हॉप शूट्स सब्जी, एंटीबायोटिक दवाई बनाने में आती है काम

बताया जाता है कि पति की मौत के बाद साल्तिकोवा काफी अकेला महसूस करती थी। इसी बीच एक शख्स से उसकी जान-पहचान हुई और दोनों एक—दूसरे को चाहाने लगे। तभी एक दिन साल्तिकोवा को पता चला कि उसके प्रेमी का किसी और महिला से भी संबंध हैं। ये बात सुनकर वह काफी गुस्से में आ गई और उसने अपने प्रेमी को गुस्से में पीट—पीटकर अधमरा कर दिया। बताया जाता है कि इसके बाद से महिला अपनी सारी नाराजगी सेविकाओं पर निकालने लगी।

यह भी पढ़ें-भूरे रंग के 'दैत्य केकड़े' में इंसानों की हड्डियां तोड़ने का है दम, देखते ही निकलेंगी चीखें

इतिहासकारों के मुताबिक साल्तिकोवा की बर्बरता इतनी बढ़ गई थी कि वह कि वह बच्चियों और गर्भवती महिलाओं पर भी जुल्म करती थी। उनके शरीर पर खौलता हुआ पानी डाल देती थी। यही नहीं उसने 100 से ज्यादा हत्याएं भी की हैं। हालांकि उसके आतंक से परेशान होकर लोगों ने रूस की रानी कैथरीन द्वितीय से उसकी शिकायत की। लिहाजा 1762 में साल्तिकोवा को गिरफ्तार कर लिया गया। उसे 38 सेविकाओं की हत्या का दोषी पाया गया। उसे एक अंधेरे कमरे में जंजीरों से बांधकर रखा गया था। 11 साल तक वह कमरे में कैद रही। इसके बाद साल 1801 को उसकी मौत हो गई।

Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned