वर्क फ्रॉम होम चुनने से पहले कर लें ये तैयारी

कई तरह की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए अब वर्क फ्रॉम होम बड़े स्तर पर अपनाया जा रहा है।

By:

Published: 10 Dec 2017, 02:40 PM IST

कई तरह की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए अब वर्क फ्रॉम होम बड़े स्तर पर अपनाया जा रहा है। अगर आप इन सुविधाओं का पूरा फायदा लेना चाहती हैं तो अनुशासित रहना बहुत जरूरी होगा।
या त्रा की चिंता नहीं, न ही लंचबॉक्स, ड्रेस कोड और बेकार के खर्च की फिक्र। आस-पास बॉस के होने का दबाव भी नहीं। परिवार को पूरा समय दे पाने की खुशी मिलती है सो अलग। पारंपरिक 9 से 5 का जॉब चुनने की बजाय वर्क फ्रॉम होम चुनने के ये कुछ मुट्ठी भर फायदे हैं लेकिन यही फायदे आपकी प्रॉड्क्टिविटी को कई गुना बढ़ा देते हैं। काम के इस तरीके में जरूरत पूरे समर्पण और फोकस के साथ काम करने की है।

काम उतना ही जितना हो सके

अगर आपने हाल ही अपनी नौकरी छोड़ घर से काम करना शुरू किया है तो हो सकता है कि आप अंडरपरफॉर्म करने लगें और अपनी परफॉॅर्मेंस से संतुष्ट न हों लेकिन अपनी इस भावना के चलते आप जरूरत से ज्यादा काम हाथ में लेने लगेंगी तो यह परेशानी का सबब बन सकता है। कभी पूरे न हो पाने वाले लक्ष्य तय न करें।

घर में भी काम की जगह तय हो

बिस्तर में आराम फरमाते हुए ई-मेल्स का जवाब देने या प्रोजेक्ट पूरा करने का विचार अच्छा तो लगता है लेकिन काम की एक समर्पित जगह तय न होना उत्पादकता को प्रभावित कर सकता है। अगर आप अपने काम के प्रति गंभीर हैं तो यह जरूरी है कि घर में एक जगह आपके काम के लिए हो। इससे न केवल काम करने की ऊर्जा मिलेगी, बल्कि काम को अंजाम तक पहुंचाने में मदद भी।

दिनचर्या नियमति हो

समय का बेहतर प्रबंधन और सही व्यवस्था एक नियमित दिनचर्या का पालन करके की जा सकती है। दिन की शुरुआत के साथ ही यह सोच लें कि आपको दिन भर के समय का पूरा उपयोग कैसे करना है। काम के अपने आप हो जाने का इंतजार न करें। इससे आपका वक्त बर्बाद होगा। रोजाना पूरे किए जाने वाले कामों की एक सूची तैयार करें और उसके अनुसार चलें।

कुछ वक्त अपने लिए

घर से काम करने की सबसे अच्छी बात यह है कि इसे आप अपने हिसाब से कर सकती हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए आराम और नींद को पूरा समय दें। काम के लंबे घंटों की बजाय बीच-बीच में खुद को रिलैक्स करने के लिए घर के किसी सदस्य के साथ शतरंज का एक गेम, अपनी पसंदीदा किताब पढऩा या एक छोटी सी झपकी जैसे उपाय आजमा सकती हैं।

जरूरी काम पहले

अपने कामों की वरीयता तय करना जरूरी है। हर काम के लिए जरूरत के अनुसार समय निर्धारित करें और ध्यान रखें कि एक काम के समय का टकराव दूसरे काम के समय के साथ न हो। काम की सूची के अनुसार एक बार में एक काम करें। मल्टीटास्किंग यानी एक साथ कई काम करने की कोशिश आपको अधूरे कामों का ढेर दे सकती है।

ढाल लें खुद को

काम के प्रति आपका रवैया आपको बहुत आगे ले जा सकता है। काम आप चाहे घर से करें या दफ्तर से, परिस्थिति के अनुसार अपने व्यक्तित्व को ढालने की जिम्मेदारी आपको लेनी होगी। ऐसी कोई वजह नहीं हो जो आपको महत्वाकांक्षी बनने, अपने लक्ष्य हासिल करने और काम व जीवन का जश्न मनाने से रोक सके।

जुड़े रहना जरूरी

काम के इस तरीके में आप अपने सहकर्मियों से दूर भले ही हों लेकिन बातचीत के सभी चैनल खुले रखें। अपने साथी कर्मचारियों के साथ जुड़े रहकर खुद को अपडेटेड रखें। डिजिटल टेक्नोलॉजी के इस दौर में दूर बैठे लोगों के साथ जुडऩा मुश्किल नहीं रहा है, इसका फायदा उठाएं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned