scriptWorld War III की तरफ बढ़ रही दुनिया ! हथियार खरीदने की मची होड़ ,अमरीका ने बढ़ाई इन दो एशियाई देशों की टेंशन | Antony Blinken makes phone call to Ilham Aliyev | Patrika News
विदेश

World War III की तरफ बढ़ रही दुनिया ! हथियार खरीदने की मची होड़ ,अमरीका ने बढ़ाई इन दो एशियाई देशों की टेंशन

World War III : इन दिनों विश्व में हलचल मची हुई है। दुनिया तीसरे विश्व युदध (World War III ) की ओर बढ़ती हुई नजर आ रही है। एक तरफ रूस और यू्क्रेन तो दूसरी ओर इजरायल और फिलिस्तीन में जंग छिड़ी हुई है, वहीं ईरान और इजरायल के बीच जंग के बादल मंडरा रहे हैं। अमरीका, यूरोपीय संघ और आर्मेनिया में बढ़ती नजदीकियों से अज़रबैजान की चिंता बढ़ गई है। ऐसे में दुनिया में हथियारों की होड़ बढ़ सकती है। अब सवाल यह है कि क्या फ्रांस ( France) आर्मेनिया ( Armenia) को हथियार देगा।
 
 
 
 
 

Apr 04, 2024 / 10:44 am

M I Zahir

third_world_war.jpg

International news in Hindi : दुनिया के बदलते घटनाक्रम के बीच अमरीकी विदेश मंत्री (US Secretary of State) एंटनी ब्लिंकन ( Antony Blinken) ने अज़रबैजान ( Azarbaijan) गणराज्य (President of the Republic of Azerbaijan) के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव (Ilham Aliyev) को फोन किया है। एंटनी ब्लिंकन ने कहा है,उन्हें रिपोर्ट मिली है कि 5 अप्रेल को अमरीका ( America), यूरोपीय संघ ( European Union) और आर्मेनिया ( Armenia) के बीच होने वाली त्रिपक्षीय बैठक ने अज़रबैजान को चिंता में डाल दिया है, और उन्होंने इस मामले के संबंध में राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव से बात कर मुद्दा स्पष्ट करने के महत्व पर जोर दिया है। हालांकि सचिव ने बताया कि इस बैठक का मुख्य फोकस आर्मेनिया का आर्थिक विकास होगा।

 

अमरीकी बजट से वित्त पोषित


राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने इस बात पर प्रकाश डाला है कि त्रिपक्षीय बैठक की तैयारी प्रक्रिया के दौरान चर्चा में आर्मेनिया को सैन्य समर्थन, संयुक्त सैन्य अभ्यास, अजरबैजान के साथ सीमा क्षेत्रों पर सैन्य बुनियादी ढांचे की स्थापना, और आर्मेनिया के माध्यम से सशस्त्रीकरण जैसे विषय शामिल थे। यूरोपीय संघ की यूरोपीय शांति सुविधा अमरीकी बजट की ओर से वित्त पोषित है। राज्य के प्रमुख ने इस बात पर जोर दिया है कि अजरबैजान विरोधी प्रकृति वाले ऐसे कदम, जिनमें फ्रांस की ओर से आर्मेनिया को हथियार देने की नीति भी शामिल है, इस क्षेत्र में हथियारों की होड़ बढ़ जाएगी और युद्ध के लिए उकसावे को बढ़ावा मिलेगा।


क्या अजरबैजान के आर्मेनिया पर हमला करेगा?

एंटनी ब्लिंकन ने टेलीफोन पर बातचीत के दौरान इस बात पर जोर दिया कि 5 अप्रेल की बैठक अजरबैजान के खिलाफ नहीं है। उधर आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच शांति वार्ता को लेकर भी चर्चा हुई। राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने कहा कि शांति समझौते के पाठ के संबंध में विदेश मंत्रियों की ओर से बर्लिन में आयोजित वार्ता प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के सिलसिले में फायदेमंद थी, और उन्होंने वार्ता में तेजी लाने की आवश्यकता पर जोर दिया। इसके अलावा, राज्य के प्रमुख ने अपना रुख बता दिया है कि अजरबैजान के आर्मेनिया पर हमला करने के इरादे के बारे में पश्चिम में आवाज उठाना पूरी तरह से निराधार है।

 

आर्मेनिया के लिए खतरा पैदा करने का आरोप झूठा

वहीं राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने कहा कि फ्रांस के विदेश मंत्री ने 2 अप्रैल को पेरिस में एंटनी ब्लिंकन के साथ आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान अजरबैजान पर आर्मेनिया की क्षेत्रीय अखंडता को मान्यता नहीं देने और आर्मेनिया के लिए खतरा पैदा करने का आरोप लगा कर झूठ बोला है।

 

बैठक स्थगित करने में विफलता से तनाव बढ़ेगा

राज्य के प्रमुख ने 2022 में प्राग बैठक और अल्माटी घोषणा के दौरान अपनाए गए बयान के प्रति अज़रबैजान के पालना करने पर प्रकाश डाला। राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव के अनुसार, अजरबैजान की उचित चिंताओं के बावजूद, गैर-पारदर्शी तैयारी, समावेशिता की कमी और संयुक्त राज्य अमरीका, यूरोपीय संघ और आर्मेनिया के बीच 5 अप्रेल को होने वाली त्रिपक्षीय बैठक स्थगित करने में विफलता से तनाव बढ़ेगा और दक्षिण काकेशस में शांति और सहयोग के बजाय नई विभाजन रेखाओं का निर्माण होगा।

 

अज़रबैजान और यूएसए के बीच सहयोग पर बात

उन्होंने अज़रबैजान और संयुक्त राज्य अमरीका के बीच द्विपक्षीय सहयोग पर भी बात की। एंटनी ब्लिंकन ने इस साल फरवरी में म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन के दौरान राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव के साथ अपनी पिछली चर्चाओं का हवाला दिया, जिसमें विभिन्न क्षेत्रों में अजरबैजान के साथ सहयोग का विस्तार करने के अमरीका के इरादे की पुष्टि की।

 

COP29 उत्कृष्ट अवसर

एंटनी ब्लिंकन ने COP29 के ढांचे के भीतर दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडलों के बीच संपर्कों का भी उल्लेख किया। राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन के दौरान पहले चर्चा किए गए क्षेत्रों में संयुक्त राज्य अमरीका के साथ द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने में अज़रबैजान की गहरी रुचि दोहराई, यह देखते हुए कि COP29 उत्कृष्ट अवसर है।

Hindi News/ world / World War III की तरफ बढ़ रही दुनिया ! हथियार खरीदने की मची होड़ ,अमरीका ने बढ़ाई इन दो एशियाई देशों की टेंशन

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो