scriptdhanteras 2021 date time and historic stories | Dhanteras 2021: पौराणिक कथाएं- क्यों मनाते हैं धनतेरस का पर्व, क्या है इस दिन का महत्व | Patrika News

Dhanteras 2021: पौराणिक कथाएं- क्यों मनाते हैं धनतेरस का पर्व, क्या है इस दिन का महत्व

मान्यता है कि धनतेरस के दिन धन के देवता कुबेर, औषधि के देवता धनवंतरी और मां लक्ष्मी का पूजन किया जाता है। धनतेरस के दिन किसी वस्तु की खरीदारी करना बहुत शुभ माना जाता है। विशेष रूप से इस दिन सोना, चांदी या बर्तन आदि खरीदने से घर में सुख और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

 

नई दिल्ली

Published: November 02, 2021 02:57:46 pm

नई दिल्ली।

धनतेरस यानी धनत्रयोदशी का पर्व इस बार भी कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाएगा। इस बार यह 2 नवंबर दिन मंगलवार को है।

मान्यता है कि धनतेरस के दिन धन के देवता कुबेर, औषधि के देवता धनवंतरी और मां लक्ष्मी का पूजन किया जाता है। धनतेरस के दिन किसी वस्तु की खरीदारी करना बहुत शुभ माना जाता है। विशेष रूप से इस दिन सोना, चांदी या बर्तन आदि खरीदने से घर में सुख और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।
धनतेरस : काशी में आज मां अन्नपूर्णा का करेगा जो दर्शन हो जाएगा मालामाल, बंटेगा खजाना
धनतेरस
माना जाता है कि दीपावली के महापर्व की शुरूआत धनतेरस के त्योहार से होती है। इस बार धनतेरस का त्योहार 02 नवंबर दिन मंगलवार को है। बहुत कम लोग यह जानते होंगे कि धनतेरस का पर्व क्यों मनाया जाता है और इस दिन का महत्व क्या है।
यह भी पढ़ें
-

रिसर्च रिपोर्ट: बड़े ब्रांड सेहत से कर रहे खिलवाड़, पिज्जा-बर्गर समेत तमाम जंक फूड में मिलाया जा रहा खतरनाक केमिकल, न्यूरो और अस्थमा का खतरा अधिक

पुराणों में वर्णित है कि धनतेरस के दिन धनकुबेर और धनवंतरी देव की पूजा होती है, इसलिए इस पर्व को धनतेरस या धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है। वैसे, धनतेरस की कई पौराणिक कथाएं हैं। इनमें एक है समुद्र मंथन की कथा।
समुद्र मंथन की पौराणिक कथा के अनुसार इस दिन ही भगवान धनवंतरी अमृत कलश लेकर समुद्र से प्रकट हुए थे, इसलिए उनके अवतरण दिवस के रूप में धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है और उनका पूजन होता है। भगवान धनवंतरी को औषधि और चिकित्सा का देवता माना जाता है। वह खुद भगवान विष्णु के अंशावतार है और संसार को आरोग्य प्रदान करते हैं।
इसके अलावा, धनतेरस पर्व मनाने के पीछे भगवान विष्णु के वामन अवतार की कथा का भी उल्लेख आता है। भागवत पुराण के अनुसार, धनतेरस के दिन ही वामन अवतार ने असुरराज बलि से दान में तीनों लोक मांगकर देवताओं को उनकी खोई हुई संपत्ति और स्वर्ग प्रदान किया था। इसी उपलक्ष्य में देवताओं नें धनतेरस का पर्व मनाया था।
यह भी पढ़ें
-

COP-26 Summit : प्रधानमंत्री ने पेश किया जलवायु कार्रवाई का एजेंडा, कहा- भारत सहित ज्यादातर विकासशील देशों के कृषि क्षेत्र के लिए जलवायु बड़ी चुनौती

धनतेरस के दिन भगवान धनवंतरी के पूजन से स्वास्थय और आरोग्य की प्राप्ति होती है, तो वही धन कुबेर के पूजन से धन और संपत्ति की। धनतेरस का त्योहार घर में सुख-समृद्धी के आगमन का त्योहार है। इस दिन घर के मुख्य द्वार पर यमदीपक जलाने का भी विधान है। मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज अकाल मृत्यु से अभय प्रदान करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.