scriptDog attacks incidence on the rise, social media discuss, know rules | सोशल मीडिया पर खूब हो रही है कुत्तों के हमले की चर्चा, जानें भारत समेत दुनिया भर में कुत्ता पालने के क्या हैं नियम? | Patrika News

सोशल मीडिया पर खूब हो रही है कुत्तों के हमले की चर्चा, जानें भारत समेत दुनिया भर में कुत्ता पालने के क्या हैं नियम?

पिछले दिनों पूरे देश से विशेषकर जयपुर, नोएडा, दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र से कुत्ते काटने की खूब खबरें सामने आई हैं। लेकिन क्या आप जानते सभी देशों में कुत्तों को पालने को लेकर और उनके प्रबंधन को लेकर सख्त नियम हैं?

जयपुर

Updated: September 12, 2022 05:11:16 pm

हाल में कुत्तों के बढ़ते हमले से हड़कंप मचा हुआ है। गाजियाबाद और नोएडा में आए दिन कुत्तों के काटने की घटना सामने आ रही है। पार्क में बच्चे पर हमला, लिफ्ट में जोमैटो डिलीवरी बॉय पर हमला, कुछ माह पहले तो लखनऊ में एक पालतू कुत्ते ने अपनी मालकिन की जान ही ले ली थी। कुत्तों के अलावा लोग बिल्ली, घोड़ा, बंदर आदि भी पालते हैं। ऐसे में यह जान लेना जरूरी हो जाता है कि जानवरों को पालने का नियम क्या है?
dog-attack.jpg
राज्य-राज्य, शहर-शहर अलग अलग नियम

देश के अलग-अलग राज्यों के अलग-अलग शहरों में जानवरों को पालने का अलग-अलग नियम है। हालांकि कुछ नियम हर जगह एक समान हैं। जैसे- प्रत्येक पालतू जानवर का रजिस्ट्रेशन कराना होता है, इसके लिए नगर निगम द्वारा तय राशि चुकानी होती है, रजिस्ट्रेशन एक तय समय के लिए वैध होता इसलिए समय-समय पर उसका रिन्यूअल भी जरूरी होता है। नगरपालिका पालतू जानवर का रजिस्ट्रेशन तभी करता है, जब उसे रेबीज का वैक्सीन लगा हो।
कुत्ते को सोसायटी में रखने को लेकर क्या है नियम?
एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एनिमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया का कहना है कि अगर पशु को नगरपालिका द्वारा तय के अनुसार पाला गया है तो उसे सोसायटी में रखा जा सकता है। हालांकि हाउसिंग सोसायटी के निवासी होने के नाते पालतू जानवर के मालिक को इस बात का खास ध्यान रखना होगा कि उनका जानवर किसी और के लिए परेशानी न बने।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 51 ए (जी) के अनुसार, प्रत्येक नागरिक का यह दायित्व है कि वह जीवित प्राणियों और जानवरों के प्रति दया का व्यवहार करें। Prevention of Cruelty to Animals Act 1960 की धारा 11 (3) में कहा गया है कि हाउसिंग सोसायटी में पालतू जानवरों को प्रतिबंधित करने का प्रस्ताव पारित करना अवैध है।
लिफ्ट और गार्डन में कुत्ते के जाने पर रोक नहीं

पालतू जानवरों के लिए बिल्डिंग की लिफ्ट का इस्तेमाल करने से रोका नहीं जा सकता है। अदालत के एक फैसले के अनुसार कुत्ते/पालतू जानवर परिवार हैं और इसलिए उनके लिए भी लिफ्ट का उपयोग किया जा सकता है। हाउसिंग सोसायटी के जो भी सदस्य अपने पालतू जानवरों के लिए लिफ्ट का उपयोग करते हैं उनसे अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा। पालतू जानवरों को सोसायटी के पार्क और गार्डन में जाने पर प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता।

कुत्ता ने काटा तो मालिक को होगी जेल
अगर पालतू कुत्ता किसी को काट लेता है तो भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 289 के तहत कुत्ते के मालिक को अधिकतम 6 महीने जेल की सजा, 1000 रुपये का जुर्माना या फिर दोनों हो सकते हैं। बिल्ली, बंदर, घोड़ा की तरह ही कुत्तों के काटने से भी रेबीज का संक्रमण फैलता है। रेबीज का वायरस स्लो किलर होता है। अगर समय पर और उचित उपचार न मिले तो इससे जान भी जा सकती है।
आइए आपको बताते हैं कि कुत्ते को पालने को लेकर दुनिया भर के देशों में कौन से प्रतिबंध हैं...लेकिन गौर करने की बात ये है इनके बारे में कोई भी अपार्टमेंट और निजी परिसर या प्रोफेशनल परिसर अपने अलग नियम बना सकते हैं।
1. लाइसेंस अनिवार्य

कुत्ते के मालिकों को अपने कुत्तों को शहर या असिंचित क्षेत्रों, काउंटी में लाइसेंस देना आवश्यक है।

2. रेबीज के लिए टीकाकरण

अधिकांश राज्यों में यह एक आवश्यकता है, और आपको अपने कुत्ते को लाइसेंस देने के लिए टीकाकरण के प्रमाण की आपूर्ति करने की आवश्यकता हो सकती है।
3. पट्टा कानूनों का पालन करें

पट्टा का उपयोग करना वैसे भी आपके और आपके कुत्ते के लिए सुरक्षित है; खुले कुत्ते खो सकते हैं, कार से टकरा सकते हैं, या किसी व्यक्ति या अन्य जानवर को काट सकते हैं।
4. अपने कुत्ते के मल को स्कूप करें

कई शहरों में मालिकों को अपने कुत्ते के मल को तुरंत साफ करने की आवश्यकता होती है, अगर उन्होंने ऐसा पब्लिक स्पेस में कर दिया है।
5. कुत्ते ने काटा तो मालिक को होगी जेल

कुत्ते को पालने के बारे में तो नहीं पर उनसे दूसरों की सुरक्षा के लिए जरूर भारत में राष्ट्रीय स्तर पर नियम हैं। भारत में अगर कोई पालतू कुत्ता किसी को काट लेता है तो भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 289 के तहत कुत्ते के मालिक को अधिकतम 6 महीने जेल की सजा, 1000 रुपये का जुर्माना या फिर दोनों हो सकते हैं। बिल्ली, बंदर, घोड़ा की तरह ही कुत्तों के काटने से भी रेबीज का संक्रमण फैलता है।
साथ ही, कुत्ते पालने के बारे में कोई राष्ट्रीय नियम नहीं हैं। ये निगम स्तर पर या फिर माइक्रो स्तर पर बनाए जा सकते हैं। इसलिए, अपने शहर के कानूनों का पता लगाने के लिए, अपने शहर की आधिकारिक वेब साइट देखें या उन्हें कॉल करें।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Indian Navy और NCB का समंदर में बड़ा एक्शन, पाकिस्तानी नाव से जब्त की 200 किलो हेरोइनआतंकवाद और सांप्रदायिक हिंसा के कारण पाकिस्तान यात्रा पर फिर से करें विचार, अमरीका ने जारी की एडवाइजरीदिल्ली शराब नीति घोटाला: दिल्ली-पंजाब-हैदराबाद में 35 ठिकानों पर ED के छापेMumbai News: मुंबई में 120 करोड़ रुपये की ड्रग्स जब्त, NCB ने एयर इंडिया के पूर्व पायलट सहित छह लोगों को किया गिरफ्तारकफ सीरीप से 66 मौतें: भारत में सप्लाई के लिए फार्मा कंपनी के पास नहीं था लाइसेंस, 10 जरूरी अपडेटफिर लुढ़का रुपया, पहली बार अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 82.20 के निचले स्तर पर, शेयर मार्केट में भी गिरावटअलीगढ़: AMU के हिन्दू छात्र ने लगाए गंभीर आरोप, तमंचे की नोंक पर लगवाये जाते है पाकिस्तान जिंदाबाद के नारेअभिनेता अरुण बाली का मुंबई में हुआ निधन, आखिरी बार लाल सिंह चड्ढा में आए थे नजर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.