ट्रंप ने कहा - चीन ने साथ दिया तो ठीक, नहीं तो अकेले ही उत्तर कोरिया को सबक सिखा देंगे

साक्षात्कार के दौरान जब डोनाल्ड ट्रंप से पूछा गया कि वह उत्तर कोरिया से कैसे निपटेंगे तो उन्होंने कहा कि मैं यह कभी नहीं बताऊंगा।

By: पुनीत कुमार

Published: 03 Apr 2017, 02:01 PM IST

अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक साक्षात्कार के दौरान उत्तर को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। ट्रंप ने साफ तौर पर कहा है कि अगर चीन उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रमों पर अंकुश नहीं लगाता है तो अमरीका अकेले ही उससे निपटने के लिए तैयार है। साथ ही कहा कि वह चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की आगामी अमरीका के यात्रा के समय इस गंभीर मुद्दे को जरुर उठाएंगे। 



डोनाल्ड ट्रंप ने फाइनेंशियल टाइम्स को दिए गए एक साक्षात्कार में कहा कि उत्तर कोरिया पर चीन का गहरा प्रभाव है, ऐसे में चीन इस मुद्दे पर कितना मदद करता है, यह देखना होगा। अगर वह मदद नहीं करता है तो अमरीका खुद ही इस मसले को हल कर लेगा। साउथ फ्लोरिडा के मार-ए-लेगो एस्टेट में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की अमरीका यात्रा के कुछ दिन पहले ट्रंप ने इस मुद्दे पर टिप्पणी की है। 



चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग और डोनाल्ड ट्रंप के बीच मुलाकात के बाद उत्तर कोरिया, व्यपार और दक्षिणी चीन सागर में अधिकार संबंधी कई गंभीर मसलों पर चर्चा होने की संभावना जताई जा रही है। ट्रंप ने अपने बयान में कहा कि अमरीका चीन के साथ उत्तर कोरिया को लेकर बात करेगा। अगर चीन हमारी मदद के लिए आगे आता है तो ठीक है, अगर ऐसा नहीं होता है तो यह किसी के लिए अच्छा नहीं होगा। 



तो वहीं व्हाइट हाउस के मुताबिक उत्तर कोरिया अमरीका के लिए दिनों दिन खतरा बनता जा रहा है। गौरतलब है कि बराक ओबामा ने उत्तर कोरिया की ओर से किए जा रहे मिसाइल परीक्षण का लगातार विरोध करते हुए देश को आगाह किया था। इस साक्षात्कार के दौरान जब डोनाल्ड ट्रंप से पूछा गया कि वह उत्तर कोरिया से कैसे निपटेंगे तो उन्होंने कहा कि मैं यह कभी नहीं बताऊंगा। हम पिछली सरकार की तरह अपनी रणनीति को उजागर नहीं करेंगे।

Donald Trump
Show More
पुनीत कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned