scriptFinland, Sweden join NATO, US President Joe Biden signs Instrument | फिनलैंड, स्वीडन NATO में शामिल, US President जो बाइडन ने किए इंस्ट्रूमेंट ऑफ रेटिफिकेशन पर हस्ताक्षर: अब क्या करेगा रूस? | Patrika News

फिनलैंड, स्वीडन NATO में शामिल, US President जो बाइडन ने किए इंस्ट्रूमेंट ऑफ रेटिफिकेशन पर हस्ताक्षर: अब क्या करेगा रूस?

इंस्ट्रूमेंट ऑफ रेटिफिकेशन पर हस्ताक्षर करते हुए बाइडन ने नाटो ज्वाइन करने पर दोनों देशों का स्वागत भी किया। बाइडेन ने कहा कि रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद से नाटो को एक नया आकार देने की दिशा में यह क़दम उठाए गए हैं।

जयपुर

Published: August 10, 2022 11:12:29 am

हाईलाइट्स
अमरीकी राष्ट्रपति ने मंगलवार को फिनलैंड और स्वीडन को नाटो गठबंधन में शामिल होने दस्तावेजों पर किए हस्ताक्षर
जो बाइ़डेन के हस्ताक्षर के बाद अब सात और देशों को करने होंगे इंस्ट्रूमेंट ऑफ रेटिफिकेशन पर हस्ताक्षर
बाइडेन ने दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने से पहले कहा, NATO पहले से कहीं ज्यादा करीब, पहले से कहीं ज्यादा एकजुट
दोनों देशों ने मई में यूक्रेन में रूस के युद्ध की पृष्ठभूमि के बीच शुरू की थी नाटो में आवेदन करने की औपचारिक प्रक्रिया
सभी 30 नाटो सहयोगियों को गठबंधन में फिनलैंड और स्वीडन की सदस्यता को मंजूरी देनी होगी
trump_sign_nato_ratification_of_finland_and_sweden.jpg
फिनलैंड और स्वीडेन औपचारिक रूप से अब नाटो गठबंधन का हिस्सा बनने के अंतिम चरण में पहुंच गए हैं। मंगलवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने एक इंस्ट्रूमेंट ऑफ रेटिफिकेशन हस्ताक्षर किया है जिसके साथ दोनों देश दुनिया के सबसे बड़े सुरक्षा समूह नाटो के औपचारिक पार्टनर बनने के और करीब आ गए हैं।
बाइडन ने नाटो ज्वाइन करने पर दोनों देशों का स्वागत भी किया। बाइडेन रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद से नाटो को एक नया आकार देने की दिशा में यह क़दम उठाए गए हैं। रूस-यूक्रेन युद्ध के पीछे नाटो गठबंधन में शामिल होने की यूक्रेन की मंशा भी एक वजह है, जिससे रूस खुद की सुरक्षा को लेकर ख़ासा चिंतित था।
सहमति देने वाला अमरीका 23 वां देश

जो बाइडन ने कहा, “नाटो में शामिल होने की मांग से फिनलैंड और स्वीडेन एक पवित्र प्रतिबद्धता बना रहे हैं कि एक के ख़िलाफ़ हमला, सभी के ख़िलाफ़ हमला है।” अमरीका ऐसा 23वां देश है जिसने दोनों देशों को नाटो गठबंधन के हिस्से के रूप में अप्रूव किया है और बाइडन ने कहा कि उन्होंने रेटिफिकेश पर हस्ताक्षर करने से पहले दोनों देशों के शीर्ष नेताओं से बात की और साथ ही अन्य देशों से यह प्रक्रिया जितनी जल्दी हो सके, पूरा करने की अपील की।
कुल 30 देशों का दुनिया का सबसे सैन्य गठबंधन है NATO
दोनों देशों ने यूक्रेन को लेकर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन की अक्रामकता को देखते हुए पिछले साल ही नाटो में शामिल होने की अपनी इच्छा ज़ाहिर की थी। नाटो 30 देशों का एक सुरक्षा समूंह है और इस गठबंधन में शामिल होने के लिए सभी देशों की सहमति ज़रूरी है। माना जा रहा है कि बाकी के देश आने वाले महीने में दोनों देशों फिनलैंड और स्वीडेन को नाटो में शामिल होने को अप्रूवल दे सकते हैं। मई 2022 में दोनों देशों ने नाटो मेंम्बरशिप के लिए अप्लाई किया था और अभी तक दोनों को आधे से ज़्यादा देश अप्रूवल दे चुके हैं।
रूसी अक्रामकता के बाद नाटो में शामिल होना चाहते थे दोनों देश
यह अमरीका और यूरोप में अपने 73 साल के इतिहास में लोकतांत्रिक सहयोगियों के बीच आपसी रक्षा के समझौते के सबसे तेज विस्तार में से एक है। दोनों यूरोपीय देश अपने सैन्य गुटनिरपेक्षता की नीति पर चल रहे थे जिसे दरकिनार करते हुए रूसी अक्रामकता के बाद मई में नाटो मेंम्बरशिप के लिए अप्लाई किया था। फरवरी में यूक्रेन पर रूसी हमले के बाद दोनों देशों को अपनी सुरक्षा की चिंता था। बाइडेन ने उनके शामिल होने को प्रोत्साहित किया और मई में व्हाइट हाउस में दोनों देशों के सरकारी प्रमुखों का स्वागत किया, जो अमरीका के समर्थन के प्रदर्शन में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुए थे।
सीनेट ने इसी सप्ताह दी थी अनुमति

पिछले हफ्ते, सीनेट ने दुनिया के सबसे शक्तिशाली सैन्य गठबंधन में फिनलैंड और स्वीडन के प्रवेश की पुष्टि करने के लिए 95 से 1 वोट दिया था। बता दें दोनों देशों ने मई 2022 में यूक्रेन में रूस के युद्ध की पृष्ठभूमि के बीच नाटो में आवेदन करने की औपचारिक प्रक्रिया शुरू की थी। नाटो के विस्तार से लंबे समय से सावधान मास्को ने गठबंधन में शामिल होने की दोनों देशों की योजनाओं का विरोध किया है।
नाटो सदस्य बनने की आवश्यकताओं पर खरे उतरते हैं दोनों देश

फिनलैंड और स्वीडन दोनों पहले से ही नाटो के सदस्य बनने के लिए कई आवश्यकताओं को पूरा करते हैं। कुछ आवश्यकताओं में एक कार्यशील लोकतांत्रिक राजनीतिक व्यवस्था, आर्थिक पारदर्शिता प्रदान करने की इच्छा और नाटो मिशनों में सैन्य योगदान करने की क्षमता शामिल है। दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने से पहले अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि, "वे नाटो की हर जरूरत को पूरा करेंगे, हमें इस पर पूरा भरोसा है।"
इन सात देशों को अभी करना होगा हस्ताक्षर

बाइडेन के हस्ताक्षर के बाद, चेक गणराज्य, ग्रीस, हंगरी, पुर्तगाल, स्लोवाकिया, स्पेन और तुर्की की सरकारों को अभी भी अनुसमर्थन के उपकरणों पर हस्ताक्षर करने की आवश्यकता होगी। बिडेन ने कहा, "मैं शेष सहयोगियों से अनुसमर्थन प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूरा करने का आग्रह करता हूं ..उन्होंने कहा कि उम्मीद है सितंबर तक ये प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। बाइडेन ने कहा कि "संयुक्त राज्य अमेरिका ट्रान्साटलांटिक गठबंधन के लिए प्रतिबद्ध है। हम वह भविष्य लिखने जा रहे हैं जो हम देखना चाहते हैं।"

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

पाकिस्तानी आकाओं के इशारे पर भारत में आतंक फैलाने की थी साजिश, ग्रेनेड के साथ 3 आतंकी गिरफ्तारIND vs SA, 2nd T20: भारत ने साउथ अफ्रीका को 16 रनों से हराया, सीरीज पर 2-0 से कब्जाअरविंद केजरीवाल का बड़ा दावा- 'गुजरात में बनेगी आप की सरकार', IB रिपोर्ट का दिया हवालासच बोलने की सजा भुगतनी पड़ी... बिहार के कृषि मंत्री के इस्तीफे पर BJP ने नीतीश पर किया हमलाअमित शाह के जम्मू दौरे से पहले पुलवामा में आतंकी हमला, पुलिस का एक जवान शहीद, CRPF जवान जख्मीIND vs SA: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, सभी सीनियर खिलाड़ियों को मिला आरामIAF की ताकत में होगा इजाफा, कल सेना में शामिल होगा स्वदेशी हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर, जानें इसकी खासियतIND vs SA 2nd T20: 2 गेंदबाज जो साउथ अफ्रीका को हराने में टीम इंडिया की मदद करेंगे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.