तालिबान राज में ऐसे चल रही क्लास, इधर लड़के, उधर लड़कियां और बीच में पर्दा, छात्राओं को फॉलो करने पड़ेगे ये नियम

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर की गई है। दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर काबुल की एक यूनिवर्सिटी की है।

By: Mahendra Yadav

Published: 06 Sep 2021, 08:08 PM IST

तालिबान राज का फर्स्ट लुक सामने आया है, जिसने तालिबान के दावों की सच्चाई सामने आई है। तालिबान ने लड़कियों की शिक्षा पर अंकुश और प्रतबंध लगाना शुरू कर दिया है। इसके साथ ही छात्राओं के लिए कड़े नियम बनाए हैं। सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर की गई है। दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर काबुल की एक यूनिवर्सिटी की है। इसमें क्लासरूम में एक तरफ लड़कियां बैठी हैं और दूसरी तरफ लड़के बैठे हैं और उनके बीच में पर्दा लगा हुआ।

तालिबान के दावों की खुली पोल
तालिबान ने दावा किया था कि नई सरकार में महिलाओं को अधिकार दिए जाएंगे। वहीं अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रही इस तस्वीर ने तालिबान के इस दावे की पोल खोल दी है। इससे पहले तालिबान ने एक दस्तावेज जारी कर प्राइवेट और यूनिवर्सिटी के लिए नए नियमों की घोषणा की। इसमें बताया गया था कि लड़कियों और महिला छात्रों को किन नियमों का पालन करना होगा। आदेश में कहा गया है कि महिला छात्रों को सिर्फ एक महिला टीचर की पढ़ाएगी। अगर ऐसा नहीं हो पाए तो 'साफ चरित्र वाले' बुजुर्ग टीचर ही छात्राओं को पढ़ा सकेंगे।

यह भी पढ़ें— तालिबान के खिलाफ लड़ रहे अहमद मसूद हैं सुरक्षित, ट्वीट कर लिखी यह बात

क्लास में भी नकाब पहनना जरूरी
वहीं तालिबान ने आदेश जारी कहा है कि प्राइवेट यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली महिलाओं को पारंपरिक कपड़े पहनना अनिवार्य होगा। साथ ही क्लास में भी छात्राओं को नकाब पहनना जरूरी होगा जो उनके ज्यादातर चेहरे को ढक सके। इसके साथ ही लड़के और लड़कियों की क्लास में दोनों के बीच पर्दा लगा होगा। हालांकि बीते शनिवार को जारी किए गए आदेश में महिलाओं के लिए बुर्का पहनना अनिवार्य नहीं किया गया था, लेकिन उन्हें नकाब पहनना होगा। यह आंखों को छोड़कर उनके पूरे चेहरे को ढककर रखेगा।

यह भी पढ़ें— तालिबान को झटका: पंजशीर में ढेर हुए 600 लड़ाके, ईरान ने की चुनाव कराने की मांग

हक मांग रही महिलाओं पर किया हमला
अफगानिस्तान में महिलाएं तालिबान से अपने हक की मांग कर रही हैं। हाल ही यहां महिलाओं ने अपने हक के लिए प्रदर्शन भी किया। हालांकि तालिबान ने महिलाओं को उनका हक देने से इनकार कर दिया। इतना ही नहीं उनके प्रदर्शन को खत्म करने के लिए हमला तक कर दिया।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned