scriptचुनाव यूरोपीय संघ के और वोटिंग भारत में….विदेश में इलेक्शन के लिए पुडुचेरी, केरल जैसे राज्यों में क्यों हुआ मतदान? | French Citizen Voting for EU elections in India | Patrika News
विदेश

चुनाव यूरोपीय संघ के और वोटिंग भारत में….विदेश में इलेक्शन के लिए पुडुचेरी, केरल जैसे राज्यों में क्यों हुआ मतदान?

French Citizen Voting for EU Elections In India: यूरोपियन यूनियन के चुनाव में फ्रांस में सत्तारूढ़ पार्टी यानी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को हार मिलती दिख रही है क्योंकि बीते रविवार को आए एक्ज़िट पोल में यही संभावना नजर आई। इसलिए इमैनुएल मैक्रों ने फ्रांस की नेशनल असेंबली को भंग कर दिया और मध्यावधि चुनाव का ऐलान कर दिया।

नई दिल्लीJun 10, 2024 / 01:51 pm

Jyoti Sharma

French Citizen Voting for EU elections in India

French Citizen Voting for EU elections in India

French Citizen Voting for EU Elections In India: यूरोपीयन यूनियन चुनाव के लिए वोटिंग का आखिरी दौर बचा है जिसमें इटली में अंतिम वोट डाले जाएंगे। लेकिन एक्जि़ट पोल में दिखे रुझानों ने कई देशों की सरकार गिरा दी। फ्रांस (France) में तो संसद भंग हो गई और मध्यावधि चुनाव का ऐलान हो गया। मजे के बात ये है कि यूरोपीय यूनियन के चुनाव (EU Elections 2024) के लिए भारत के कई राज्यों में वोटिंग हुई। इसमें पुडुचेरी, केरल और तमिलनाडु शामिल हैं। बहुत सारे लोगों के मन में ये सवाल कौंध रहा है कि आखिर जब चुनाव फ्रांस में और यूरोप है तो भारत में क्यों वोटिंग हुई? क्या ये फर्जी वोटिंग है? इसका जवाब हम आपको दे रहे हैं।

EU की 720 सीटों में 81 फ्रांस की थीं

वाणिज्यिक दूतावास की तरफ से ये आदेश जारी किया गया है कि यूरोपीय संसद (European Union) के लिए हो रही 720 सीटों के लिए चुनाव में से फ्रांस को 81 सीटें दी गईं है जिसके लिए वोटिंग हुई है। दरअसल तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में जो वोटिंग हो रही है वो फ्रांसीसी नागरिक (French Citizen Voting for EU Elections In India) ही कर रहे हैं। यानी वो फ्रांसीसी नागरिक जो भारत के इन राज्यों में रह रहे हैं उनके लिए इन्हीं राज्यों में अपने देश और यूरोपियन यूनियन के लिए वोटिंग करने का इंतजाम किया गया है। 

फ्रांस में मध्यावधि चुनाव

हालांकि इस चुनाव में फ्रांस में सत्तारूढ़ पार्टी यानी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को हार मिलती दिख रही है क्योंकि बीते रविवार को आए एक्ज़िट पोल में यही संभावना नजर आई। इसलिए इमैनुएल मैक्रों ने फ्रांस की नेशनल असेंबली को भंग कर दिया और मध्यावधि चुनाव का ऐलान कर दिया। अब फ्रांस में 2 चरणों में नेशनल असेंबली (संसद) के लिए चुनाव होगा। पहला चरण 30 जून को होगा और दूसरा 7 जुलाई को होगा। 

Hindi News/ world / चुनाव यूरोपीय संघ के और वोटिंग भारत में….विदेश में इलेक्शन के लिए पुडुचेरी, केरल जैसे राज्यों में क्यों हुआ मतदान?

ट्रेंडिंग वीडियो