scriptHindu temple in Pakistan became a refuge for flood-affected Muslim | पाकिस्तान में हिंदू मंदिर बना बाढ़ प्रभावित मुस्लिम परिवारों का शरणस्थल, क्या कहता है इस्लाम? | Patrika News

पाकिस्तान में हिंदू मंदिर बना बाढ़ प्रभावित मुस्लिम परिवारों का शरणस्थल, क्या कहता है इस्लाम?

पाकिस्तान इन दिनों बाढ़ के भयानक हालात से जूझ रहा है। पाकिस्तान में बाढ़ के इस कठिन समय के दौरान स्थानीय हिंदू समुदाय ने बाबा माधोदास मंदिर के दरवाजे बाढ़ प्रभावित लोगों और उनके पशुओं के लिए खोल दिए हैं।

जयपुर

Published: September 12, 2022 11:45:10 am

बलूचिस्तान के कच्छी जिले में बसा छोटा गांव जलाल खान अभी भी बाढ़ से जूझ रहा है, बाढ़ ने घरों को तबाह कर दिया और बड़े पैमाने पर तबाही मचा दी है। डॉन की रिपोर्ट के मुताकिब, नारी, बोलन, और लहरी नदियों में बाढ़ के कारण गांव बाकी प्रांत से कट गया था, जिससे दूरदराज के इलाके के निवासियों को खुद अपनी देखभाल के लिए छोड़ दिया गया था। ऐसे में पाकिस्तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, इस कठिन समय के दौरान स्थानीय हिंदू समुदाय ने बाबा माधोदास मंदिर के दरवाजे बाढ़ प्रभावित लोगों और उनके पशुओं के लिए खोल दिए।
pak_temple_flood_muslims_shelter.jpg
ऊंचे स्थलों पर रहते हेैं हिंदू मंदिर

बलूचिस्तान के हिंदू उपासकों का पूजा स्थल अक्सर कंक्रीट से बना होता है और एक बड़े क्षेत्र को कवर करता है। चूंकि यह ऊंची जमीन पर रहता है, इसलिए बाढ़ के पानी से अपेक्षाकृत सुरक्षित रहता है और बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए उनके सबसे कम समय में एक शरणस्थल के रूप में काम करता है।
धार्मिक सीमाएँ टूटीं

स्थानीय लोगों के अनुसार, बाबा माधोदास एक पूर्व-विभाजन हिंदू दरवेश (संत) थे, जो क्षेत्र के मुसलमानों और हिंदुओं द्वारा समान रूप से पोषित थे। भाग नारी तहसील से गांव में अक्सर आने वाले इल्तफ बुजदार कहते हैं, "वह ऊंट पर यात्रा करते थे।" बुजदार कहते हैं कि उनके माता-पिता द्वारा सुनाई गई कहानियों के अनुसार, संत ने धार्मिक सीमाओं को पार कर लिया।
डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, "वह लोगों के बारे में उनकी जाति और पंथ के बजाय मानवता के चश्मे से सोचेंगे,"

जलाल खान में हिंदू समुदाय के अधिकांश सदस्य रोजगार और अन्य अवसरों के लिए कच्छी के अन्य शहरों में चले गए हैं, लेकिन कुछ परिवार इसकी देखभाल के लिए मंदिर परिसर में रहते हैं।
मंदिर को भी हुआ है नुकसान

भाग नारी तहसील के 55 वर्षीय दुकानदार रतन कुमार इस समय मंदिर के प्रभारी हैं। वह डॉन को बताते हैं, "मंदिर में सौ से अधिक कमरे हैं, क्योंकि हर साल बलूचिस्तान और सिंध से बड़ी संख्या में लोग तीर्थयात्रा के लिए यहां आते हैं।" ऐसा नहीं है कि मंदिर ने असामान्य बारिश का खामियाजा नहीं उठाया। रतन के बेटे सावन कुमार ने डॉन को बताया कि कुछ कमरे क्षतिग्रस्त हो गए, लेकिन कुल मिलाकर ढांचा सुरक्षित रहा।
डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, परिसर में कम से कम 200-300 लोगों ज्यादातर मुस्लिम और उनके पशुओं को शरण दी गई और उनकी देखभाल हिंदू परिवारों द्वारा की जाती थी।शुरुआत में यह क्षेत्र शेष जिले से पूरी तरह से कट गया था। विस्थापितों ने कहा कि उन्हें हेलीकॉप्टर से राशन उपलब्ध कराया गया था, लेकिन जब वे मंदिर में चले गए तो उन्हें हिंदू समुदाय द्वारा खिलाया जा रहा है।
मंदिर ही लगा मेडिकल कैंप

इसरार मुघेरी जलाल खान में एक डॉक्टर हैं। यहां आने के बाद से ही उन्होंने मंदिर के अंदर मेडिकल कैंप लगा रखा है। उन्होंने डॉन को बताया, "स्थानीय लोगों के अलावा हिंदुओं ने अन्य पालतू जानवरों के साथ-साथ बकरियों और भेड़ों को भी रखा है।"
उन्होंने आगे बताया, "स्थानीय हिंदुओं द्वारा लाउडस्पीकर पर घोषणाएं की गईं, मुसलमानों को शरण लेने के लिए मंदिर जाने के लिए कहा गया।"

वहां शरण लेने वालों का कहना है कि इस मुश्किल घड़ी में उनकी सहायता के लिए आने और उन्हें भोजन और आश्रय प्रदान करने के लिए वे स्थानीय समुदाय के ऋणी हैं। डॉन की रिपोर्ट बताती है, स्थानीय लोगों के लिए बाढ़ पीड़ितों के लिए मंदिर खोलना मानवता और धार्मिक सद्भाव का प्रतीक था, जो सदियों से उनकी परंपरा रही है।
क्या कहता है इस्लाम

इस्लाम के जानकारों का कहना है कि मुस्लिम का मंदिर जाना इस्लाम के विरुद्ध नही है,परंतु मंदिर जा कर पूजन पाठन करना जैसे हिन्दू भाई करते हैं ,करना इस्लाम के विरुद्ध है क्योंकि इस्लाम इसकी इज़ाज़त नही देता,इस्लाम सिर्फ एक अल्लाह के सामने सजदा करने की इज़ाज़त देता है।
मनोकामना के लिए जाना कहा जाएगा शिर्क

इस्लाम में बुतपरस्ती की मनाही है। इसलिए मनोकामना की पूर्ति के लिए प्रसिद्ध किसी मंदिर में जाकर उस कामना को पूर्ण करने के लिए आशिर्वाद मांगना यह इस्लाम के विरुद्ध है और इसे शिर्क कहा जायेगा
जिहाद के लिए जाना कहा जाएगा पुण्य कार्य

वहीं, इस्लाम के अनुसार, जिहाद के लिए मंदिर और भक्तों को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से सूचनाएं जुटाने के लिए या आक्रमण करने के लिए जाना यह इस्लाम के प्रसार में सहायक होगा। इसके लिए जन्नत में रिजर्व सीट ओर अल्लाह के हाथ से मदिरा का इनाम मिलेगा।
जानकारी या जिज्ञासा वश जाना अपराध नहीं

तीसरा कारण बिना श्रद्धा के सिर्फ मंदिर का वास्तु देखने के लिए या पूजा प्रक्रिया की जानकारी लेने के लिए जाना इसमें किसी को कोई आपत्ति नही होती है।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Swachh Survekshan 2022: लगातार छठी बार देश का सबसे साफ शहर बना इंदौर, सूरत दूसरे तो मुंबई तीसरे स्थान परअब 2.5 रुपये/किलोमीटर से ज्यादा दीजिए सिर्फ रोड का टोल! नए रेट लागूकांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए KN त्रिपाठी का नामांकन पत्र रद्द, मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर में मुकाबला41 साल के शख्स को 142 साल की जेल, केरल की अदालत ने इस अपराध में सुनाई यह सजाBihar News: बिहार में और सख्त होगी शराबबंदी, पहली बार शराब पीते पकड़े गए तो घर पर चस्पा होंगे पोस्टर, दूसरी और तीसरी बार में मिलेगी ये सजास्वच्छता अभियान 2022 शुरू, 100 लाख किलो प्लास्टिक जमा करने का लक्ष्यसैनिटरी पैड के लिए IAS से भिड़ने वाली बिहार की लड़की को मुफ्त मिलेगा पैड, पढ़ाई का खर्च भी शून्यएयरपोर्ट पर 'राम' को देख भावुक हो गई बुजुर्ग महिला, छूने लगी अरुण गोविल के पैर, आस्था देख छलके आंसू
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.