scriptHindu temple will be inaugurated in Dubai, why it is so special here | दुबई में आज 'पहले' हिंदू मंदिर का उद्घाटन, इसलिए है ये बहुत ख़ास? | Patrika News

दुबई में आज 'पहले' हिंदू मंदिर का उद्घाटन, इसलिए है ये बहुत ख़ास?

locationजयपुरPublished: Oct 04, 2022 11:12:18 am

Submitted by:

Swatantra Jain

दुबई में स्वतंत्र और स्वायत्त एकल इकाई के रूप में पहले हिंदू मंदिर का उद्घाटन दशहरा से एक दिन पहले 4 अक्टूबर को हो रहा है। मंदिर जेबेल अली में 'पूजा गांव' में स्थित है। इस क्षेत्र में कई चर्च और एक गुरुद्वारा भी है। लेकिन मंदिर अब तक इससे पहले कोई नहीं था। इस तरह से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के दुबई में पहला हिंदू मंदिर आज से खुल गया है।

dubai_first_temple.jpg
संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के दुबई में पहला हिंदू मंदिर आज से खुल रहा है। दुबई में पहले स्वतंत्र और स्वतंत्र हिंदू मंदिर का उद्घाटन दशहरा से एक दिन पहले 4 अक्टूबर को किया जा रहा। मंदिर जेबेल अली में 'पूजा गांव' में स्थित है। इस क्षेत्र में कई चर्च और एक गुरुद्वारा भी है। खलीज टाइम्स के अनुसार, यह सिंधी गुरु दरबार मंदिर का विस्तार है, जो संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के सबसे पुराने हिंदू मंदिरों में से एक है। मंदिर 5 अक्टूबर से आम लोगों के लिए खोल दिया जाएगा।
वर्ष 2020 में रखी गई थी नींव

इस क्षेत्र में हिंदुओं की दशक भर से चली आ रही मांग को पूरा करते हुए मंदिर की नींव 2020 में रखी गई थी। मंदिर में 16 देवताओं की मूर्तियां स्थापित की गई हैं। इसमें अलंकृत स्तंभ, अग्रभाग पर हिंदू और अरबी ज्यामितीय डिजाइन और छत पर घंटियां हैं। मंदिर में श्री गुरु ग्रंथ साहिब भी स्थापित किया गया है।1 सितंबर को मंदिर का सॉफ्ट ओपनिंग हुई थी, जिसमें हजारों भक्तों ने भाग लिया। मुख्य हॉल में केंद्रीय गुंबद पर एक 3डी प्रिंटेड गुलाबी कमल स्थापित किया गया है जहां देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं। मंदिर में किसी भी दिन 1200 से अधिक भक्तों को समायोजित किया जा सकता है।
आज सार्वजनिक प्रवेश नहीं
गल्फ न्यूज के अनुसार मंदिर के ट्रस्टी राजू श्रॉफ ने उसे बताया कि, "यूएई के शासकों की उदारता और सामुदायिक विकास प्राधिकरण (सीडीए) के सहयोग से, हम कल शाम हिंदू मंदिर दुबई का आधिकारिक उद्घाटन समारोह आयोजित कर रहे हैं।" उन्होंने कहा कि उद्घाटन के दिन सार्वजनिक प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा और भक्तों से अनुरोध किया कि वे 5 अक्टूबर से पहले मंदिर में न आएं।
सहिष्णुता और सह-अस्तित्व मंत्री होंगे मुख्य अतिथि

श्रॉफ ने कहा कि सहिष्णुता और सह-अस्तित्व मंत्री शेख नाहयान बिन मुबारक अल नाहयान इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे। साथ ही यूएई में भारतीय राजदूत संजय सुधीर मुख्य अतिथि होंगे। इस दौरान कम्युनिटी डेवलपमेंट अथॉरिटी (सीडीए) के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। इसके अलावा, संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय राजदूत, संजय सुधीर को सम्मानित अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है। कार्यक्रम में सीडीए अधिकारी व अन्य अतिथि मौजूद रहेंगे।
दर्शन के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर एक क्यूआर-आधारित नियुक्ति प्रणाली
भक्तों के लिए 'दर्शन' को आसान बनाने के लिए, मंदिर प्रबंधन ने अपने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर एक क्यूआर-आधारित नियुक्ति प्रणाली स्थापित की है। मंदिर की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, यह सुबह 6:30 बजे से रात 8 बजे तक खुला रहेगा। प्रारंभ में, केवल सीमित भक्तों को ही मंदिर में जाने की अनुमति थी। हालांकि, 5 अक्टूबर से भक्तों की संख्या पर प्रतिबंध रहेगा और वे अपॉइंटमेंट बुक करके फिलहाल परिसर में प्रवेश कर सकते हैं।
वर्शिप विलेज या पूजा गांव

यह मंदिर दुबई के वर्शिप विलेज विलेज में बनाया गया है। यहां पहले से कई चर्च और गुरु नानक दरबार गुरुद्वारा मौजूद हैं। यहां सभी धर्मों के लोग जा सकते हैं। यहां नौ दिनों तक विशेष पूजा का आयोजन भी किया गया। आधिकारिक उद्घाटन से पहले एक सितंबर को मंदिर को आंशिक तौर पर खोल दिया गया था। अब तक हज़ारों लोग मंदिर की झलक देख चुके हैं। अब तक मंदिर में प्रवेश के लिए मंदिर की वेबसाइट पर क्यूआर कोड के जरिए ही अप्वाइंटमेंट बुक करना पड़ता था। फिलहाल मंगलवार को उद्घाटन कार्यक्रम की वजह से आम जनता को प्रवेश नहीं मिलेगा। लेकिन बुधवार से यह सभी के लिए खोल दिया जाएगा।
मंदिर में हैं 16 भगवानों की मूर्तियां

यूएई में करीब 35 लाख भारतीय रहते हैं। इनमें हिंदू, मुसलमान, सिख और ईसाई भी शामिल हैं। ये मंदिर एक तरह से सभी दुबई में रहने वाले भारतीयों के लिए आस्था का केंद्र बनकर उभर सकता है।
एयर विस्तारा की पहली फ्लाइट

बता दें, इससे पहले दो अक्टूबर को ही मुंबई और अबू धाबी के बीच एयर विस्तारा की पहली उड़ान के साथ अब दोनों देशों के बीच एक और फ्लाइट शुरू हो गई है। इस मौके पर यूएई में भारत के राजदूत ने सांकेतिक ट्वीट करते हुए कहा था कि अब दोनों देश - पहले से कहीं ज्यादा जुड़ गए हैं!


सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

दिल्ली में श्रद्धा मर्डर जैसा एक और केस, शव के टुकड़े कर फ्रिज में रखा, मां-बेटा गिरफ्तारगुजरात चुनाव में 'आप' को झटका, वसंत खेतानी भाजपा में शामिल केजरीवाल निराशादिल्ली के स्कूल में बम की सूचना से मचा हड़कंप, डिस्पोजल स्क्वॉड मौके परगुजरात चुनाव: भाजपा के पूर्व मंत्री जय नारायण व्यास बेटे के साथ कांग्रेस में शामिलFIFA 2022 : मोरक्को से हारने पर बेल्जियम में दंगा, पथराव के दौरान दागे आंसू गैस के गोले, कई गिरफ्तारएनालिसिस: मुुलायम की सीट बचाने में कहीं सपा के हाथ से निकल न जाए आजम का गढ़रूबी आ‌सिफ खान बोलीं- भगवान श्रीराम ही हमारे पैंगबर थे, सबसे श्रेष्ठ है सनातन धर्मGujarat assembly elections 2022: कच्छ-सौराष्ट्र- कौन होगा खुश और कौन फुस्स
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.