झुंड में रहने वाले आदिवासी कैसे रोकेंगे वायरस का प्रसार

-ऑस्ट्रेलिया, उत्तरी अमरीका और प्रशांत द्वीप में रहने वाले आदिवासी (tribal in australia, north america and pacific) समुदाय बड़ी चुनौती

By: pushpesh

Updated: 24 Apr 2020, 11:59 PM IST

कैनबरा.

कोरोनावासयरस के प्रसार को रोकने की सबसे बड़ी चुनौती दुनिया के आदिवासी समुदायों में है, जहां लोग समूहों में रहते हैं। ऑस्ट्रेलिया की अन्य जनजातियों की तरह उत्तरी क्वींसलैंड के याराबा में आदिवासियों ने कारोनावायरस का प्रवेश रोकने के लिए आवागमन के एकमात्र सीढ़ीदार पुल को हटा दिया है। केवल आपातकालीन सेवा और स्वास्थ्य सेवा से जुड़े कर्मचारियों को ही यहां आने की अनुमति है, वह भी थर्मन स्कैनिंग के बाद। रेंजर्स बोट के जरिए गश्त लगा रहे हैं। याराबाह में चिकित्सा अधिकारी जेसन किंग ने कहा, यहां लोगों को अलग करना काफी चुनौतीभरा है, क्योंकि ये लोग आमतौर पर शहरी समाज के नियमों को नहीं मानते, इनकी अपनी रीति और रवायत हैं। यहां 350 घरों में करीब 3500 लोग रहते हैं।

Coronavirus : सामाजिक अलगाव आदिवासियों को तबाह कर सकता है

दूसरा दूर दराज के शहरों में लोगों को डर है कि इन आदिवासी इलाकों से लोग माइन्स में काम करने के लिए आते हैं, जो वायरस के वाहक बन सकते हैं। पिछले सप्ताह ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने जैव सुरक्षा अधिनियम के तहत सभी राज्य और टैरेटरी को देश 76 आदिवासी इलाकों में प्रवेश के लिए प्रतिबंधित कर दिया, जहां आमतौर पर लोग सैर सपाटे के लिए जाते हैं।

याराबा में यह डर भी
डॉ. किंग कहते हैं कि याराबा के लोग यदि नियमों को मान भी लें तो उनका खानपान वायरस के प्रसार में सहायक हो सकता है। क्योंकि भोजन के लिए कंगारू और अन्य जानवरों का शिकार उनके रोजमर्रा के जीवन का हिस्सा है।

प्रशांत द्वीप समूह में भी फैल रहा वायरस
वायरस अब कमजोर चिकित्सा संसाधनों वाले प्रशांत द्वीप समूह में भी फैल रहा है। वानअतु को क्रूज शिप में संक्रमित यात्रियों के डर से पहले ही कोरेंटाइन किया जा चुका है। जबकि 90 लाख की आबादी वाले पापुआ न्यूगिनी में पिछले मंगलवार को 14 दिन का लॉकडाउन कर दिया गया। चिकित्सक जैसन एगोस्टिनो का कहना है कि उत्तरी अमरीका, न्यूजीलैंड और प्रशांत द्वीप समूह के आदिवासी इलाकों को भीड़ और एकजुट होने से बचाना बड़ी चुनौती है।

Corona virus COVID-19
Show More
pushpesh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned