दुनिया में 7 करोड़ विस्थापितों की हिफाजत कैसे होगी

-दुनिया के 180 देशों में पैर पसार चुका कोरोनावायरस कैसे हारेगा? कई देशों ने सुरक्षात्मक उपायों के तहत सीमाएं सील कर दी।

By: pushpesh

Updated: 20 Apr 2020, 08:41 AM IST

बाहरी देशों से आना-जाना रोक दिया। लेकिन असर समस्या दुनिया के विभिन्न हिस्सों में फैले करीब सात करोड़ शरणार्थी हैं, जो महामारी के बिना ही जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं। रिफ्यूजीज इंटरनेशनल का कहना है कि शरणार्थी समुदायों की सुरक्षा में विफलता बड़े पैमाने पर तबाही ला सकती है। संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक ज्यादातर देशों में ये शरणार्थी ऐसे अस्थाई शिविरों में जीवन यापन कर रहे हैं, जहां जनसंख्या घनत्व अधिक है, कई परिवार मिलकर शौचालय या बाथरूम इस्तेमाल करते हैं, खाना बनाने और खाने की प्रणाली भी समूह से जुड़ी हुई है। सबसे अधिक तीस लाख अफगानी शरणार्थी ईरान में रहते हैं, जो जलवायु के हिसाब से इस वायरस के पनपने के अनुकूल है। यहां 50 हजार से ज्यादा संक्रमित हैं और 3100 के करीब मौतें हो चुकी हैं। दसों हजार अफगानिस्तान लौट आए हैं। अफगानिस्तान में संक्रमण के शिकार सभी रोगी ईरान से आए हैं।


अफ्रीका में 1.7 करोड़ विस्थापितों में 63 लाख से अधिक शरणार्थी हैं। सोमालिया के बड़े हिस्से पर काबिज आंतकी समूह अल शबाब ने यहां वायरस को रोकने के लिए कोई भी कदम उठाने से इनकार कर दिया। लैटिन अमरीकी देश वेनजुएला में भी काफी संख्या में शरणार्थी हैं, लेकन वेनेजुएला पहले ही आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। ऐसे में यदि यहां महामारी फैली तो विकराल रूप ले लेगी। ग्रीन अपने 40 हजार शरणार्थियों आवश्यक सुविधाएं नहीं दे रहा। इनमें चिकित्सा देखभाल प्रमुख है। इसके अलावा मध्य पूर्व के देश इराक, सीरिया, लेबनान और तुर्की में भी एक करोड़ 20 लाख के करीब शरणार्थी हैं।

Corona virus
Show More
pushpesh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned