पंजशीर में 'नरसंहार' करने पर ईरान ने पाकिस्तान और तालिबान को दी चेतावनी, कहा-लक्ष्मण रेखा पार न करें

ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि अफगानिस्तान का इतिहास बताता है कि प्रत्‍यक्ष या अप्रत्‍यक्ष हस्‍तक्षेप का नतीजा केवल हमलावर की हार होता है।

By: Mahendra Yadav

Published: 06 Sep 2021, 06:15 PM IST

अफगानिस्तान की पंजशीर घाटी में हिंसा करने पर तालिबानी घिरते नजर आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि इसमें पाकिस्तान भी तालिबान का साथ दे रहा है। इस पर अफगानिस्तान के पडोसी देश ईरान ने दोनों देशों को चेतावनी दी है। ईरान के विदेश मंत्रालय ने तालिबान को चेतावनी देते हुए कहा है कि लक्ष्मण रेखा को पार ना करें। साथ ही ईरान ने कहा कि वह पंजशीर में पाकिस्‍तान के हस्‍तक्षेप की भी जांच कर रहा है। तालिबान ने बीती रात पंजशीर में जो हमला किया, ईरान ने उसकी निंदा की है।

पाकिस्तानी हस्तक्षेप की की जा रही जांच
तेहरान टाइम्स ने ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद खतीब जादेह के हवाले से कहा कि पंजशीर पर हुए हमले में पाकिस्‍तानी हस्‍तक्षेप की जांच की जा रही है। साथ ही ईरान का कहना है कि बातचीत ही अफगान समस्‍या का एकमात्र हल है। प्रवक्ता सैयद खतीब जादेह ने चेतावनी देते हुए कहा कि सभी लक्ष्‍मण रेखा को पार न करें और अंतरराष्‍ट्रीय कानून के तहत जिम्‍मेदारियों को आवश्‍यक रूप से माना जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें— तालिबान को झटका: पंजशीर में ढेर हुए 600 लड़ाके, ईरान ने की चुनाव कराने की मांग

taliban_fighters_1.png

'नतीजा हमलावार की हार ही होता है'
इसके साथ ही ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि अफगानिस्तान के घटनाक्रम पर ईरान नजदीकी से नजर रखे हुए है। उन्होंने यह भी कहा कि अफगानिस्तान का इतिहास बताता है कि प्रत्‍यक्ष या अप्रत्‍यक्ष हस्‍तक्षेप का नतीजा केवल हमलावर की हार होता है। पंजशीर के विद्रोहियों का आरोप है कि उन पर हो रहे हमले में पाकिस्‍तानी सेना ने तालिबान को जीत दिलाने में मदद की है। साथ ही उनका आरोप है कि तालिबान ने पाकिस्‍तान की मदद से नरसंहार को अंजाम दिया है।

यह भी पढ़ें—तालिबान का फरमान: पर्दे में रहेंगी महिलाएं तो ही मिलेंगे रोजगार और शिक्षा, अमरीका ना दे संस्कृति में दखल

ईरान ने की अफगानिस्तान में चुनाव कराने की अपील
इससे पहले शनिवार को ईरान ने कहा था कि अफगानिस्तान में जनता द्वारा चुनी हुई सरकार बननी चाहिए। ईरान का कहना है कि अफगानिस्तान के सफल भविष्य के लिए चुनाव बेहद जरूरी हैं। इससे देश में शांति बहाल हो सकेगी। ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी ने कहा कि अफगानिस्तान में एक ऐसी सरकार बननी चाहिए जो लोगों के वोटों और इच्छा से चुनी गई हो।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned