आईएसआईएस का हनी ट्रैप, यूथ को लुभाने के लिए हसीनाएं कर रहीं ये घिनौना काम

आईएसआईएस का हनी ट्रैप, यूथ को लुभाने के लिए हसीनाएं कर रहीं ये घिनौना काम

raghuveer singh | Updated: 14 May 2016, 01:51:00 PM (IST) विश्व

आईएस के हैंडलर्स सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर भारतीय युवाओं को बना रहे हैं निशाना, महिला रिक्रूटर्स यंगस्टर्स को फंसाने के लिए कर रही फेंक रहीं हुस्न का जाल...

आईएस के हैंडलर्स सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर भारतीय युवाओं को बना रहे हैं निशाना, महिला रिक्रूटर्स यंगस्टर्स को फंसाने के लिए कर रही फेंक रहीं हुस्न का जाल...


आतंकी संगठन इस्‍लामिक स्‍टेट भारत में जड़ें फैलाने की भरसक कोशिश कर रहा है। हाल ही इस साजिश का खुलासा हुआ कि इस संगठन के जो आतंकी सोशल मीडिया के जरिए भारतीय युवाओं को कट्टरपंथी बनाने और आईएस में शामिल करने की कोशिश कर रहे हैं, उनमें तीन महिलाएं भी शामिल हैं। ये हुस्न, हूर और जन्नत का लालच दे रही हैं।



बताया जा रहा है कि ये महिलाएं अर्जेंटीना, श्रीलंका और फिलीपींस से हैं। सुरक्षा एजेंसियों का मानना है कि ये भारत में युवा लड़कों को संगठन से जोडऩे के लिए घिनौना खेल रही हैं। मादक वीडियो के जरिए इस तरह के काम को अंजाम दिया जा रहा है।




यूथ को खूबसूरत विदेशी महिलाओं के मादक वीडियो से आतंक के जाल में फंसाने का गंदा खेल खेला जा रहा है। गौरतलब है कि इन महिलाओं ने अपने झूठे नाम भी रख रखे हैं।फिलीपींस से केरन, केन्या से अमीना, अर्जेंटीना से फातिमा, श्रीलंका से एजे और अर्जेंटीना से आएशा लीना नाम की महिला आईएसआईएस की हैंडलर बताई जाती हैं।




पैसे और लग्जरी लाइफ का दिखाती हैं ख्याब
महिला रिक्रूटर्स यंगस्टर्स को गु्रप से जोड़कर वीडियो लिंक भेज ब्रेन वॉश करती हैं। उन्हें पैसे और बेहतर जिंदगी जीने का लालच दिया जाता है। ये भारत के मुस्लिम युवकों को जिहादी बनने के लिए उकसाती हैं। इस मामले में गिरफ्तार हुए संदिग्धों ने इंटेलिजेंस एजेंसियों को पूछताछ में बताया कि कैसे आईएस के हैंडलर्स सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर भारतीय यूथ को टारगेट कर रहे हैं।



नौकरी की तलाश करने वाले हैं टारगेट
बगदादी के हैंडलर सोशल मीडिया पर खूबसूरत लड़कियों की तस्वीरें और वीडियो पोस्ट करते हैं। वे कहते हैं उनके साथ होगे, तो हुस्न मिलेगा, जन्नत मिलेगी। ऐशो आराम होगा।




फरेब का जाल
भारत बगदादी की नजरों में है। यहां के युवाओं की भावनाओं को भड़काने के लिए फर्जी वीडियो दिखाए जाते हैं, जिसमें जुल्म होते दिखाया जाता है। ताकि युवाओं का खून खौल उठे और वे अपने ही देश के खिलाफ उठे खड़े हों। एनआईए सूत्रों का कहना है कि आईएसआईएस हैंडलर ट्‍विटर पर कई दर्जनों नाम से अकाउंट बना रहे हैं। ये नए-नए चैटिंग मैसेंजरों का इस्तेमाल कर रहे हैं। साइबर आतंकवादी ट्‍विटर के माध्यम से अपनी सक्रियता बढ़ा रहे हैं

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned