रूस में बर्फवारी से जनजीवन बेहाल, दिसंबर में सूर्य देव का केवल छह मिनट के लिए हुआ दर्शन

रूस की राजधानी मास्‍को के इतिहास में अब तक की रिकॉर्ड बर्फवारी हुई है। बिगड़े हालात पर काबू पाने के लिए इमरजेंसी लागू कर दी गई है।

By: Dhirendra

Published: 05 Feb 2018, 05:25 PM IST

नई दिल्‍ली. रूस की राजधानी मास्‍को के इतिहास में अब तक की रिकॉर्ड बर्फवारी हुई है। बर्फबारी की वजह से एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि 5 अन्य घायल हो गए। मास्को में बर्फवारी का यह सिलसिला शनिवार से ही जारी है। तेज हवाओं के साथ भारी बर्फबारी हो रही है जिस वजह से सामान्य जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। वहां के मौसम विभाग के मुताबिक दिसंबर माह में सूर्य देव का लोगों को केवल छह मिनट के लिए दर्शन हुए।

61 साल बाद गिरी इतनी बर्फ
सोमवार को 43 सेंटीमीटर बर्फ गिरी। इससे पहले 1957 में करीब 38 सेंटीमीटर बर्फ गिरी थी। इस लिहाज से अब तक की यह सबसे ज्‍यादा बर्फवारी है। मास्को के मयेर सर्गई सोबियानिन ने बर्फवारी की जानकारी देते हुए कहा कि इससे एक व्यक्ति की तब मौत हो गई है। उसकी मौत बर्फवारी के दौरान एक पेड़ उसके ऊपर गिरने से हुआ। अधिकारियों के मुताबिक शहर भर में 2,000 से ज्यादा पेड़ गिरे हैं। उन्‍होंने कहा कि स्‍थानीय प्रशासन को इस स्थिति से पार पाने के लिए चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। बर्फबारी की वजह से 3 हजार से ज्यादा घरों की बिजली गुल हो गई है। मौसम विभाग ने सोमवार को और ज्यादा बर्फबारी और तापमान में काफी गिरावट की चेतावनी जारी की है। रूस के मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार को मॉस्को में तापमान -7 से -2 डिग्री सेल्सियस के बीच रह सकता है।

हवाई यातायात प्रभावित
मास्को में तीन एयरपोर्ट हैं। बर्फबारी के चलते तीनों से हवाई उड़ानें बुरी तरह से प्रभावित हैं। 217 फ्लाइट्स को उड़ान भरने में देरी हुई जबकि 17 को रद्द करना पड़ा । मौसम विभाग के अनुमान में हिसा‍ब से मंगलवार को तापमान माइनस 8 डिग्री रह सकता है। मास्को में दिसंबर महीने में केवल 6 मिनट के लिए सूरज ने दर्शन दिए। धूप नहीं निकलने से लोगों का घर से बाहर निकलना भी किसी चुनौती से कम नहीं है।

 

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned