scriptNobel Prize 2022 In Medicine Awarded To Svante Paabo Of Sweden | Nobel Prize 2022: स्वीडन के स्वांते पाबो को चिकित्सा के लिए मिला नोबेल प्राइज | Patrika News

Nobel Prize 2022: स्वीडन के स्वांते पाबो को चिकित्सा के लिए मिला नोबेल प्राइज

locationनई दिल्लीPublished: Oct 03, 2022 03:53:59 pm

नोबल पुरस्कारों का ऐलान हो गया है। इस बार चिकित्सा के लिए स्वीडन के स्वांता पाबो को इस पुरस्कार से नवाजा गया है। विस्तार से जानते हैं कि, उनके किस योगदान के लिए इस श्रेष्ठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

svante_pabbo.jpg
वर्ष 2022 के नोबल प्राइज का ऐलान हो गया है। इस वर्ष स्वीडन के स्वांते पाबो को चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा की गई है। उन्होंने ‘मानव के क्रमिक विकास’ पर खोज के लिए इस सम्मान से नवाजा गया। दरअसल विलुप्त होमिनिन और मानव विकास के जीनोम से संबंधित उनकी खोजों के लिए उन्हें इस पुरस्कार से नवाजा गया है। बता दें कि, ये पुरस्कार विज्ञान की दुनिया में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है। यह स्वीडन के करोलिंस्का संस्थान की नोबेल असेंबली की ओर से प्रदान किया जाता है।

पिछले वर्ष के पुरस्कार विजेताओं में डेविड जुलियस और आर्डेम पटापुटियन शामिल थे। इनकी खोज मानव शरीर तापमान और स्पर्श को किस तरह से महसूस करता है, इस विषय पर आधारित थी।

नोबल प्राइज में क्या दिया जाता है?
नोबल प्राइज की बात करें तो इसमें एक करोड़ स्वीडीश क्रोनोर भारतीय धनराशि के मुताबिक, करीब 7.31 करोड़ रुपए की नकद राशि प्रदान की जाएगी।

यह भी पढ़े - 2021 Nobel Prize: अमरीकी वैज्ञानिकों जूलियस और अर्डेम ने जीता चिकित्सा का नोबेल


अल्फ्रेड नोबल की वसीयत से दी जाती पुरस्कार की राशि
ये पुरस्कार विजेताओं को 10 दिसंबर को दिया जाएगा। दरअसल यह राशि पुरस्कार की स्थापना करने वाले स्वीडन के आविष्कारक अल्फ्रेड नोबल की ओर से छोड़ी गई वसीयत से दी जाती है। अल्फ्रेड नोबल की मृत्यु 1895 में हुई थी।

कौन है स्वांते पाबो?
स्वांते पाबो एक स्वीडिश जेनेटिस्ट हैं, जो विकासवादी आनुवंशिकी के क्षेत्र में विशेषज्ञता रखते हैं। पैलियोजेनेटिक्स के संस्थापकों में से एक के रूप में उन्होंने निएंडरथल जीनोम पर बड़े पैमाने पर काम किया है।

 
पुरस्कार की घोषणा करते हुए नोबेल पुरस्कार समिति ने कहा, 'अपने अग्रणी शोध के माध्यम से स्वंते पाबो ने कुछ ऐसा किया है जो असंभव सा प्रतीत होता है।

निएंडरथल के जीनोम को अनुक्रमित करना, जो वर्तमान मनुष्यों के विलुप्त रिलेटिव हैं। उन्होंने पहले अज्ञात होमिनिन, डेनिसोवा की सनसनीखेज खोज भी की।'

यह भी पढ़ें

Ramon-Magsaysay Award:आखिर रैमन मैगसेसे से इतना क्यों चिढ़ते हैं भारत के वामपंथी, ये है खास कारण

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

मालामाल होगा महाराष्ट्र! चंद्रपुर और सिंधुदुर्ग में मिली सोने की खानBJP की राष्ट्रीय कार्यसमिति में कैप्टन अमरिंदर और सुनील जाखड़ की एंट्री, जयवीर शेरगिल बने प्रवक्तादिल्ली एमसीडी चुनाव पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, रिट खारिजMCD चुनाव प्रचार के आखिरी दिन केजरीवाल का मास्टरस्ट्रोक, चंदा मांगकर योग शिक्षकों को दिया वेतनसमुद्री सीमाओं को सुरक्षित रखने में अहम भूमिका निभा रहे शिपयार्ड : राजनाथ सिंहमहाराष्ट्र में सिंगल यूज प्लास्टिक से सख्त बैन हटा, इन चीजों के उपयोग की अनुमति मिलीजेएनयू मामले में 'अज्ञात व्यक्तियों' के खिलाफ शिकायत दर्जGood News: यूपी के मेडिकल कॉलेजों में होंगी 45 हजार से ज्यादा भर्तियां, सरकार ने दी मंजूरी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.