scriptहांगकांग की आजादी मांगने वालों को कुचल रहा चीन, 6 नेता अपराधी घोषित, पासपोर्ट भी रद्द   | Passports of 6 democracy supporters canceled in Hong Kong | Patrika News
विदेश

हांगकांग की आजादी मांगने वालों को कुचल रहा चीन, 6 नेता अपराधी घोषित, पासपोर्ट भी रद्द  

हांगकांग और चीन ने इस बात पर जोर दिया है कि इन कानूनों ने क्षेत्र में स्थिरता लाने में मदद की है। हालांकि, आलोचकों ने इस कानून की आलोचना करते हुए कहा है कि इसने हांगकांग की आजादी पर अंकुश लगा दिया है।

नई दिल्लीJun 12, 2024 / 11:24 am

Jyoti Sharma

Passports of 6 democracy supporters canceled in Hong Kong

Passports of 6 democracy supporters canceled in Hong Kong

चीन शासित हांगकांग (Hong Kong) ने लोकतंत्र की मांग उठाने वाले 6 नागरिकों को अपराधी घोषित कर दिया है और इनके पासपोर्ट तक रद्द कर दिए। साथ ही पुलिस ने इन पर करोड़ों रुपए का इनाम भी रख दिया है। विदेशों में रह रहे इन लोगों में नेता, विधायक और सामाजित कार्यकर्ता शामिल हैं। अंतर्राष्ट्रीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक चीन (China) के साए में रह रहे हांगकांग ने अपने नए अधिनियम घरेलू सुरक्षा कानून के तहत ये फैसला लिया है। हांगकांग ने इन लोगों को फरार कहा है और कहा है कि इन्हें हांगकांग में किसी भी तरह के व्यापारिक सौदे नहीं करने देना है। इसमें नकदी से लेकर सोने तक के वित्तीय लेनदेन भी शामिल हैं।

चीन के लाए कानून के तहत हुई कार्रवाई

हांगकांग (Hong Kong) की सरकार के एक अधिकारी के दिए बयान के मुताबिक “ये ‘अपराधी’ यूनाइटेड किंगडम यानी UK में छिपे हुए हैं और राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने वाली गतिविधियों में लगे हुए हैं। वो हांगकांग को बदनाम करने और बदनाम करने के लिए डराने वाली टिप्पणियां भी करते हैं। सिर्फ यही नहीं वो अपने बुरे कामों को बचाने के लिए बाहरी ताकतों का भी सहारा लेते हैं। इसलिए हमने उन्हें एक मजबूत झटका देने के लिए ऐसा कदम उठाया है।”

इन लोगों पर की कार्रवाई

बता दें कि जिन लोगों को हांगकांग ने अपराधी घोषित किया है उनमें पूर्व विधायक नाथन लॉ, कार्यकर्ता फिन लाउ, श्रम अधिकार कार्यकर्ता क्रिस्टोफर मुंग, फोक का-ची और चोई मिंग-दा के साथ-साथ यूके वाणिज्य दूतावास के कार्यकर्ता भी शामिल हैं। एक और शख्स साइमन चेंग को अगस्त 2019 में चीन में 15 दिनों के लिए हिरासत में लिया गया था।
X पर एक पोस्ट में, फिन लाउ ने हांगकांग सरकार की कार्रवाई को “अंतरराष्ट्रीय दमन का स्पष्ट कार्य” कहा। साथ में ये भी कहा कि ये उन्हें उस चीज़ के लिए प्रचार करने से नहीं रोकेगा जिसमें वो विश्वास करते हैं। उन्होंने लिखा कि “दमन की कार्रवाई मुझे मानवाधिकारों और लोकतंत्र की वकालत करने से नहीं रोकती। हांगकांगवासियों की, जिनमें मेरी भी लड़ाई की भावना शामिल है, बनी हुई है।”

1 मिलियन डॉलर का इनाम

हांगकांग पुलिस ने विदेशों में रहने वाले 13 लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के लिए जानकारी देने वाले किसी भी व्यक्ति को 1 मिलियन हांगकांग डॉलर यानी 1 करोड़ 7 लाख रुपए का भुगतान करने की पेशकश की है। जिसमें ये 6 लोग भी शामिल हैं। जिनके पासपोर्ट रद्द कर दिए गए हैं। बता दें कि इसी साल मार्च में, हांगकांग की विधायिका ने विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर जुलाई 2020 में चीन के लगाए गए सुरक्षा कानून के अलावा एक सुरक्षा कानून पारित किया था, जिसकी वजह से चीन में अक्सर प्रदर्शन होता रहता है। 

हांगकांग की आजादी पर अंकुश लगा रहा है चीन

हांगकांग और चीन ने इस बात पर जोर दिया है कि इन कानूनों ने क्षेत्र में स्थिरता लाने में मदद की है। हालांकि, आलोचकों ने इस कानून की आलोचना करते हुए कहा है कि इसने हांगकांग की आजादी पर अंकुश लगा दिया है। बता दें कि चीन समर्थकों से भरी हांगकांग की 90 सीटों वाली परिषद में पहली बार एक महीने के सार्वजनिक परामर्श के बाद 8 मार्च को विधेयक पेश किया गया था। तब 28 सांसदों और विधान परिषद अध्यक्ष ने कानून बनाने के लिए सर्वसम्मति से वोटिंग की थी। 

ये नए अपराध कानून में शामिल

एक रिपोर्ट के मुताबिक नए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून में कई नए अपराधों को शामिल किया गया है। जिनमें देशद्रोह, जासूसी, बाहरी हस्तक्षेप और राज्य की गुप्त बातों को गैरकानूनी तरीके से बाहर लेकर जाना शामिल है। जिसमें सबसे गंभीर अपराधों में आजीवन कारावास तक की सजा हो सकती है। इस नए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत 28 मई को एक शख्स की गिरफ्तारी हुई थी। उसका अपराध इतना था कि उसने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट किया था जिसे अधिकारियों ने देशद्रोह माना।

Hindi News/ world / हांगकांग की आजादी मांगने वालों को कुचल रहा चीन, 6 नेता अपराधी घोषित, पासपोर्ट भी रद्द  

ट्रेंडिंग वीडियो