scriptRussia claims victory in 'referendum' held in occupied Ukraine | रूस ने किया कब्जे वाले यूक्रेन में आयोजित 'जनमत संग्रह' में जीत का दावा, 30 सितंबर को पुतिन करेंगे मिलाने की घोषणा | Patrika News

रूस ने किया कब्जे वाले यूक्रेन में आयोजित 'जनमत संग्रह' में जीत का दावा, 30 सितंबर को पुतिन करेंगे मिलाने की घोषणा

locationजयपुरPublished: Sep 28, 2022 02:17:13 pm

Submitted by:

Swatantra Jain

रूस ने कब्जे वाले यूक्रेनी क्षेत्रों में चार 'जनमत संग्रह' जीतने का दावा किया है। माना जा रहा है कि इसे मॉस्को दूसरे इलाकों को कब्जे में लेने के लिए आधार के रूप में इस्तेमाल कर सकता है, साथ ही इन पर हमलों की स्थिति में अपनी संप्रभुता को खतरा बताते हुए बड़ी कार्रवाई को अंजाम दे सकता है। इस बात को जानकारी मीडिया ने बुधवार को दी। बता दें, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन 30 सितंबर को संसद को संबोधित करने जा रहे हैं, जहाँ वे जनमत संग्रह के परिणामों के आधार पर इन इलाकों को रूस में मिलाने की घोषणा करेंगे।

referendum.jpg
रूस ने कब्जे वाले यूक्रेनी क्षेत्रों में चार 'जनमत संग्रह' जीतने का दावा किया है। इसे मॉस्को दूसरे इलाकों को कब्जे में लेने के लिए आधार के रूप में इस्तेमाल कर सकता है। इस बात को जानकारी मीडिया ने बुधवार को दी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार को डोनेट्स्क और लुहान्स्क के अलगाववादी पूर्वी क्षेत्रों के साथ-साथ दक्षिणी खेरसॉन और जापोरिज्जिया क्षेत्रों के रूस के कब्जे वाले हिस्सों में मतदान हुआ था। इन क्षेत्रों में चार मिलियन लोगों को मतदान करने के लिए कहा गया था, जो यूक्रेन के क्षेत्र का लगभग 15 प्रतिशत है।
बता दें, रूस में बिखरे हुए शरणार्थी भी दर्जनों मतदान केंद्रों पर मतदान करने में सक्षम थे, जिसमें क्रीमिया भी शामिल है। 2014 में रूस ने दक्षिणी यूक्रेनी द्वीप क्रीमिया पर भी कब्जा कर लिया था।
पुतिन 30 सितंबर को कर सकते हैं इन इलाकों को रूस में मिलाने का ऐलान

जैसा कि ज्ञात है, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन शुक्रवार को देश की संसद के दोनों सदनों को संबोधित करने वाले हैं, यहाँ वह औपचारिक रूप से यूक्रेन के मास्को के कब्जे वाले क्षेत्रों को रूस में शामिल किए जाने की घोषणा कर सकते हैं, ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने यह दावा किया है। रूस जनमत संग्रह को इन इलाकों को रूस में शामिल किए जाने का आधार बना सकता है। ब्रिटिश रक्षा मंत्रालय ने नवीनतम खुफिया अपडेट में कहा कि यूक्रेन के कब्जे वाले हिस्सों में जो जनमत संग्रह आयोजित किया जा रहा है, वह मंगलवार, 27 सितंबर को समाप्त हो गया है और इसमें रूस के पक्ष में फैसला हुआ है, जैसी कि आशंका थी।
जेलेंस्की ने लगाए रूस पर इलाके को हथियाने के आरोप

मीडिया की रिपोर्ट में कहा गया है कि, मतदान की स्वतंत्र रूप से निगरानी नहीं की गई क्योंकि इस प्रक्रिया को कोई अंतरराष्ट्रीय मान्यता नहीं थी। हालांकि, इन क्षेत्रों में तैनात रूसी अधिकारियों ने मतदान में भाग लेने वाले लोगों से लगभग पूर्ण समर्थन का दावा किया है। जनमत संग्रह का जवाब देते हुए, यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने रूस पर इलाके को हथियाने की कोशिश कर संयुक्त राष्ट्र के कानून का क्रूरता से उल्लंघन करने का आरोप लगाया।
यूक्रेन के लिए कुछ भी नहीं बदलेगा

राष्ट्र के नाम अपने रात के वीडियो संबोधन में, राष्ट्रपति ने मंगलवार को कहा, "रूस की कोई भी आपराधिक कार्रवाई यूक्रेन के लिए कुछ भी नहीं बदलेगी। हम संयुक्त राष्ट्र चार्टर को मान्यता देते हैं, हम लोगों के सह-अस्तित्व के बुनियादी सिद्धांतों को पहचानते हैं और हम इसमें कार्य करना जारी रखेंगे। यूक्रेन, यूरोप और दुनिया में सामान्य जीवन की रक्षा के लिए।"
हम खेरसॉन, जापोरिजिझयां, डोनबास, खार्कीव के वर्तमान कब्जे वाले क्षेत्रों में और क्रीमिया में अपने लोगों की रक्षा करने के लिए कार्य करते रहेंगे। कब्जे वाले क्षेत्र में इस तमाशे को जनमत संग्रह की नकल भी नहीं कहा जा सकता है।
अब संसद में पुतिन कर सकते हैं बड़ी घोषणा
मीडिया रिपोर्ट्स के मुतुबिक ब्लादिमीर पुतिन इसी हफ्ते संसद के संयुक्त सत्र में जनमंत संग्रह के परिणाम की घोषणा कर सकते हैं। वह यूक्रेन के 15 फीसदी हिस्से को रूस में विलय करने का ऐलान भी कर सकते हैं। हालांकि पुतिन अगर ऐसा कदम उठाते हैं तो दोनों देशों के बीच युद्ध और भी खतरनाक हो जाएगा। वहीं रूसी मीडिया भी अटकलें लगा रही है कि पुतिन मार्शल कानून लागू करके कुछ हद तक सेना की तैनाती करेंगे और सीमाओं को उन सभी लोगों के लिए बंद कर दिया जाएगा जिनकी आयु युद्ध में भाग लेने योग्य है।
98 प्रतिशत तक लोगों ने रूस के पक्ष में किया मतदान

लुहांस्क प्रशासन का कहना है कि 98.5 फीसदी लोगों ने रूस में शामिल होने के पक्ष में वोट किया। यह बात 69 प्रतिशत बैलट काउंटिंग के आधार पर कही गई है। वहीं जपोरिजिज्या में तैनात किए गए रूस के एक अधिकारी ने कहा कि 93 फीसदी वोटों की गिनती पूरी हो चुकी है। वोटिंग कमिटी के मुताबिक खेरसन में 87 फीसदी लोगों ने क्रेमलिन के पक्ष में मतदान किया है।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

श्रद्धा मर्डर केस : FSL दफ्तर के बाहर आफताब की वैन पर तलवार से हमला, 4-5 लोगों ने बनाया निशानागुजरात चुनाव: अरविंद केजरीवाल पर पथराव, सूरत में रोड शो के दौरान मचा हड़कंप'सद्दाम' जैसा लुक पर हिमंता बिस्व सरमा की सफाई, कहा- दाढ़ी हटा लें तो 'नेहरू' जैसे दिखेंगे राहुलदिल्ली में श्रद्धा मर्डर जैसा एक और केस, शव के टुकड़े कर फ्रिज में रखा, मां-बेटा गिरफ्तारपायलट और गहलोत की कलह से भारत जोड़ो यात्रा पर नहीं पड़ेगा फर्क : राहुल गांधीCM भूपेश बघेल बोले- बलात्कारी को बचाने में लगी हुई है भाजपा, ED-IT को लेकर कही ये बातऋतुराज गायकवाड़ ने एक ओवर में 7 छक्के जड़कर बनाया विश्व रिकॉर्ड, युवराज को भी छोड़ा पीछेगुजरात चुनाव में 'आप' को झटका, वसंत खेतानी भाजपा में शामिल केजरीवाल निराशा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.