भारतीय मूल का आतंकी बना ISIS का सीनियर कमांडर

भारतीय मूल के आतंकवादी सिद्धार्थ धर को आतंकी संगठन आईएस में नई जिम्मेदारी सौंपी गई है। सिद्धार्थ को अब आईएस में सीनियर कमांडर बनाया गया है, जिसे अब 'नया जिहादी जॉन' कहा जा रहा है।

भारतीय मूल का सिद्धार्थ धर अब आतंकी संगठन आईएस का सीनियर कमांडर बन गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आतंकी संगठन आईएस के चंगुल से निकल भागने में कामयाब रही एक यजीदी किशोरी ने ये चौंकाने वाला खुलासा किया है। ब्रिटेन में रहे सिद्धार्थ को अब आईएस का 'नया जिहादी जॉन' कहा जा रहा है। यह अपने पूर्ववर्ती की तरह ही बेहद बर्बर है, जिसे दूसरों का सिर कलम करने में ज्यादा देर नहीं लगती है। 



मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एक यजीदी किशोरी ने अपनी आपबीती सुनाते हुए कहा है कि इराक के मोसुल शहर में वह सिद्धार्थ के चंगुल में ही थी। यजीदी किशोरी  ने बताया कि उसका दो साल पहले इराक के सिंजर से अपहरण किया गया था। उस वक्त वह महज 16 साल की थी। आईएस ने उसके परिवार के 27 अन्य सदस्यों का भी अपहरण किया था।उसने बताया कि उसे कई बार पीटा गया, उसके साथ रेप हुआ और एक सीरियाई के साथ शादी करने का दबाव डाला गया। इस दौरान वह प्रेग्रेंट भी हो गई।



सिद्धार्थ को आतंकी गतिविधियों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेेने के लिए मुहम्मद एमवाजी की जगह दी गई है। मुहम्मद एमवाजी को ही जिहादी जॉन के नाम से जाना जाता है। एमवाजी की मौत के बाद सिद्धार्थ को उसकी जगह सौंपी गई है। उसे भी विदेशी नागरिकों के सिर कलम करने का जिम्मा सौंपा गया। 




गौरतलब है कि ब्रिटेन में रहने वाले हिंदू सिद्धार्थ धर ने इस्लाम धर्म ग्रहण कर लिया था। इसके बाद उसने अपना नया नाम अबू रुमायश रखा और आतंकी गतिविधियों में शामिल हो गया। इसके बारे में उसके घर वाले तक नहीं जान पाए थे। उसने शादी की और फिर 2014 में अपनी पत्नी और बच्चों के साथ आइएस में शामिल होने के लिए सीरिया चला गया। 

Abhishek Pareek
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned