इसलिए रूस ने खरीदी यूरोपीय देशों से 45 हजार गायें

इसलिए रूस ने खरीदी यूरोपीय देशों से 45 हजार गायें
45 हजार गायें खरीदी

Pushpesh Sharma | Publish: Nov, 10 2019 08:03:00 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2019 08:03:01 PM (IST) विश्व

2014 में क्रीमिया (cremia) मामले में प्रतिबंधों के बाद रूस (russia) ने बदले की कार्रवाई करते हुए यूरोप से भोजन का आयात रोक दिया था। इसलिए डेयरी उद्योग ने 200 अरब रूबल का निवेश किया है।

जयपुर.

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन देश को विदेशी भोजन की पकड़ से दूर कर डेयरी उद्योग के आधुनिकीकरण पर ध्यान दे रहे हैं। डच गौडा चीज और इतालवी परमेसन जैसे खाद्य पदार्थों पर प्रतिबंध लगाने के पांच वर्ष बाद रूस अब जर्मन दूध कंपनी के मार्फत यूरोपीय देशों से गायों को खरीद रहा है। यह आठ साल के भीतर रूस को बड़े आयातक से दूध के लिए आत्मनिर्भर बनाने की सरकारी योजना का हिस्सा है। लंबी अवधि में दूध बेचने के लिए रूस की चीन के बड़े बाजार पर नजर है।

रूस की सबसे बड़ी दूध उत्पादक कंपनी एकोसेम एगार के संस्थापक स्टीफन ड्यूर ने कहा, डेयरी फार्मिंग के लिए रूप में अच्छे हालात हैं। इसका अर्थ है अच्छी गुणवत्ता, अनुकूल जलवायु और सब्सिडी पर सरकारी जमीन। अब तक रूस ने कस्टम डेटा के अनुसार यूरोपीय संघ से लगभग 100 मिलियन यूरो (करीब 7.91 अरब रुपए) में 45 हजार गायें खरीदी हैं, जो 2016 की तुलना में दुगुनी हैं। रूस के डेयरी संघ के मुताबिक आत्मनिर्भर होने के लिए रूस के किसानों को पिछले वर्ष 36.3 मिलियन टन दूध का उत्पादन करना था, जो मौजूदा उत्पादन से 19 फीसदी अधिक है।

[MORE_ADVERTISE1]
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned