scriptTonight the sun will be the same day-night, perpendicular equator | आज दिन-रात एक समान, सूर्य विषुवत रेखा पर रहेंगे लंबवत | Patrika News

आज दिन-रात एक समान, सूर्य विषुवत रेखा पर रहेंगे लंबवत

23 सितंबर और 21 मार्च के दिन एस्ट्रोलॉजर और मौसम विज्ञानियों के लिए अहम होते हैं। आज 23 सितंबर को आश्विन कृष्ण त्रयोदशी शुक्रवार को दिन और रात की अवधि बराबर होगी। इसके बाद दिन छोटे और रात की अवधि धीरे-धीरे लंबी होना शुरू हो जाएगी। इसके बाद ज्योतिषविदों के मुताबिक सूर्य उत्तरी से दक्षिणी गोलार्द्ध में प्रवेश करेगा।

जयपुर

Published: September 23, 2022 03:27:32 pm

आश्विन कृष्ण त्रयोदशी शुक्रवार को दिन और रात की अवधि बराबर होगी। इसके बाद दिन छोटे और रात की अवधि धीरे-धीरे लंबी होना शुरू हो जाएगी। ज्योतिषविदों के मुताबिक सूर्य उत्तरी से दक्षिणी गोलार्द्ध में प्रवेश करेगा। दक्षिणी गोलार्द्ध व शायन तुला राशि में प्रवेश का पहला दिन होने के कारण दिन -रात बराबर यानी 12-12 घंटे के होंगे। शुक्रवार को सूर्योदय सुबह 6:19 बजे और सूर्यास्त 6:19 बजे होगा।
day_and_night.jpg
23 सितंबर को सूर्य भूमध्य रेखा पर लंबवत

ज्योतिषाचार्य पं.दामोदर प्रसाद शर्मा ने बताया कि हमारी पृथ्वी साढ़े तेईस अंश झुकी हुई स्थिति में सूर्य के चारों ओर परिक्रमा करती है। इससे कर्क रेखा, भूमध्य रेखा व मकर रेखा के बीच सूर्य की गति दृष्टिगोचर होती है। इसी स्थिति में 21 मार्च व 23 सितंबर को सूर्य भूमध्य रेखा पर लंबवत रहता है। पृथ्वी अपने उत्तरायण पक्ष को 187 दिन में पूरा करती है।
खगोलीय घटना

ज्योर्तिविद पं.घनश्याम लाल स्वर्णकार, पं.घनश्याम शर्मा के मुताबिक गुरुवार तक नाड़ी वलय यंत्र के उत्तरी गोलार्द्ध भाग पर धूप थी। यह 22 मार्च से 22 सितंबर तक रहती है। 23 सितंबर को उत्तरी और दक्षिणी गोलभाग पर धूप नहीं होगी, जबकि 24 सितंबर से अगले छह माह यानी 20 मार्च तक नाड़ी वलय यंत्र के दक्षिणी गोलार्द्ध पर धूप रहेगी। जंतर-मंतर, बिडला तारामंडल समेत अन्य जगहों से इस खगोलीय घटना को शंकु यंत्र तथा नाड़ी वलय यंत्र से देखा जा सकता है।

हल्की सर्दी का होगा एहसास...
ज्योतिषविद आचार्य जैनेंद्र कटारा ने बताया कि सूर्य के दक्षिण गोलार्द्ध की ओर जाने से उत्तरी गोलार्द्ध में सूर्य की किरणों की तीव्रता कम होगी। इससे हल्की सर्दी का एहसास होगा। नवग्रहों में प्रमुख ग्रह सूर्य विषुवत रेखा पर लंबवत रहता है। इसे शरद संपात भी कहा जाता है। दिन की अवधि 22 दिसंबर को सबसे कम और रात की सबसे ज्यादा होगी।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Jammu Kashmir: DG जेल हेमंत लोहिया की हत्या के आरोपी यासिर गिरफ्तार, पूछताछ में जुटी पुलिसJK DG Murder: जम्मू कश्मीर के DG जेल हेमंत लोहिया की घर में घुसकर निर्मम हत्या, अमित शाह ने ली रिपोर्ट, आतंकी संगठन PAFF ने किया हमले का दावाअमरीका के कैलिफोर्निया में भारतीय मूल के चार लोग किडनैप, 8 महीने की मासूम भी शामिलदुबई में आज 'पहले' हिंदू मंदिर का उद्घाटन, इसलिए है ये बहुत ख़ास?Putin की सेना पीछे धकेली गई: यूक्रेन के टैंक खेरसॉन में घुसे, रूस के सैनिकों से लड़ाई तेज़गुजरात: वडोदरा में धार्मिक झंडे को लेकर झड़प के बाद सांप्रदायिक तनाव, अब तक 40 गिरफ्तारसनकी तानाशाह ने जापान के ऊपर से दागी मिसाइल, पीएम किशिदा ने की ट्रेन सर्विस सस्पेंड, सायरन बजते ही अंडरग्राउंड छिपे लोग, Videoजम्मू-कश्मीर : अमित शाह की राजौरी में रैली आज, करेंगे माता वैष्णो देवी के दर्शन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.