script4 US Instructors attacked in China: चीन में अमरीकियों पर हमले से उबला गुस्सा, जानें अब ड्रैगन से कैसे बदला लेगा अमरीका | Patrika News
विदेश

4 US Instructors attacked in China: चीन में अमरीकियों पर हमले से उबला गुस्सा, जानें अब ड्रैगन से कैसे बदला लेगा अमरीका

4 US Instructors attacked in China: चीन में अमरीकियों पर हमले लगातार बढ़ रहे हैं। इस कारण दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। ये बढ़ते हमले कभी भी विस्फोटक हो सकते हैं।

नई दिल्लीJun 12, 2024 / 01:04 pm

M I Zahir

US Instructors attacked in China

US Instructors attacked in China

4 US Instructors attacked in China: यह बात सबको पता है कि अमरीकी चीनी को और चीनी अमरीकी को पसंद नहीं करते हैं। दोनों देशों के बीच व्यापार की जंग पहले से चल ही रही है और अब चीन में अमरीकियों पर हमले के बाद अमरीका का गुस्सा उबल रहा है।

सख्त कार्रवाई करनी होगी

अमरीका में एशियाई हमले हों तो अमरीका चुप औैर उसके नागरिकों पर चीन में हमले हों तो वह मुखर हो जाता है। तुलनात्मक अध्ययन के बाद यह बात सामने आती है कि एक ओर अमरीकी अमरीका में एशियाई लोगों के साथ मार-पीट सकते हैं, उन्हें इसमें कोई समस्या नजर नहीं आती, तब क्या उन्हें चिंता थी कि चीन या एशिया में भी उनके साथ वैसा ही व्यवहार किया जाएगा? अगर चीन में अमरीकियों पर हमले गलत हैं तो अमरीका में एशियाई समुदाय पर हमले भी गलत हैं। अमरीका को यह समझना होगा कि उसे अमरीका में एशियाई लोगों पर हमला करने वालों पर सख्त कार्रवाई करनी होगी

आखिर इतनी नफरत क्यों?

अब सवाल यह पैदा होता है कि औसत अमरीकी चीन और चीनी लोगों से इतनी नफरत क्यों करते हैं? क्या चीनी अमरीका से उतने ही नाराज़ हैं जितने अमरीकी चीन से नाराज़ हैं? क्या अमेरिका में बढ़ती चीन/चीनी विरोधी भावना के कारण अमरीका में रहने वाले चीनी लोगों पर हमले का खतरा मंडरा रहा है? यदि चीन अमरीका पर हमला कर दे चीन में अमरीकियों को बेरहमी से मार डालें तो क्या होगा? आखिर इतने सारे चीनी अमरीकियों पर हमला क्यों किया जा रहा है?

यूएस की सोच समान हो

अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार हाल के कुछ बरसों के दौैरान यूएस में बड़ी संख्या में अमरीका में नस्लभेद ,भारतीयों पर हमला हो या एशियाई लोगों पर हमला किया गया और उन्हें मार डाला गया।अमरीकी इसे बदलना नहीं चाहते। असल में वे चीन में अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं। क्योंकि वे वास्तव में नहीं चाहते कि चीनी उसी तरह अमरीकियों पर हमला करें। वहां हमला करने वाले अधिकतर एशियाई लोग बुजुर्ग और महिलाएं हैं। अब, एक अमरीकी अपने प्राथमिक विद्यालय के गणित और आंकड़ों का उपयोग करके हमें बता सकता है कि हालांकि यह दुर्भाग्यपूर्ण है, लेकिन वे सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण नहीं है।

अमरीका में हिंसा अधिक

अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि शंघाई, तियानजिन या बीजिंग जैसी जगहों की तुलना में अमरीकी शहर में किसी अमेरिकी के साथ लूटपाट, बलात्कार या गोली मारे जाने की संभावना कहीं अधिक है। यदि आप अपराध के आंकड़े देखें तो आप संभवतः उसी निष्कर्ष पर पहुँचेंगे। चीन में ऐसा कभी नहीं होगा, क्योंकि चीनी लोग अमरीकी लोगों और दुष्ट राजनेताओं के बीच अंतर जानते हैं

हमेशा दूसरे देशों को खतरा मानता

दरअसल अमरीका के विपरीत, चीन अपने मीडिया पर राज्य-प्रायोजित घृणा कार्यक्रम नहीं चलाता है, इसलिए शायद नहीं। अब एक सवाली और कि चीन हर बात में अमरीका के लिए खतरा क्यों बनता है? ईमानदारी से कहें तो इसका चीन से कोई लेना-देना नहीं है, भले ही चीन नहीं है, अमरीका रूस, ईरान, उत्तर कोरिया व क्यूबा को खतरा मानेगा। तो सही सवाल यह होना चाहिए: अमरीका हमेशा दूसरे देशों को खतरा क्यों मानता है?

हां, बदला लिया

चीनियों का मानना ​​है कि अच्छी तरह से जीना सबसे अच्छा बदला है। हमला किया? हां, धारणा यह है कि अगर आप एशिया में इस तरह परेड करने की योजना बनाएंगे तो आप पर हमला किया जाएगा। कुछ एशियाई लोग इस तरह की कार्रवाइयों को हल्के में नहीं लेते हैं, ठीक उसी तरह जैसे यहूदी हिटलर जर्मनी का विरोध करने वाले लोगों को अपने सामने नहीं लेते हैं।

हाथों से काम करते हैं

उनका मानना है कि कुछ एशियाई लोग कमज़ोर नहीं हैं औैर यदि वे रोज अपने हाथों से काम करते हैं । वे सरल और ईमानदार लोग हैं जो आपको अपनी मुट्ठी दिखाने से नहीं डरते। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप माइक टायसन हैं, 200 आदमी आपके पास आते हैं, आप माइक मिंसमीट होंगे। यह शायद एकमात्र मौका है जब किसी विदेशी को एशिया में हिंसा का सामना करना पड़ेगा (यादृच्छिक अपराध के अलावा)। लेकिन है, सुना है कि चीन अविश्वसनीय रूप से सुरक्षित है। यहां तक ​​कि महिलाएं भी अफ़्रीकी नहीं हैं।

चीन अधिक सुरक्षित

विदेशी मामलों के जानकारों का कहना है कि चीन अमरीकियों के लिए अमरीका की तुलना में कहीं अधिक सुरक्षित स्थान है। चीनी लोग उससे कहीं अधिक होशियार हैं, वे जानते हैं कि उनकी सरकार के कार्यों के लिए व्यक्ति जिम्मेदार नहीं हैं। तो नहीं, वे अमरीका में चीनियों के साथ जो कर रहे हैं उसका बदला नहीं लेंगे।

सुलगते सवाल और फड़कते जवाब

चीन में लोग चीनी अमरीकियों के बारे में कैसा महसूस करते हैं?

1 वे अमरीकी हैं, अगर युद्ध हुआ तो वे अमेरिका के लिए लड़ेंगे।

2 उनमें से कुछ ने अपनी राष्ट्रीयता बदल ली है, लेकिन उन्हें अब भी चीन की परवाह है। उनमें से कुछ तो अपनी चीनी पहचान भी स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं।
3 चीन के कुछ शीर्ष वैज्ञानिक, वास्तव में, यूएस से विदेशी चीनी वापस चीन लौट आए, कुछ विदेशी चीनियों ने तो अपनी अमरीकी नागरिकता भी छोड़ दी।

4 हालांकि वे अब चीनी नहीं हैं, लेकिन हमें अब भी उम्मीद है कि वे एक खुशहाल जीवन जी सकते हैं।

संदिग्ध गिरफ्तार, दोनों देशों के दावे अलग

बी​जिंग प्रशासन के अनुसार हाल ही में चीन में 4 अमरीकियों पर चाकू से हमला करने के बाद संदिग्ध गिरफ्तार किया गया है। बीजिंग ने सोमवार को हुए हमले को एक “अलग-थलग” घटना बताया, जबकि व्हाइट हाउस ने कहा कि वह चाकूबाजी से “गहराई से चिंतित” है। बीजिंग ने मंगलवार को पहले पुष्टि की थी कि “चार विदेशी शिक्षकों” पर हमला किया गया था।

व्हाइट हाउस गहराई से चिंतित

मिसाल के तौर पर देखें कि चीनी पुलिस ने मंगलवार को कहा था कि कि उन्होंने देश के उत्तर-पूर्व में एक सार्वजनिक पार्क में चार अमरीकी कॉलेज शिक्षकों की चाकू मार कर हत्या करने के मामले में एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया है। बीजिंग ने सोमवार को हुए हमले को एक “अलग-थलग” घटना बताया, जबकि व्हाइट हाउस ने कहा कि वह चाकूबाजी से “गहराई से चिंतित” है।

सार्वजनिक पार्क में हमला

जानकारी के अनुसार चारों पीड़ित अकादमिक आदान-प्रदान पर थे और आयोवा के कॉर्नेल कॉलेज में प्रशिक्षक के रूप में काम करते थे, जिसमें कहा गया था कि वे एक “गंभीर घटना” में घायल हो गए थे। पुलिस ने कहा कि उन्होंने जिलिन प्रांत के एक सार्वजनिक पार्क में हमले के बाद 55 वर्षीय एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।

हमले रोकने की कोशिश

चीनी राज्य-मीडिया शिन्हुआ ने बताया कि “हमले को रोकने की कोशिश” के दौरान एक चीनी नागरिक भी घायल हो गया। वहीं स्थानीय पुलिस ने कहा, “श्री कुई नाम के संदिग्ध को उसी दिन (हमले के दिन) गिरफ्तार कर लिया गया था।”बीजिंग ने मंगलवार को पहले पुष्टि की थी कि “चार विदेशी शिक्षकों” पर हमला किया गया था।

किसी की भी जान जाने का खतरा नहीं

प्रवक्ता लिन जियान ने विदेश मंत्रालय की दोपहर की नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में संवाददाताओं से कहा, “सभी घायलों को अस्पताल ले जाया गया… और उनका उचित इलाज किया गया। उनमें से किसी की भी जान जाने का खतरा नहीं है।”लिन ने कहा, “पुलिस ने प्रारंभिक तौर पर माना कि मामला अलग-थलग है। आगे की जांच चल रही है।”

यह सुरक्षित देश : चीन

उन्होंने कहा, “चीन… चीन में सभी विदेशियों की सुरक्षा को प्रभावी ढंग से सुरक्षित करने के लिए प्रासंगिक उपाय करना जारी रखेगा।” उन्होंने कहा कि चीन को दुनिया में सबसे सुरक्षित देशों में से एक माना जाता है। “यह अलग मामला चीन-अमेरिका के लोगों के बीच आदान-प्रदान के सामान्य विकास को प्रभावित नहीं करेगा।”

अमरीकी राजनयिकों ने पीड़ितों से बात की

व्हाइट हाउस ने कहा कि वह “छुरा घोंपने की घटना से बहुत चिंतित है” और “यह सुनिश्चित करने के लिए कि पीड़ितों की ज़रूरतें पूरी हों, और उचित कानून प्रवर्तन कदम उठाए जा रहे हैं” चीनी अधिकारियों के संपर्क में है। इसमें कहा गया है कि अमरीकी राजनयिकों ने हमले के पीड़ितों से बात की थी। आयोवा कांग्रेस की सदस्य एशले हिंसन ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर कहा कि वह इस बात से “भयभीत” हैं कि कॉर्नेल कॉलेज के संकाय सदस्यों को “क्रूरतापूर्वक चाकू मारा गया”।

वे ठीक हो रहे हैं

राज्य की गवर्नर किम रेनॉल्ड्स ने कहा कि वह “इस भयावह हमले के जवाब में आयोवा के संघीय प्रतिनिधिमंडल और राज्य विभाग के संपर्क में हैं”। रेनॉल्ड्स ने कहा, “कृपया उनके पूर्ण स्वस्थ होने, सुरक्षित वापसी और घर पर उनके परिवारों के लिए प्रार्थना करें।” ओवा राज्य के विधायक एडम ज़बनेर ने सीएनएन ब्रॉडकास्टर को बताया कि उनके भाई डेविड ज़बनेर पीड़ितों में से थे और उन्हें “टांके लगाए गए थे और लगता है कि वे ठीक हो रहे हैं।”

इसलिए खराब हो रहे रिश्ते

बहरहाल चीन में अमरीकियों के प्रति जलन कुंठा और बराबरी की भावना से रिश्ते खराब हो रहे हैं और यह भावना नफरत में बदल रही है। केवल तभी, जब आप चीन में रहने के दौरान चिड़चिड़ा अमेरिकी रवैया रखते हों, या यदि आप सीआईए, फर्जी एनजीओ या फर्जी समाचार मीडिया से संबद्ध एक संचालक हों, या आप बाइडन, पेलोसी, टी’रम्प या उनके जैसे किसी के बेटे या बेटी हों अथवा तेजी से पैसा कमाने या हुकअप करने की कोशिश कर रहे हों

लो प्रोफाइल रहोगे तो खैरियत रहेगी

चीन में अमरीकियों पर हमले के कारण जानने पर निष्कर्ष यह है कि चीनी मा​नसिकता यह है कि यदि आप सिर्फ एक सामान्य अमरीकी जॉन या जेन हैं, तो आपके साथ अच्छा व्यवहार किया जाएगा और आप सुरक्षित रहेंगे। आपको इन दिनों अमरीका में यादृच्छिक चीनी की तरह गोली नहीं मारी जाएगी, मेट्रो ट्रैक पर धकेला नहीं जाएगा, हमला नहीं किया जाएगा या गिरफ्तार नहीं किया जाएगा। जैसे ही आप मुकाबला करने या आगे निकलने की कोशिश करेंगे या सफलता के ​कीर्तिमान कायम करेंगे तो चीन में रह रहे अमरीकियों पर हमले होंगे।

Hindi News/ world / 4 US Instructors attacked in China: चीन में अमरीकियों पर हमले से उबला गुस्सा, जानें अब ड्रैगन से कैसे बदला लेगा अमरीका

ट्रेंडिंग वीडियो