गणेश चतुर्थी 2018: इस गणेशोत्सव पर बन रहा गजकेसरी का राजयोग, गणपति विसर्जन तक हर दिन है शुभ योग

गणेश चतुर्थी 2018: इस गणेशोत्सव पर बन रहा गजकेसरी का राजयोग, गणपति विसर्जन तक हर दिन है शुभ योग

By: Tanvi

Published: 13 Sep 2018, 03:51 PM IST

13 सितंबर गुरुवार को गणेश चतुर्थी है। गणेश चुतर्थी के दिन से गणेशोत्शव प्रारंभ हो जाएगा। इस वर्ष गणेशोत्सव पर कई शुभ संयोग बनने जा रहे हैं। गणेश चतुर्थी स्वाती नक्षत्र के स्थिर शुभ संयोग बन रहा है। वहीं गणेशोत्सव पर हर दिन एक शुभ योग बन रहा है। हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद महीने की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी पर श्री गणेश जी का जन्म हुआ था इसलिए इस दिन गणेश चतुर्थी मनाई जाती है। इस वर्ष भी बहुत ही शुभ योग बन रहे हैं जिसके कारण यह गणेशोत्सव के 10 दिन बहुत ही शुभ हैं। इस वर्ष गणेश उत्सव पर गजकेसरी का राजयोग बन रहा है और एक भी क्षय तिथि नहीं है। इस बार गणेश चतुर्थी शुभ तिथि, नक्षत्र ,योग और वार में होने के कारण शुभ फल देने वाला होगा। इन शुभ संयोगों के कारण सच्चे मन आराधना करने वाले व्यक्ति को सुख-समृद्धि प्राप्त होगी।

ganesh chaturthi

 

इस बार गणेशोत्सव 13 सितंबर से 23 सितंबर तक रहेगा। हर दिन शुभ योग और शुभ नक्षत्र में गणेश उत्सव रहेगा। इन 10 दिनों में अमृत,रवि, प्रीति, आयुष्मान, सौभाग्य, सर्वार्थसिद्धि, सुकर्म और धृति योग बनेगा। इस बार शुभ योगों में गणपति स्थापना से लक्ष्मी की प्राप्ति होगी। भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी पर शुभ दिवस, शुभ नक्षत्र, शुभ योग और शुभ वार होने से श्रीगणेश सभी हर तरह से शुभ फल देने वाले रहेंगे।

 

ganesh chaturthi

गणपति जी को लगाएं मोदक और लड्डू का भोग

भगवान गणपति को मीठा बहुत पसंद है। गजानन खाने के बेहद शौकीन हैं। उन्हें कई तरह की मिठाइयां पसंद हैं। इसमें मोदक, बेसन के लड्डू, मोतीचूर के लड्डू, गुड़ और नारियल से बनी चीजें उन्हें प्रसाद या भोग में चढ़ाई जाती हैं। गणेश जी को मोदक काफी पसंद होने की वजह से मोदक का प्रसाद जरूर चढ़ाया जाता है।

मोदक चावल के आटे, गुड़ और नारियल से बनाया जाता है। बुधवार को गणपति को मोदक या लड्डू चढ़ाने से ऐसी मान्यता है कि अमुक व्यक्ति को कर्ज से मुक्ति मिलती है और उसके घर में समृद्धि आती है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned