11 साल बाद करवा चौथ पर बन रहा राजयोग, महिलाएं सर्वार्थसिद्धि योग के विशेष मुहूर्त में करें पूजन

11 साल बाद करवा चौथ पर बन रहा राजयोग, महिलाएं सर्वार्थसिद्धि योग के विशेष मुहूर्त में करें पूजन

Tanvi Sharma | Publish: Oct, 24 2018 06:18:25 PM (IST) पूजा

11 साल बाद करवा चौथ पर बन रहा राजयोग, महिलाएं सर्वार्थसिद्धि योग के विशेष मुहूर्त में करें पूजन

इस बार करवा चौथ 27 अक्टूबर 2018 को पड़ रहा है। करवा चौथ पर महिलाएं 16 श्रंगार करती हैं और पति की लंबी आयु के लिए पूरे दिन निर्जला व्रत रखती हैं। पंडित रमाकांत मिश्रा ने बताया की इस बार महिलाओं को व्रत का संपूर्ण फल प्राप्त होगा। क्योंकि करवा चौथ के दिन तीन शुभ योग बन रहे हैं, जो की ज्योतिष गणना के अनुसार बहुत ही शुभ माने जाते हैं। सबसे पहला तो इस दिन गजकेसरी राजयोग बन रहा है जो अपने आप में ही बहुत शुभकारी माना जाता है इसी पर सर्वार्थसिद्धि और अमृतसिद्धि योग का बनना दुर्लभ संयोग हो जाता है। इन शुभ योगों में की गई पूजा और व्रत का फल ज्यादा मिलता है। पंडित जी बताते हैं की इससे पहले ऐसा दुर्लभ संयोग 11 साल पहले 29 अक्टूबर 2007 में बना था।

karwa chauth

करवा चौथ मुहूर्त

पंडित रमाकांत मिश्रा जी बताते हैं की करवाचौथ का व्रत तृतीया के साथ चतुर्थी उदय हो, उस दिन करना शुभ होता है। तृतीया तिथि यानि जया तिथि को कहते है। इससे पति को अपने कार्यों में सर्वत्र विजय प्राप्त होती है। इस वर्ष 27 अक्टूबर 2018 को करवा चौथ का व्रत रखा जाएगा। सुहागन महिलाएं करवा चौथ के दिन इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा। पूजा मुहूर्त: 5:40 से 6:47 तक करवा चौथ चंद्रोदय समय 7 बजकर 55 मिनट तक रहेगा। वहीं चंद्रोदय का समय 7 बजकर 55 मिनट पर बताया जा रहा है।

karwa chauth

ऐसे करें पूरे विधि विधान से करवा चौथ का व्रत

करवा चौथ का व्रत पूरे विधि विधान से करना चाहिए। सुगाहिनें इस दिन कोई भी अशुभ काम न करें। इस दिन निर्जला व्रत करना होता है। दूसरे व्रत की तरह इस व्रत में फल फूल कुछ भी नहीं खाया जाता है। यह निर्जला व्रत होता है। जब तक चांद न निकले जब तक महिलाओं को व्रत करना होता है। करवा चौथ की व्रत कथा पड़ भगवान शिव, मां पार्वती और भगवान गणेश की पूजा की जाती है। रात को चंद्रमा को अर्घ्य देकर ही व्रत खोला जाता है।

Ad Block is Banned