इसलिए चढ़ाई जाती हैं मंदिरों में बलि, आज भी नारियल और नींबू की बलि चढ़ती है

दुनिया के लगभग सभी धर्मों में बलि देने की प्रथा रही है

By: सुनील शर्मा

Published: 20 Feb 2017, 09:50 AM IST

दुनिया के लगभग सभी धर्मों में बलि देने की प्रथा रही है। भारत में भी कई जगहों पर जानवरों की बलि दी जाती है तो पुराने जमाने में नरबलि देने की कहानियां भी सुनी है। परन्तु क्या आप जानते हैं कि बलि क्यों दी जाती हैं?

यह भी पढें: तंत्र से जुड़ी इन बातों को जानने के बाद आप भी बन सकते हैं तांत्रिक

यह भी पढें: श्मशान में रात को घूमती हैं ऐसी शक्तियां, जानिए क्यों नहीं जाना चाहिए वहां रात को

ऐसा नहीं है कि बलि देने से भगवान प्रसन्न होते हैं न ही भगवान उस बलि के जानवर का उपभोग करेंगे। इसका मूल कारण तंत्र में छिपा हुआ है। इस प्रथा को समझने के लिए सबसे पहले हमें तंत्रशास्त्र का अध्ययन करना होगा क्योंकि बलि की शुरुआत तंत्र में ही हुई है। हर देवी-देवता के लिए अलग-अलग ध्वनियां विकसित की गई, उनके साथ कुछ विशेष विधि-विधानों को जोड़ा, उन्हें ऊर्जा से परिपूर्ण करने के लिए कुछ प्रयोग किए। इन्हीं के अन्तर्गत बलि प्रथा को आरंभ किया गया।

यह भी पढें: घर में घड़ी और कैलेंडर इस जगह लगाएं, कुछ ही दिनों में होंगे मालामाल

यह भी पढें: भगवान शिव की 5 बातें जो कोई नहीं जानता


तंत्र के अनुसार एक ऊर्जा को दूसरी ऊर्जा को बदला जा सकता है और उससे मनमाना काम लिया जा सकता है। ऊर्जा आपको किसी से भी मिल सकती है, चाहे वो एक नींबू हो या जानवर। इनकी बलि देकर इनकी जीवन ऊर्जा को मुक्त कर दिया जाता है और फिर उसी ऊर्जा को नियंत्रित कर उससे मनचाहा कार्य किया जा सकता है।

यह भी पढें: शिव के पांचवें अवतार हैं कालभैरव, इनकी पूजा से नहीं रहता किसी का भय

यह भी पढें: इन 7 उपायों से तुरंत खुश होते हैं कालभैरव, करते हैं मुंहमांगी इच्छा पूरी

यह भी पढें: चिंतामन गणेश मंदिर, यहां भक्तों की हर इच्छा होती है पूरी

मां काली तथा भैरव के मंदिरों में दी जाने वाली बलि इसी का उदाहरण है। वहां जीवों की ऊर्जा को मुक्त कर उसे नियंत्रित किया जाता है और उससे तांत्रिक शक्तियां प्राप्त की जाती है। परन्तु इस तरह करने में सबसे बड़ी बाधा यह है कि जब तक आप बलि देते रहेंगे, आपकी ऊर्जा और शक्तियां बनी रहेंगी, जब भी बलि नहीं दी जाएगी, उनकी शक्तियां खत्म होनी आरंभ हो जाएगी और एक दिन वो आम आदमी की तरह बन जाएंगे। इसीलिए तांत्रिक अनुष्ठान करने वाले नियमित रूप से बलि देते हैं।

पाश्चात्य लेखक रॉबर्ट ई. स्ववोदा की अघोर पर लिखी पुस्तक में भी एक ऐसा उदाहरण मिलता है जब एक तांत्रिक ने नरबलि देने के लिए कुछ आत्माओं को वश में किया और फिर काली को उनकी बलि चढ़ाई थी। यह भी ऊर्जा के परिवर्तन का ही एक उदाहरण है। इस प्रक्रिया से उन प्रेतात्माओं की मुक्ति का मार्ग भी खुलता है।

मंदिरों में नारियल फोड़ना या नींबू की बलि देना भी इसी का एक उदाहरण है। नारियल और नींबू में मौजूद जीवनऊर्जा को मुक्त कर उसे अपने देवता को समर्पित किया जाता है ताकि वो अन्य कार्यों में इस्तेमाल हो सके।
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned