आज चतुर्दशी पर बना सुकर्मा योग, इन कार्यों को करने से लग जाएगी लॉटरी!

Sunil Sharma

Publish: Sep, 05 2017 09:15:00 (IST)

Worship
आज चतुर्दशी पर बना सुकर्मा योग, इन कार्यों को करने से लग जाएगी लॉटरी!

पूर्णिमा तिथि में समस्त शुभ व मांगलिक कार्य, अलंकार, चित्रकारी, प्रतिष्ठा, यज्ञकर्म और गृह सम्बंधी कार्य सिद्ध होते हैं

चतुर्दशी रिक्ता संज्ञक तिथि दोपहर १२.४१ तक, तदुपरांत पूर्णिमा तिथि रहेगी। चतुर्दशी तिथि में शुभ व मांगलिक कार्य वर्जित कहे गए हैं। पर पूर्णिमा तिथि में समस्त शुभ व मांगलिक कार्य, अलंकार, चित्रकारी, प्रतिष्ठा, यज्ञकर्म और गृह सम्बंधी कार्य सिद्ध होते हैं।

नक्षत्र: धनिष्ठा नक्षत्र दोपहर १२.२४ तक, इसके बाद शतभिषा नक्षत्र रहेगा। दोनों ही ‘चर व ऊध्र्वमुख’ संज्ञक नक्षत्र है। धनिष्ठा नक्षत्र में यदि समय शुद्ध हो तो मुण्डन, जनेऊ, यात्रा, सवारी, बगीचा, गृहारम्भ, प्रवेश और देव प्रतिष्ठादिक कार्य और शतभिषा नक्षत्र में गृहारंभ, प्रवेश व उपनयनादिक कार्य सिद्ध होते हैं।

योग: सुकर्मा नामक योग रात्रि १.५६ तक, इसके बाद धृति नामक योग है। दोनों ही नैसर्गिक शुभ योग हैं। विशिष्ट योग: सूर्योदय से दोपहर १२.२४ तक दोष समूह नाशक रवियोग नामक शक्तिशाली शुभ योग है।

करण: वणिज नामकरण दोपहर १२.४१ तक, इसके बाद रात्रि १२.३७ तक भद्रा है। तदुपरान्त बवादि करण प्रारम्भ हो जाएंगे।

शुभ विक्रम संवत् : 207४
संवत्सर का नाम : साधारण
शाके संवत् : 193९
हिजरी संवत् : 143८, मु.मास: जिलहिज-१३
अयन : दक्षिणायन
ऋतु : शरद्
मास : भाद्रपद।
पक्ष : शुक्ल।

शुभ मुहूर्त: उपर्युक्त शुभाशुभ समय, तिथि, वार, नक्षत्र व योगानुसार आज किसी शुभ व मंगल कृत्यादि के शुभ व शुद्ध मुहूर्त
नहीं है।

श्रेष्ठ चौघडि़ए: आज प्रात: ९.१९ से दोपहर बाद २.०० बजे तक क्रमश: चर, लाभ व अमृत तथा अपराह्न ३.३३ से सायं ५.०६ तक शुभ के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं एवं दोपहर १२.०० से १२.५० तक अभिजित नामक श्रेष्ठ मुहूर्त है, जो आवश्यक शुभकार्यारम्भ के लिए अत्युत्तम हैं।

व्रतोत्सव: आज अनंत चतुर्दशी व्रत, चांद पूर्णिमा व्रत, शिक्षक दिवस, डॉ. राधाकृष्णन जयंती, पंचक संपूर्ण दिवारात्रि, पूर्णिमा व पौष्ठपदी श्राद्ध, सिंजामाता पूजन प्रारंभ (कुमारियों का), मेला सोडल (जालंधर) तथा इन्द्र गोविन्द पूजा (उड़ीसा में)। चन्द्रमा: चन्द्रमा संपूर्ण दिवारात्रि कुम्भ राशि में रहेगा। ग्रह मार्गी-वक्री: सायं ५.०० से बुध मार्गी होगा।

दिशाशूल: मंगलवार को उत्तर दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है। चन्द्र स्थिति के अनुसार आज पश्चिम दिशा की यात्रा लाभदायक व शुभप्रद है। राहुकाल: अपराह्न ३.०० से सायं ४.३० तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारंभ यथासंभव वर्जित रखना हितकर है।

आज जन्म लेने वाले बच्चे
आज जन्म लेने वाले बच्चों के नाम (गो, सा, सी, सू) आदि अक्षरों पर रखे जा सकते हैं। इनकी जन्म राशि कुम्भ तथा जन्म का नक्षत्र पाया ताम्र होगा। ताम्रपाद से हुआ जन्म शुभ माना गया है। सामान्य रूप से ये जातक धनवान, कीर्तिवान, साहसी, गरीब व साधु-संतों की सेवा करने वाले, धर्मपरायण, भाई-बंधुओं से प्यार व प्रेम रखने वाले, सत्यप्रिय, दानी, शत्रुजित व राजदरबार में प्रतिष्ठा पाने वाले होते हैं। इनका भाग्योदय लभग 28 वर्ष की आयु तक होता है। कुम्भ राशि वाले जातकों को आज अपने कार्य-व्यवसाय के क्षेत्र में प्रचुर लाभ होगा। व्यवसाय में किया गया व्यय लाभदायक रहेगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned