Patrika Hindi News

अब 28 महीने बाद कांग्रेस के इस नेता को देना होगा अदालत के नोटिस का जवाब

Updated: IST Court hammer
मार्च 2014 में पार्टी के प्रदेश नेतृत्व के आह्वान पर हुआ था रेल चक्काजाम।

वाराणसी. महानगर कांग्रेस उपाध्यक्ष, छावनी परिषद के पार्षद व पूर्व उपाध्यक्ष शैलेंद्र सिंह को अब 28 महीने बाद एक मामले में एडिशनल चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट (एनआर) के नोटिस का जवाब देना होगा। एडिशनल चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट (एनआर) ने नोटिस जारी कर उन्हें अदालत में तलब किया है।

ये भी पढ़ें- कांग्रेसकी सांगठनिक चुनावी बैठक मेंउठा हक और हुकूक का मुद्दा

बता दें कि प्रदेश कांग्रेस के आह्वान पर 12 मार्च 2015 को वाराणसी में चक्का जाम आन्दोलन हुआ था। उस प्रकरण में कुछ लोगों को चिह्नित कर RPF ने तभी मुकदमा दर्ज किया था। केस में छावनी बोर्ड पार्षद व पूर्व उपाध्यक्ष शैलेंद्र सिंह आदि को न्यायिक प्रक्रिया के तहत अदालत ने नोटिस जारी किया गया है।

notice to Congress leader

सिंह का कहना है कि तब अंधरापुल पर सड़क के साथ कुछ देर तक रेल ट्रैक तथा कैंट रेलवे स्टेशन पर रेल इंजन के सामने खड़े होकर रेल चक्का जाम करते हुए भी प्रदर्शन किया गया था। लेकिन इस मामले में सड़क जाम और कैंट रेलवे स्टेशन पर रेल रोको आंदोलन का तो कोई संज्ञान प्रशासन ने नहीं लिया पर अंधरापुल पर रेल रोको आंदोलन का खास संज्ञान लेते हुए शैलेंद्र सिंह के नेतृत्व में कुछ प्रदर्शनकारियों पर मुकदमा कायम किया गया था। छावनी परिषद के पार्षद सिंह के अनुसार परिषद के चुनाव परिणाम के मद्देनजर कुछ लोगों को चिह्नित कर की गई कार्रवाई के विरोध में वह प्रदर्शन हुआ था।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???