स्ट्रीट डॉग्स व अन्य जानवरों से हैं परेशान तो ये तरीका आजमाएं, वे मित्र बनकर आपकी हिफाजत करने लगेंगे...

-जानवरों का आवास छिनने और भोजन न मिलने से बढ़ रही दिक्कत।
-देसी श्वानों के लिए लगाया गोद शिविर, पालने के लिए प्रेरित किया।

By: suchita mishra

Published: 04 Feb 2020, 10:44 AM IST

आगरा। आवास छिनने से बंदर समस्या बने, हम लंगूर ले आए। अब यदि लंगूर समस्या बन गए तो क्या शेर को लेकर आओगे। यह सवाल कैस्पर्स होम के पांचवे वार्षिकोत्सव में संस्था की चेयरपर्सन विनीता अरोरा ने किया। उन्होंने बताया कि 2019 में वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत संरक्षण सूची में शामिल 10 लंगूरों को शहर के विभिन्न क्षेत्रों से रेस्क्यू किया। कानूनन लंगूर को संरक्षण सूची में शामिल होने के कारण इस तरह प्रयोग में नहीं लाया जा सकता। एक लंगूर हरीपर्वत थाने से भी रेस्क्यू किया गया।

क्रॉस ब्रीडिंग का गोरखधंधा बंद हो
विनीता अरोरा ने कहा कि स्ट्रीट डॉग्स की दिक्कत हो या पुराने मोहल्लों में बंदरों की समस्या। यदि इन जानवरों को आवास और खाना-पीना मिलता रहे तो यह आक्रामक नहीं होंगे। इस बात को लोगों को समझना चाहिए। समस्या का निदान इन जानवरों को क्षेत्र से हटा देना नहीं है। उन्होंने कहा कि गली मोहल्लों के डॉगी को भी कुछ खाना डाल दें और रेबीज का इंजेक्शन लगवाएं तो वह आक्रामक नहीं होंगे, बल्कि मित्र बनकर आपकी देखभाल करेंगे। उन्होंने कहा कि गली मोहल्लों में कैस्पर्स होम द्वारा चलाए जा रहे अभियान से अब लोगों को यह बात समझ में आने लगी है। इस दौरान उन्होंने शहर में जगह-जगह चल रहे क्रॉस ब्रीडिंग के गोरखधंधे को बंद करने की भी मांग की गई। इस अवसर पर देसी श्वानों का अडोप्शन कैम्प लगाकर केक भी काटा गया।

कैस्पर्स होम

2019 में 290 जानवरों को किया गया रेस्क्यू
कैस्पर्स होम द्वारा 2019 में 920 जानवरों को रेस्क्यू किया गया। इसमें 742 स्ट्रीट डॉग्स को रेबीज लगाई गई। 47 गाय, 37 गधे, 26 बंदर, 12 सांड, 5 घोड़े, 2 चील, 1 ऊंट, 1 नील गाय, 2 एग्जोटिक बर्ड, 1 रेटिल स्नेक, 10 लंगूर को शहर के विभिन्न क्षेत्रों से गम्भीर हालत में रेस्क्यू किया गया।

नगर निगम ने दी शैल्टर होम के लिए 900 गज की जगह
नगर निगम द्वारा कैस्पर्स होम को शेल्टर होम के लिए 900 गज की जगह (नरायच गऊशाला के पास) उपलब्ध कराने के लिए सदस्यों ने एक दूसरे को शुभकामनाएं दीं। शैल्टर होम अगस्त तक पूरा हो जाएगा, जहां एनिमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया की गाइड लाइन के अनुसार काम होगा। इस अवसर पर मुख्य रूप से सुनील अरोरा, अभिमन्यु, रेनुका डंग, मोना मखीजा, ध्रुव तिवारी, किरन सेतिया, सम्यक जैन, ममता गोयल, अंकित शर्मा, तन्मय शुक्ला, एक पहल संस्था से मनीष राय, शुभांगी, अंकित खंडेलवाल आदि उपस्थित थे।

Show More
suchita mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned