scriptAfter 13 years son and daughter returned home mother aye has tears in | गुस्से में 13 साल पहले घर से भाग गए भाई-बहन, अब मिले, कलेजे के टुकड़ों को देख फूट-फूटकर रोने लगी मां | Patrika News

गुस्से में 13 साल पहले घर से भाग गए भाई-बहन, अब मिले, कलेजे के टुकड़ों को देख फूट-फूटकर रोने लगी मां

locationआगराPublished: Dec 29, 2023 02:21:33 pm

Submitted by:

Vikash Singh

आगरा में वर्ष 2010 में 9 साल की लड़की राखी अपने छह साल के भाई बबलू के साथ घर से भाग गई थी। वह मां की मार से नाराज थी। 13 साल बाद राखी और बबलू घर लौटे हैं। दोनों बच्‍चों से मिलकर मां की खुशी का कोई ठिकाना नहीं है।

agra_story.jpg
13 सालों से, जी हां आपने बिल्कुल ठीक पढ़ा 13 सालों से झोले में अपने बेटे और बेटी की फोटो और उनकी गुमशुदगी वाली FIR की फोटो कॉपी लेकर घूमने वाली नीतू को आखिरकार गुरुवार दोपहर सालों से बिछड़े हुए दिल के टुकड़े बेटा-बेटी मिल गए। मां ने दोनों को गले लगा लिया और उसकी आंखों से आंसू बहने लगा। पूरा माहौल बेहद भावुक कर देने वाला था। दोनों बच्चों के मिल जाने से मां की खुशी का कोई ठिकाना नहीं है। बच्चों के आते ही मां ने बेटा और बेटी को मिठाई खिलाकर उनका स्वागत किया। उसके बाद आसपास के लोगों को भी मीठा खिलाया।

यह कहानी किसी फिल्म की स्टोरी से किसी भी रूप से कम नहीं है। कहानी को पढ़ते समय आपको लगेगा कि आप सिनेमा के परदे पर कोई जीवित कहानीनुमा फिल्म देख रहे हों। कहानी है आगरा के शाहगंज की नीतू की। उसकी शादी के बाद दो बच्चे हुए, लेकिन पति छोड़कर चला गया। नीतू की दोबारा शादी हुई। दूसरा पति मजदूरी करता था।

साल 2010 में वह अपने पति के लिए घर खाना लेने आई तो 9 साल की बेटी राखी घर में बैठी थी। घर बिखरा हुआ था। नीतू ने गुस्से में उसे एक चिमटा मार दिया। इसके बाद राखी अपनी मां से नाराज होकर 6 साल के भाई बबलू को लेकर घर से निकल गई।

दोनों आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पहुंचे और ट्रेन से मेरठ आ गए। यहां पर उन्हें GRP मेरठ ने पकड़ लिया। उन्हें बिलासपुर का बता कर मेरठ चाइल्डलाइन के सदस्यों को सौंप दिया। जहां से बाल कल्याण समिति के आदेश पर 18 जून 2010 को सुभारती कल्याण आश्रम भेज दिया गया।

नोएडा में बहन तो बेंगलुरु में भाई रहता है
दो हफ्ते पहले चाइल्ड राइट एक्टिविस्ट नरेश पारस से बेंगलुरु के एक युवक बबलू और गुड़गांव में रह रही एक युवती राखी ने संपर्क किया। उन्होंने बताया कि वह दोनों आगरा के रहने वाले हैं। 13 साल पहले घर से निकले थे अब पता याद नहीं है। परिवार के बारे में कोई जानकारी नहीं है पर परिवार के पास जाना चाहते हैं। युवती ने अपनी मां की गर्दन पर जलने का निशान बताया। मां और बाप के नाम को लेकर भी वह आश्वस्त नहीं थे। इसके बाद नरेश पारस ने मेरठ में संपर्क किया। वहां से जानकारी ली तो रिकॉर्ड में दोनों का पता बिलासपुर मिला। मध्य प्रदेश के बिलासपुर में जानकारी की, लेकिन वहां कोई रिकॉर्ड नहीं मिला।

मां से वीडियो कॉल पर कराई बात
बाल अधिकार कार्यकर्ता नरेश पारस ने बताया कि जब दोनों आगरा से गए थे तो लड़की 9 और लड़का 6 साल का था उन्होंने आगरा के गुमशुदा प्रकोष्ठ के अजय कुमार से मदद की उन्होंने जगदीशपुर के पास किराए पर रहने वाली महिला का नाम पता पुलिस को बताया। पुलिस की मदद से उन्होंने महिला नीतू को खोज निकाला। नीतू ने बताया था कि उसने दोनों बच्चों को बहुत खोजा लेकिन कोई पता नहीं चला। थाने में भी उसने बच्चों की गुमशुदगी दर्ज कराई थी।

बच्चों की फोटो और गुमशुदगी की तहरीर की फोटो कॉपी वह हमेशा अपने साथ रखती थी। जब उसे मालूम हुआ कि उसके बच्चे मिल गए हैं तो उसका कलेजा फट पड़ा। मंगलवार को नरेश पारस ने नीतू की उसके दोनों बच्चों से वीडियो कॉल पर बात कराई तो वह फूट-फूट कर रोने लगी। तभी से नीतू अपने बच्चों बेटी के आने का इंतजार कर रही थी। मां ने बताया कि उसे उम्मीद थी कि एक दिन दोनों घर लौट आएंगे।

agra_story_two.jpg
पूजा की थाली लेकर किया बच्‍चों का इंतजार

नरेश पारस ने बताया कि गुरुवार को दोनों बच्चे आगरा आ गए। बेटी राखी रात को ही आ गई थी और बेटे बबलू को नरेश पारस नीतू के घर लेकर पहुंचे। मां को पहले से ही जानकारी दे दी थी। इसलिए वह पूजा की थाली लेकर अपने बेटे और बेटी का इंतजार कर रही थी। जैसे ही दोनों घर पर आए मां उनसे लिपटकर भाव विह्वल हो रोने लगी और बेटे से कहने लगी कि 'तू दीदी के साथ क्यों चला गया था, मेरे जिगर के टुकड़े मेरे गले से लग जा।'

मिलाने वालों को दिया बिग थैंक यू
बबलू और राखी की मां नीतू का कहना है कि नरेश पारस हमारे लिए भगवान की तरह हैं। जिस तरह से भगवान ने बिछड़े हुए को उनके परिवार से मिलाता है। नरेश पारस ने मेरे बच्चों को मुझे मिला दिया है। मैं भगवान से प्रार्थना करती हूं कि जैसा समय मैंने देखा किसी के परिवार में ऐसी मुश्किल ना आए।

ट्रेंडिंग वीडियो