आगरा में किस विधा के कितने साहित्यकार, डाटा बैंक होगा तैयार, देखें वीडियो

आगरा में किस विधा के कितने साहित्यकार, डाटा बैंक होगा तैयार, देखें वीडियो
Agra Literature Club

Bhanu Pratap Singh | Publish: Jun, 20 2019 09:28:35 AM (IST) Agra, Agra, Uttar Pradesh, India

आगरा लिटरेचर क्लब की संस्थापक व अध्यक्ष डॉ. नीतू चौधरी ने बताया कि आगरा के सभी साहित्यकारों का डाटा-बैंक (आंकड़ा बैंक) तैयार किया जा रहा है, ताकि ये जानकारी में रहे कि किस विधा में कितने साहित्यकार मौजूद हैं, ताकि जरुरत पड़ने पर शासन को उपलब्ध कराया जा सके।

 

आगरा। हिन्दी भाषा के साहित्यकारों का नया संगठन बना है ‘आगरा लिटरेचर क्लब’। लगता है हिन्दी में नाम की कमी पड़ गई है। खैर, प्रयास अच्छा है। साहित्यकारों को एक मंच पर लाने का अभियान है यह। तय किया गया है कि आगरा के सभी साहित्यकारों का डाटा बैंक तैयार किया जाएगा। सूची शासन को भेजी जाएगी। यह पता लगाया जा रहा है कि आगरा में किस विधान के कितने साहित्यकार हैं। यह काम कर रहे हैं कि वरिष्ठ कवि और गीतकार दीपक सरीन। हालांकि वे पर्दे के पीछे हैं। यूं भी कह सकते हैं कि नींव के पत्थर की तरह काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें

आज का राशिफल 20 जून: भगवान विष्णु की कृपा से धनु और मीन राशि वालों को होगा लाभ,जानिए आपका राशिफल


साहित्यकारों का एक मंच पर आना जरूरी

आगरा लिटरेचर क्लब ने पहला कार्यक्रम यूथ हॉस्टल संजय प्लेस में किया। ‘हम, आप और साहित्य’ पर चर्चा की। जैसा कि होता है सबसे पहले मां शारदे के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित किया गया। दीक्षा रिसाल ने मां शारदे की वंदना की। फिर साहित्यिक चर्चा का दौर शुरू हुआ। क्लब के उपाध्यक्ष डॉ. पीयूष जैन ने कहा कि आगरा लिटरेचर क्लब आगरा के साहित्य जगत में सफलताओं को अर्जित करने के साथ ही सामाजिक क्षेत्र में भी अग्रणी भूमिका निभायेगा। मीडिया प्रभारी शैलेन्द्र सिंह नरवार ने कहा कि हमारी संस्था साहित्य के साथ-साथ सांस्कृतिक व भारतीय संस्कृति पर भी अपने कार्य करेगी, ताकि हम सर्वसमाज को एक अच्छा सन्देश दे सकें। कोषाध्यक्ष कांची सिंघल ने कहा कोष व्यवस्था में सार्वजनिक प्रणाली का उपयोग किया जायेगा। ये अन्य संस्थाओं के लिये उदाहरण का कार्य करेगा। वरिष्ठ शायर एड. अमीर अहमद ने इस कदम को सराहनीय बताते हुए शुभकामनाएं दीं। वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. अमी आधार निडर ने कहा कि सभी साहित्यकारों को एक साथ आना चाहिए ताकि शासन से साहित्य सम्बंधित चर्चा मजबूती से रखी जा सके।

यह भी पढ़ें

दूसरों को फंसाने के लिए मां-बेटी को बंधक बनाकर करता रहा दुराचार

नई पौध को संरक्षण की जरूरत
कार्यक्रम में मौजूद वरिष्ठ कवयित्री पम्मी सडाना ने आगरा लिटरेचर क्लब की इस शुरुआत को साहित्य में मील का पत्थर कहा। पूनम ज़ाकिर ने ग़ज़ल के कहन को सीखने पर जोर दिया। आगरा लिटरेचर क्लब की संस्थापक व अध्यक्ष डॉ. नीतू चौधरी ने कहा कि वर्तमान समय में साहित्य को ध्रुवीकरण से बचाने की बेहद आवश्यकता है। जरूरत इस बात की भी है हम साहित्य के नयी पौध को भी सरक्षण दें, ताकि वो विशाल वृक्ष का रूप धारण कर सके। साथ ही उन्होंने बताया कि आगरा के सभी साहित्यकारों का डाटा-बैंक (आंकड़ा बैंक) तैयार किया जा रहा है, ताकि ये जानकारी में रहे कि किस विधा में कितने साहित्यकार मौजूद हैं, ताकि जरुरत पड़ने पर शासन को उपलब्ध कराया जा सके।

यह भी पढ़ें
आखिर कहां लुप्त हो गई इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर गठित रिवर पुलिस

 

ये रहे मौजूद
कार्यक्रम में काव्य पाठ भी किया। सदस्यता अभियान भी चलाया गया। कार्यकम का संचालन कवि गीतकार दीपक सरीन ने किया। कार्यक्रम में प्रमेन्द्र सिंघल, नितीश जैन, दीपा गोस्वामी, अरविन्द सिंह, अनिष मेहरोत्रा, चाँद भाई, विवेक रायजादा, रंजन शर्मा, मंजू यादव, कंचन चौधरी, सर्वज्ञ शेखर गुप्त, अनिल जैन, शीला बहल, पंकज सिंह, हरजिंदर पाल सिंह आदि मौजूद रहे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned