script भरी मीटिंग में बीडीओ ने डीएम से की हाथापाई, आगरा से लखनऊ तक पहुंचा मामला, अब पुलिस... | BDO attacked DM crowded meeting in Agra abusive language created stir in Lucknow case registered | Patrika News

भरी मीटिंग में बीडीओ ने डीएम से की हाथापाई, आगरा से लखनऊ तक पहुंचा मामला, अब पुलिस...

locationआगराPublished: Feb 10, 2024 03:54:27 pm

Submitted by:

Vishnu Bajpai

UP News: यूपी की ताजनगरी आगरा में प्रशासनिक बैठक के दौरान डीएम पर भड़के बीडीओ ने गाली-गलौच के साथ हाथापाई शुरू कर दी। इसकी सूचना से लखनऊ तक हड़कंप मचा है। इसके बाद आगरा में बीडीओ पर मुकदमा दर्ज हो गया है। फिलहाल वह फरार है। आइए जानते हैं पूरा मामला…

agra_dm_1.jpg
DM attacked in Agra: आगरा जिलाधिकारी कैंप कार्यालय में शुक्रवार को प्रशासनिक बैठक चल रही थी। इसमें डीएम भानु चंद्र गोस्वामी और खंड विकास अधिकारी (BDO) बरौली अहीर अनिरुद्ध सिंह चौहान के बीच विकास कार्यों को लेकर गहमागहमी गालीगलौज और अभद्रता में बदल गई। डीएम की बात से गुस्साए बीडीओ ने उन्हें भरी मीटिंग में जमकर गालियां दीं और अभद्रता की। आखिर में बीडीओ आस्तीन चढ़ाते बोले कि वह किसी से डरते नहीं हैं। यह कहते हुए वह सभागार से बाहर आ गए।
घटना से बैठक में मौजूद सीडीओ और दूसरे अधिकारी सन्न रह गए। इसके बाद सहायक विकास अधिकारी (ADO) खंदौली पंकज कुमार ने बीडीओ के खिलाफ रकाबगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। इसमें बताया गया है कि बीडीओ ने डीएम से मारपीट की है। वहीं डीएम ने शासन को घटनाक्रम की जानकारी देते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति की है। इस घटना को लेकर आगरा से लखनऊ तक हड़कंप मचा है। चर्चा है कि बीडीओ की नौकरी भी जा सकती है। बहरहाल इसका फैसला शासनस्तर से होना है। आगरा में बीडीओ के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस बीडीओ की गिरफ्तारी की प्रयास कर रही है।

पानी भरने की समस्या के बारे में पूछने पर उबले बीडीओ


दरअसल, आगरा डीएम की अध्यक्षता में शुक्रवार सुबह 10 बजे शासन की प्राथमिकता वाली योजनाओं की बैठक शुरू हुई। इस बैठक में सीडीओ प्रतिभा सिंह और सभी ब्लाक के बीडीओ और अन्य अधिकारी थे। बैठक शालीनता और शांतिपूर्ण ढंग से चल रही थी। इसी बीच जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी ने बरौली अहीर विकास खंड की समीक्षा की।
उन्होंने बीडीओ अनिरुद्ध प्रताप सिंह से पूछा कि नगला कली उजरई रोड पर पानी भरने की समस्या क्यों नहीं खत्म हो पा रही है। वहां तालाब बनाने के लिए किस तरह से खुदाई की जा रही है। क्षेत्रीय जनता परेशान है। इस पर बीडीओ उत्तेजित हो गए। वह बोले सारे काम मैं ही करूंगा क्या। वह अन्य सवालों के जवाब देने के बजाय डीएम से अभद्रता करने लगे। बैठक में मौजूद खंदौली के सहायक विकास अधिकारी पंचायत पंकज कुमार ने थाना रकाबगंज में दी गई तहरीर में लिखा गया है कि बीडीओ अनिरुद्ध प्रताप सिंह ने डीएम के साथ हाथापाई का भी प्रयास किया है।

आगरा से लखनऊ तक मचा हड़कंप


घटना की चर्चा आगरा से लखनऊ तक पहुंच गई है। बीडीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रतिभा सिंह, अकोला की बीडीओ सुष्मिता यादव, एत्मादपुर-खंदौली के बीडीओ अमित कुमार, बिचपुरी की बीडीओ नेहा सिंह, सहायक विकास अधिकारी पंचायत अकोला शैलेंद्र सिंह सोलंकी भी मौजूद थे। डीसीपी सिटी सूरज राय ने बताया कि एडीओ पंचायत द्वारा दी गई तरहरीर पर बीडीओ के खिलाफ सुसंगत धाराओं (323, 504, 506, 332 आईपीसी) में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। बीडीओ की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। बीडीओ का मोबाइल बंद जा रहा है। वहीं इसको लेकर सोशल मीडिया पर भी लंबी बहस छिड़ी है। लोगों का तर्क था कि उफ ये अफसर, जब डीएम के साथ ऐसा बर्ताव कर सकते हैं तो जनता की बात कैसे सुनेंगे, समस्या का निस्तारण किस तरीके से करेंगे।

आगरा डीएम ने क्या कहा?


जिलाधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी ने अभद्रता की पुष्टि करते हुए कहा कि जन समस्याओं और मुख्यमंत्री की प्राथमिकता के कार्यों में लापरवाही अक्षम्य है। इधर, घटना के बाद से आरोपित बीडीओ का मोबाइल नंबर स्विच ऑफ है। विकास भवन के अधिकारी व कर्मचारियों में इस घटना के बाद दो गुट बन गए हैं। पूरे कलेक्ट्रेट में दिन भर इसी घटना की चर्चा होती रही। लखनऊ और दिल्ली के अधिकारियों ने मामले की जानकारी के लिए कई फोन किए।

ये की गई थी शिकायत, दो महीने में कोई कार्रवाई नहीं


30 मार्च 2023 में परियोजना निदेशक ने शिकायत की थी कि उन्होंने ग्राम पंचायत चिरहौली, गढ़ी बच्ची बरहन और नवलपुर विकास खंड एत्मादपुर में मनरेगा एवं राज्य वित्त से कराए गए कार्यों के निरीक्षण में 176971 रुपये की वित्तीय अनियमितता/गबन होना पाया। तत्कालीन आयुक्त ग्राम्य विकास जीएस प्रियदर्शी ने उपायुक्त मनरेगा को 9 जून 2023 में पत्र लिखकर नाराजगी जताई थी। जानकारी मांगी थी, लेकिन दो माह बीत जाने के बाद भी की गई कार्रवाई से अवगत नहीं कराया गया।

विवादित रहा है बीडीओ अनिरुद्ध चौहान, पहले भी कर चुके हैं अभद्रता


बरौली अहीर के खंड विकास अधिकारी अनिरुद्ध चौहान पूर्व में भी चर्चित रहे हैं। साल 2022 में जिला ग्राम्य विकास अभिकरण के परियोजना निदेशक भीमजी उपाध्याय के साथ अभद्रता किए जाने पर शासन स्तर से जांच हो चुकी है। मनरेगा में गबन का मामला भी प्रकाश में आया था। इस मामले में दो माह तक जांच दबी रहने पर आयुक्त ग्राम्य विकास विभाग ने उपायुक्त मनरेगा से नाराजगी भी जताई थी। साल 2022 में बीडीओ चौहान एत्मादपुर में तैनात थे। उस दौरान परियोजना निदेशक के साथ अभद्रता का मामला हुआ था। तब बीडीओ की शिकायत आयुक्त ग्राम्य विकास से की गई थी।
उन्होंने संयुक्त आयुक्त प्रशासन ग्राम्य विकास विभाग को जांच अधिकारी बनाया था। बाद में परियोजना निदेशक ने शिकायत वापस ले ली और दोनों के बीच समझौता हो गया था। अक्टूबर 2021 को बीडीओ एत्मादपुर बने थे, वह मूलरूप से फर्रुखाबाद के रहने वाले हैं। छह फरवरी को बीडीओ बरौली अहीर बनाया गया। बरौली अहीर ब्लाक में नगला कली में गंदे पानी की निकासी की समस्या चल रही है। डीएम भानु चंद्र गोस्वामी ने स्थायी समाधान पर जोर दिया। सीडीओ प्रतिभा सिंह से संबंधित कार्य की निगरानी के लिए कहा गया था। शुक्रवार को जिस तरीके से बैठक में बीडीओ एत्मादपुर ने व्यवहार किया, इसे वहां मौजूद अधिकारी भी कुछ समझ नहीं पा रहे हैं।

अब कठिन हो जाएगी आगरा का डीडीओ बनने की राह!


प्रांतीय विकास सेवा (पीडीएस) अधिकारी अनिरुद्ध सिंह चौहान तीन साल तक बीडीओ एत्मादपुर रहे हैं। छह फरवरी को एत्मादपुर से बरौली अहीर तबादला हुआ था। बरौली अहीर के बीडीओ अमित को एत्मादपुर भेजा गया था। वहीं अनिरुद्ध सिंह चौहान का प्रमोशन भी प्रस्तावित है। वह जिला विकास अधिकारी (डीडीओ) बनेंगे, लेकिन जिस तरीके से डीएम से अभद्रता की गई, इसके बाद यह राह आसान नहीं होगी। बैठक में बीडीओ अकोला सुष्मिता यादव, बीडीओ एत्मादपुर अमित कुमार, बीडीओ बिचपुरी नेहा सिंह, एडीओ पंचायत अकोला शैलेंद्र सिंह और एडीओ पंचायत खंदौली पंकज कुमार मौजूद थे।
-आगरा से प्रमोद कुशवाह की रिपोर्ट

ट्रेंडिंग वीडियो