मोटी रकम के लिए महिला ने किया कोख का सौदा, पकड़े जाने पर खोले कई राज

- Surrogacy- लाखों रुपयों के लिए मां ने किया कोख का सौदा

- बच्चे को साढ़े तीन लाख रुपये में नेपाल दंपत्ति को बेचना का था प्लान

- पुलिस की पकड़ के बाद फ्लॉप हुआ प्लान

By: Karishma Lalwani

Published: 20 Jun 2020, 01:31 PM IST

आगरा. कहते हैं कि मां की ममता और वात्सल्य नि: स्वार्थ होते हैं। इसका कोई मोल नहीं होता। लेकिन दुनिया में कुछ किस्से ऐसे भी होते हैं, जो इसके विपरीत हैं। आगरा पुलिस ने एक ऐसे ही किस्से का भांडाफोड़ा है। अपनी कोख किराए पर देकर बच्चे पैदा करने के बाद नवजात को विदेशों में बेचने वाले एक गिरोह का आगरा पुलिस ने पर्दाफाश किया है। हरियाणा के फरीदाबाद में जन्में तीन बच्चों को लेकर कुछ महिलाएं नेपाल जा रही थीं। रास्ते में मिली पुलिस ने इनसे कुछ पूछताछ की तो बातों-बातों में पुलिस को इन पर शक हुआ। तभी पुलिस ने दो महिलाओं समेत पांच को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी महिलाएं गिरफ्तार

आगरा पुलिस को सूचना मिली कि तीन मासूम बच्चों को बेचने के लिए फरीदाबाद का गैंग कार से गोरखपुर जा रहा है। पुलिस ने लखनऊ एक्सप्रेस वे के फतेहाबाद टोल पर बैरियर लगा दिए। दोनों गाड़ियों को रोक लिया गया। इसके बाद दोनों गाड़ियों के चालक, दो महिलाओं सहित पांच लोगों को पकड़ा गया। महिलाओं को पूछताछ के लिए महिला थाने लाया गया। जहां पहले एक महिला ने यह कहकर गुमराह किया कि वह बच्चे की सगी मां है। काम से गोरखपुर जा रही थी। लेकिन उसके साथ मौजूग दूसरी महिला ने सारा सच बता दिया।

महिला ने बताया कि वह गैंग की सदस्य है। बच्चे उसके नहीं है। बिहार की एक महिला ने साढ़े तीन लाख रुपये में किराए पर अपनी कोख दी थी। महिला ने रुपये लेने के बाद फरीदाबाद में बच्चों को उनके हवाले कर दिया। महिला ने बताया कि बच्चों को नेपाल में एक दंपत्ति को देना था। दंपत्ति ने बच्चों को लेने के लिए मोटी रकम दी थी। जन्म के बाद बच्चों को उनके खरीदार माता-पिता के सुपुर्द करना था। अनलॉक में एक गाड़ी में चालक सहित दो लोग बैठ सकते हैं, इसलिए दो गाड़ियां करनी पड़ी। वे गोरखपुर होते हुए नेपाल जा रहे थे। बच्चे जिनके सुपुर्द करने थे, उनकी जानकारी पकड़े गए गैंग के सदस्य के पास है। उसे सिर्फ बच्चों को साथ ले जाने के लिए रुपये मिलने थे। इसलिए तैयार हो गई।

लॉकडाउन के कारण फरीदाबाद में डिलीवरी

महिला की डिलीवरी नेपाल में होनी थी लेकिन लॉकडाउन के कारण महिला नेपाल नहीं जा सकी। मजबूरन उसकी डिलीवरी फरीदाबाद में करनी पड़ी। एसपी देहात पूर्वी प्रमोद ने बताया कि बच्चे के लिए महिला को साढ़े तीन लाख रुपये दिए जा रहे थे। इतनी मोटी रकम के लिए महिला ने अपनी औलाद को बेच दिया। वहीं पकड़ी गई एक महिला एक बच्चे की सगी मां है। उसे कितने रुपये मिले, यह साफ नहीं हो सका है। उससे पूछताछ की जा रही है। इस गैंग में कोई डॉक्टर भी शामिल तो नहीं है, यह भी पता किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें: आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर भीषण हादसा, ट्रक से टकराई कार, पांच की गई जान

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned