दमण में जमने लगा चुनावी माहौल

दमण नगरपालिका और जिला व ग्राम पंचायत के चुनाव

 

By: Gyan Prakash Sharma

Updated: 19 Oct 2020, 12:57 AM IST

दमण. दमण नगरपालिका और जिला व ग्राम पंचायत के लिए सोमवार को अधिकांश उम्मीदवार अपने नामांकन पत्र जमा कराएंगे। अधिक मास समाप्त होने के बाद नवरात्र शुरू हो गए हैं और सोमवार को नामांकन के लिए दफ्तर खुले रहेंगे। ऐसे में अधिकांश लोग ग्राम पंचायत और सरपंच एवं सदस्य के लिए नामांकन जमा कराएंगे। अभी तक कांग्रेस पार्टी ने एक-दो प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे है। मोहन डेलकर के समर्थन वाली जेडीयू की सूची फिलहाल तैयार नहीं हुई है। भाजपा भी सोमवार को प्रत्याशियों की घोषणा करेगी और पार्टियों के मेंडेंट मिलने के बाद चुनावी रंग जमेगा। दमण में नगरपालिका भाजपा के पास और जिला पंचायत पर कांग्रेस का कब्जा था।

पढे-लिखे अच्छे प्रत्याशी की तलाश

दमण में नगरपालिका और पंचायत के लिए अच्छे प्रत्याशियों की तलाश की जा रही है। भाजपा समेत अन्य राजनीतिक दलों की यह खोज जारी है। इस बार सक्षम एवं शिक्षित महिलाएं भी चुनाव में भाग लेने आगे आ रही है।

दलबदलुओं से परेशान पार्टी नेता

सिलवासा. निकाय चुनाव में दावेदारों को टिकट नहीं मिलने पर दलबदल की राजनीति एक बार फिर से प्रदेश में जोर पकड़ रही है। चुनाव में भाजपा व जनता दल यू में सीधे मुकाबला दिखाई दे रहा है। दोनों दलों में टिकट को लेकर दावेदारों की संख्या अधिक हैं। टिकट नहीं मिलने पर नाराज पार्टी नेता दूसरे दल में शामिल होने की तैयारी भी करके बैठे है। ऐसे लोग पार्टी की परेशानी बन गए है।


जनता दल यू सांसद मोहन डेलकर समर्थित पार्टी हैं। भाजपा की तरह जनता दल यू में भी दावेदारों की संख्या बहुत हैं। दोनों दलों में टिकट नहीं मिलने पर एक-दूसरे में पाला बदलने का खेल चल रहा है। सांसद के करीबी रह चुके किशन परमार भाजपा में शामिल हो गए हैं, उन्हें नगर परिषद के वार्ड नंबर 14 से प्रत्याशी बनाया गया है। इससे पहले जिला पंचायत के निर्वतमान उपाध्यक्ष महेश गावित के सांसद खेमे से भाजपा में चले जाने से बड़ा झटका लगा था। नरोली में भाजपा के सदस्य रह चुके विजय पटेल, दिलीप हलपति व गजु हलपति डेलकर के समर्थन में आ गए हैं। दादरा के निर्वतमान उपसरपंच कमलेश देसाई भाजपा से अलग होकर डेलकर के गुट में शामिल होने से भाजपा की परेशानी बढ़ गई है। आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 21 अक्टूबर है तथा 24 अक्टूबर तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। इसके बाद चुनाव में खड़े होने वाले प्रत्याशियों की सही तस्वीर सामने आएगी।

Gyan Prakash Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned