Gujarat Congress: गांधीनगर में कांग्रेस ने किया हल्लाबोल

राजस्थान में सियासी जंग की चिंगारी गुजरात में , राजभवन पहुंचने से पहले 60 से ज्यादा नेता-कार्यकर्ता हिरासत में

 

By: Pushpendra Rajput

Published: 27 Jul 2020, 09:50 PM IST

गांधीनगर. राजस्थान (Rajasthan) का सियासी जंग गुजरात (Gujarat) तक पहुंच गया। सोमवार को गुजरात प्रदेश कांग्रेस समिति (Gujrat pradesh congress) के बैनर तले गांधीनगर स्थित राजभवन (Gujarat) के सामने भाजपा (BJP) के खिलाफ हल्लाबोल किया। 'लोकशाही बचाओ, संविधान बचाओ' के नारे लगाते हुए कांग्रेसी नेता (Congress leader) और कार्यकर्ताओं ने गांधीनगर सर्किट हाउस (circuit) से राजभवन के लिए मार्च शुरू किया है, लेकिन पहले से ही मुस्तैद पुलिस ने उनको आगे बढने से रोक दिया। कांग्रेस कार्यकर्ता हाथों में 'लोकशाही बचाओ, संविधान बचाओÓ और 'लोकतांत्रिक सरकारों की हत्या बंद करो.. बंद करोÓ नारे लिखे प्ले कार्ड हाथों में थे और नारे लगा रहे थे। बाद में पुलिस ने गुजरात प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा और गुजरात विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष परेश धानानी समेत साठ से ज्यादा नेता और कार्यकर्ताओं हिरासत में ले लिया और उनको गांधीनगर के सेक्टर-27 थाने में ले जाया गया। जहां कार्रवाई के बाद शाम को उनको रिहा कर दिया।
लोकतंत्र की हत्या कर रहा है भाजपा शीर्ष नेतृत्व
इससे पूर्व गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष अमित चावड़ा ने कहा कि भाजपा शीर्ष नेतृत्व पर 'सत्ता की उसकी भूख के लिए लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित सरकारों को गिराकर जनादेश का अपमान करने तथा लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया। यह मार्च संविधान एवं लोकतंत्र को बचाने और राजस्थान की गहलोत सरकार के साथ एकजुटता दिखाने के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के आह्वान पर राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन किया गया।
गुजरात विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष परेश धानाणी ने कहा कि लोकतंत्र पर भाजपा के हमले का सामना करना पड़ रहा है। एक के बाद एक राज्यों में भाजपा धन-बल और संवैधानिक ढांचे का दुरुपयोग कर लोकशाही प्रणाली से चुनी गई सरकारों को गिराने के प्रयास कर रही है। उससे ज्यादा निंदनीय यह है कि जहां पूरा देश कोविड-19 महामारी और अनगिनत परेशानियों से जूझ रहा है वहीं भाजपा भाजपा लोकशाही से चुनी गई सरकारों को गिराने की कोशिश कर रही है। राजस्थान की कांग्रेस जैसी सक्षम सरकार को गिराने के लिए भाजपा साजिश रच रही है, जो काफी शर्मनाक है।
नहीं थी प्रदर्शन की अनुमति
गांधीनगर के पुलिस अधीक्षक मयूर चावड़ा ने कहा कि कांग्रेस के 60 नेताओं एवं नेताओं को हिरासत में लिया। इनके पास प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं थी।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned