Gujarat: कोरोना का बढ़ता कहर....अब खुद लोग, गांव वाले, व्यापारी कर रहे हैं लॉकडाउन

Gujarat, Corona, villages, Lockdown, shops

By: Uday Kumar Patel

Updated: 20 Sep 2020, 12:43 AM IST

उदय पटेल/रोहित संगाणी/ शैलेश चौहाण/बुरहाण पठाण

अहमदाबाद/राजकोट/आणंद/हिम्मनगर/जामनगर. कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए गुजरात में अब सरकार नहीं खुद गाँव वाले, बाजार, संस्थाएं लॉक डाउन कर रहे हैं। कई लोगों के संक्रमित होने के कारण लोगों को स्वयंभू ऐसा करने पर विवश होना पड़ रहा है।
यह स्थिति आणंद जिले में एशिया के सबसे समृद्ध गाँव धर्मज से लेकर सौराष्ट्र के राजकोट, जामनगर और उत्तर गुजरात के साबरकांठा जिले तक है। इन जगहों पर कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते लॉकडाउन का निर्णय लिया गया। कई जगह पर एक सप्ताह तो कुछ जगहों पर 15 दिनों का लॉकडाउन कर संक्रमण को मात देने की कोशिश हो रही है।

राजकोट में कोरोना विकराल रूप ले रहा है। ऐसे में सोनी बाजार में 28 सितम्बर तक लॉकडाउन रहेगा। शहर के दाणापीठ, कापड़ मार्केट में भी यही स्थिति है। इन बाजारों में अलग-अलग समय के आधार पर दुकानों को बंद रखने का निर्णय लिया गया है। स्टेशनरी व्यवसाय 26 सितंबर तक स्वैच्छिक तौर पर शाम 5 बजे बाद बंद किया गया है।

कोरोना को देखते हुए राजकोट के पास शापर-वेरावल औद्योगिक जोन में स्वैच्छिक लॉकडाउन का निर्णय लिया गया जिसमें जोन की 3200 इकाइयां सप्ताह में चार दिन रोटेशन के अनुसार बंद रखा गया है।

3200 इकाइयों में में डेढ लाख श्रमिक-कर्मचारी काम करते हैं। रोटेशन के अनुसार यदि इकाइयां बंद रहेंगी तो श्रमिक नहीं होंगे। इधर पास के ही शापर गांव में भी लॉकडाउन लगाया गया है। ग्राम पंचायत ने गांव में सुबह सात से पौने चार बजे तक दुकान खुले रहेंगे।

राजकोट में ही भूपेन्द्र रोड स्थित स्वामीनारायण मंदिर को 24 सितम्बर तक बंद रखने का निर्णय लिया गया है। मंदिर के कोठारी राधारमणदास ने बताया कि शहर में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए लोगों की सुरक्षा में हित में ऐसा किया गया है।

Uday Kumar Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned