'गुंडा व अराजकतत्वों पर राज्य सरकार लगाएगी लगाम'

विधानसभा में गुजरात गुंडा व अराजक प्रवृत्ति (उन्मूलन) विधेयक-2020 पारित

By: Pushpendra Rajput

Published: 23 Sep 2020, 09:33 PM IST

गांधीनगर. गुजरात विधानसभा (Gujarat assembly) में बुधवार को गुजरात गुंडा (Gunda) व अराजक प्रवृत्ति (anti social activities) (उन्मूलन) विधेयक-2020 पारित हो गया। इस विधेयक में शराब कारोबार, जुआ, गायों की कत्ल, नशा का कारोबार, अनैतिक कारोबार, नकली दवाइयों का कारोबार, सूदखोरी, जमीन हड़पना, अपहरण अवैध तरीके से हथियार रखने जैसी अराजक प्रवृत्तियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करने के प्रावधान हैं। विधेयक में व्यक्तिगत या समूह में हिंसक प्रवृत्तियां, डरा-धमकाना, सार्वजनिक व्यवस्था को नुकसान पहुंचाना जैसी अराजक प्रवृत्तियों को गुंडातत्व की व्याख्या में शामिल किया गया है। अराजक प्रवृत्तियों में जो भी शामिल होगा या ऐसे प्रवृत्तियां करता होगा अथवा राज्य की शांति में खलल पहुंचाने की कोशिश करेगा ऐसे अराजक तत्वों को सात वर्ष से दस वर्ष तक की सजा और कम से कम पचास हजार रुपए जुर्मान का प्रावधान किया गया है। गवाहों को सुरक्षा का प्रावधान होगा और उनका नाम, पता गुप्त रखा जोगा। तीव्रता से न्यायिक जांच (judicial investigation) होगी और विशेष अदालतें (special court) स्थापित होंगी।

सदन में गुजरात अराजक प्रवृत्तियों को रोकने के संशोधित विधेयक पेश करते हुए गृह राज्यमंत्री प्रदीपसिंह जाड़ेजा ने कहा कि समाज और निर्दोष व्यक्तियों को परेशान करने वाले गुंडा और अराजक तत्वों पर लगाम लगाने राज्य सरकार ने निर्णय किया है। ऐसे लोगों के खिलाफ कानून का सख्ती से अमल किया जा सके इसके लिए कानून में विशेष प्रावधान किए गए हैं। गुंडागीरी और भय का माहौल राज्य सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी।

वापस लें विधेयक : धानाणी

इससे पूर्व विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष परेश धानाणी ने इस विधेयक के मुद्दे पर राज्य सरकार (State government) को घेरते कहा कि अपराधों पर लगाम लगाने के लिए राज्य में कानून तो कई हैं, लेकिन ऐसे कानूनों का सख्ती से अमल नहीं होता। पहले भी ऐसे कानून बनाए गए हैं। इसके चलते ऐसे कानून का कोई फायदा नहीं। यह कानून वापस लेना चाहिए।

उधर, विधानसभा में प्रतिपक्ष के उप नेता शैलेष परमार ने भी राज्य सरकार को घेरते कहा कि राज्य में पिछले 25 वर्षों से भाजपा सरकार हैं, लेकिन अपराधिक वारदातों पर लगाम नहीं लगती। हमेशा कांग्रेस पर ठीकरा फोड़ा जाता है। उन्होंने राज्य सरकार प निशाना साधते कहा कि जब सरकार आपकी है पुलिस आपकी है तो आपराधिक प्रवृत्तियां करने वालों पर कार्रवाई करें, कांग्रेस तो कभी नहीं रोका।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned