ट्रेनों के जरिए सांसों का इंतजाम

oxygen express, trains, corona pandemic, medical oxygen, western railway: पश्चिम रेलवे ने 84 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनेंं दौड़ाई

By: Pushpendra Rajput

Published: 11 Jun 2021, 10:04 PM IST

गांधीनगर/अहमदाबाद, कोरोना के शिकार मरीजों के लिए ट्रेनों के जरिए सांसों का इंतजाम किया गया। इसके लिए देशभर में अलग-अलग राज्यों के लिए ८४ ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें चलाई गईं। ये ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें गुजरात से दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, पंजाब, कर्नाटक और महाराष्ट्र्र के लिए चलाई गई हैं।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर के अनुसार पश्चिम रेलवे ने अब तक 84 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें चलाई हैं और इन ट्रेनों में 399 टैंकरों के जरिए लगभग 7420 लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन पहुंचाई गई। राजकोट मंडल में हापा से 41 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें दिल्ली, गुडग़ांव, कलंबोली, कनकपुरा और कोटा के लिए चलाई गईं। 223 टैंकरों के जरिए 4227.25 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का परिवहन किया गया। जबकि 28 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें कानालुस से बैंगलोर, गुंटूर, कनकपुरा, ओखला और सनतनगर के लिए चलाई गईं तथा 136 टैंकरों के जरिए 2542.15 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का पहुंचाई गई। अहमदाबाद मंडल में मुंद्रा पोर्ट से पाटली, सनतनगर और तुगलकाबाद के लिए 7 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें व कंटेनर चलाई गईं तथा 24 टैंकरों के जरिये 421 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का परिवहन किया गया।

इसी तरह, 8 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें भटिंडा और दिल्ली के लिए चलाई गईं, जिनमें से 5 ट्रेनें वडोदरा से चलाई गईं। 10 टैंकरों के जरिए 157.75 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का परिवहन किया गया जबकि 3 ट्रेनें हजीरा पोर्ट से चलाई गईं तथा 6 टैंकरों के जरिये 72.64 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का परिवहन किया गया से चलाई गईं। 8 जून तक भारतीय रेल ने विभिन्न राज्यों को 1603 टैंकरों के जरिये 27600 मीट्रिक टन से अधिक लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की सुपुर्दगी की जा चुकी है। भारतीय रेलवे ऑक्सीजन की जरुरत वाले राज्यों को यथासंभव कम से कम समय में अधिक से अधिक लिक्विडमेडिकलऑक्सीजन की आपूर्ति करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned